बेधड़क ...बेलाग....बेबाक

BiG News-मासूम सा दिखने वाला DON जिसने 14सितंबर को दिनदहाड़े शख्स को मारी ताबड़तोड़ 3 गोलिया फिर लिखा-Happy Birthday BOSS

गबॉस मुचकुंद शर्मा से जुर्म का ककहरा सीखने वाले किशन में बॉस के इनकाउंटर के बाद गिरोह को फिर से खड़ा किया और बॉस की तरह एक साल में बन गया इलाके का रंगबाज

1,590

पटना Live डेस्क। संगत से गुण आत है…हम सभी अमूमन ये कहावत घरों में बड़ो से सुना है या पढ़ा है। ठीक ऐसा ही कुछ हुआ है विगत एक साल से राजधानी के पश्चिमी इलाके को अशांत कर रंगदारी ख़ातिर गोलीबारी कर पुलिस और व्यापारियों को हलकान करने वाले नयका डॉन किशन कुमार के भी साथ। दरअसल, मासूम चेहरे वाले इस अपराधी ने अपने गाँव चेचौल के ही निवासी कुख्यात मुचकुंद शर्मा के साथ रहकर क्राइम का ककहरा सीखा और फिर इतनी तेजी से ताबड़तोड वारदातों को अंजाम दिया कि महज एक साल में ही पुलिस ने इसपर 25 हजार का ईनाम की अनुशंसा कर दी और STF को इसके पीछे लगा दिया।

दरअसल, दानापुर,नौबतपुर, दुल्हिनबाजार, बिक्रम, खीरी मोड़ से लेकर आरा तक पसरे इस इलाके का जिस तीव्र गति से विकास हो रहा है,उससे भी कही तेज रफ्तार से गोलियों की तड़तड़ाहट भी बढ़ती जा रही है।दरअसल,इलाके पर वर्चस्व की जंग में कई गिरोहों के बन्दूकबाज़ सक्रीय है। ज़मीन पर अवैध कब्जे से लेकर व्यवसायियों से रंगदारी वसूली के करोड़ो के गंदे धंधे में ज्यादा से ज्यादा हिस्सेदारी ख़ातिर गिरोहों की जंग में इलाके के कारोबारी पीस रहे है।पुलिस की तमाम कोशिशों के बावजूद दुःसाहसी अपराधियों की करतूतें थमने का नाम नही ले रही है।

किशन का BOSS मुचकुन्द शर्मा

इसी रंगदारी में सबसे ज्यादा हिस्सेदारी की वर्चस्व की जंग का एक बड़ा नाम बनकर उभरा था चेचौल निवासी मुचकुन्द शर्मा। मात्र 22 साल की उम्र में मुचकुंद ने जरायम की दुनिया में अपना अलग स्थान बना लिया था। हालात ये बन गए कि महज 3-4 साल में पटना के टॉप टेन अपराधियों की सूची में नौबतपुर का मुचकुंद नंबर वन पर था।नौबतपुर सहित पटना के कारोबारी मुचकुंद से खौफ खाते थे।गोलियों की बौछार कर दहशत कायम कर रंगदारी वसूलने में वो माहिर था। इसी दुःसाहसिक सरगना के साथ मासूम चेहरे वाले किशन ने लूट के पैसे के साथ अय्याशी और तामझाम वाली जिंदगी का मज़ा जाना था। इजी मनी और जबरिया शानो शौकत से प्रभावित हो मुचकुंद को अपना गुरु मान लिया और अपराध की दुनिया मे प्रैक्टिकल ज्ञान लेने लगा।

इधर, मुचकुंद की दहशत बढ़ती गई और अब उस पर पटना पुलिस ने 50 हजार का इनाम रखा दिया था।मुचकुंद पर नौबतपुर, बिहटा, आरा व आसपास के थानों में हत्या, रंगदारी, गोलीबारी करने,धमकी देने और आर्म्स एक्ट के कई मामले दर्ज थे। लेकिन इसी बीच पटना बाइपास के सटे इलाके में मुठभेड़ में एक पुलिस कमांडो को मुचकुंद गिरोह के शूटरों लुढ़का दिया।ये मुचकुंद का आखरी अपराध साबित हुआ और फिर एसटीएफ ने 13 दिसंबर 2018 को पटना के गोला रोड में मुठभेड़ में मार गिराया था।

Happy Birthday Boss – 14 सितंबर 2019

पटना पुलिस और एसटीएफ टीमों ने मिलकर कुख्यात मुचकुंद उर्फ अभिषेक कुमार को लुढ़का कर पश्चिमी क्षेत्र के शान्त और सुरक्षित रहने की उम्मीद की थी।लेकिन छोटी उम्र का किशन तो अपने बॉस के मौत के बाद दूसरे ही खेल में लग चुका था। दरअसल, वो मुचकुंद गिरोह को फिर से खड़ा करने में मुतमइन हो गया। फिर उसने धीरे धीरे बॉस मुचकुंद की मौत के बाद खुद पूरे गिरोह की बागडोर अपने हाथ में ले ली है। किशन एक बार फिर से अपने बॉस यानी मुचकुंद गिरोह को खड़ा करने को पुरी तैयारी कर चुका था। गुर्गों की पूरी फौज तैयार कर “बॉस के नाम पर दहशत फैलाने को आतुर था। यानी नौबतपुर में एक नए और बेहद दुःसाहसी रंगदार का कहर व्यवसायियों मे सिहरन पैदा करने को गोलियों की बौछार कभी भी कर सकता था।

फिर किशन में आखिरकार 14 सितंबर 2019 को
दिनदहाड़े नौबतपुर बाजार में स्थित दुकान संगीता वस्त्रालय के मालिक को बाइक पर ट्रिपल लोडिंग यानी अपने अन्य 2 साथियों संग दिनदहाड़े ताबड़तोड़ 3 गोलियां मार दी और फरार हो गया। लेकिन यह पूरी घटना सीसीटीवी में कैद हो गई। यानी किशन ने आगाज़ कर दिया। फिर उसने अपने फेसबुक प्रोफाइल पर अपने आका मुचकुंद शर्मा के साथ का एक फोटो शेयर किया और लिखा … Happy BiRthday BOSS यानी 14 सितंबर को जानबूझकर किशन ने अपने बॉस को जन्मदिन की मुबारकबाद देने ख़ातिर बाज़ार में गोलियों की तड़तड़ाहट की थी। फिर उसने लिखा कि “Boss is back नाम याद रखना ‌मुचकन्द शर्मा.”

किशन का कहर

किशन ने 14 सितंबर को अपने बॉस को हैप्पी बर्थ डे लिखने के बाद मुचकुंद शर्मा के खौफ को बरक़रार रखने का खुल्ला ऐलान कर दिया।

इस कम उम्र के बेहद दुःसाहसी ने महज 11 दिनों के अंदर 25 सितंबर को नौबतपुर थाना के समीप स्थित मिष्ठान भंडार पर ताबड़तोड फायरिंग कर पुलिस को सकते में डाल दिया वही नौबतपुर बाज़ार के दुकानदारो को खौफजदा कर दिया।

यानी, कुख्यात मुचकुंद के मौत के बाद एक बार फिर से नौबतपुर का बाजार गोलियों की तड़तड़ाहट से गूंज उठा। कारोबारी खौफ में जीने लगे। किशन व उसके गुर्गों ने दिनदहाड़े पुलिस को ठेंगा दिखाते हुए थाने से महज चंद कदमों की दूरी पर क्राइम की घटना को अंजाम देने के बाद अब किशन का खौफ कायम होने लगा।लेकिन अब चॉकलेटी डॉन के मुँह खून लग चुका था। पाव पसारना और दहशत कायम कर रकम वसूलना धंधा बना लिया था किशन ने।

मासूम चेहरे वाला लड़का अब रंगबाज़ था

फिर क्या हुआ …जानने ख़ातिर आप इस लिंक को क्लिक कर पढ़े …Fact Finding-25 हजार का ईनामी किशन वसूलता था 5 लाख हर महिने रंगदारी,होगा स्पीडी ट्रॉयल बोले IG सेंट्रल रेंज

 

Comments are closed.