बेधड़क ...बेलाग....बेबाक

BiG News-Corona ने तोड़ी साज़िद-वाजिद की जोड़ी, वाजिद हुए सुपुर्द-ए-खाक,सहारपुर से था गहरा लगाव

बॉलीवुड के मशहूर सिंगर और म्यूजिक कंपोजर वाजिद खान (Wajid Khan) का 42 वर्ष की उम्र में निधन हो गया।मशहूर सिंगर ने बीते रविवार को दुनिया को अलविदा कह दिया। उनके निधन से पूरा बॉलीवुड शोक में है।कई कलाकारों ने वाजिद खान के निधन पर ट्वीट कर शोक जताया।

4,979

- Advertisement -

पटना Live (नेशनल) डेस्क। विश्व्यापी संकट का वायस बना कोरोना वायरस की वजह से महज 42 साल की उम्र में बॉलीवुड के मशहूर सिंगर और म्यूजिक कंपोजर वाजिद खान (Wajid Khan) की मौत हो गई। वाजिद खान ने मुम्बई के सुराणा सेठिया अस्पताल में कोरोना वायरस और रिनल फेल्योर यानि हार्ट अटैक से दम तोड़ दिया। जिसके बाद अब वर्सोवा मुस्लिम कब्रिस्तान में उन्हें सुपुर्द-ए-खाक किया गया। इस कब्रिस्तान में बॉलीवुड के मशहूर एक्टर इरफान खान को भी सुपुर्द-ए-खाक किया गया था। सनद रहे कि यह साल 2020 बॉलीवुड ख़ातिर बेहद ग़मज़दा साबित हो रहा है। हाल ही में ऋषि कपूर व इरफान खान की मौत हो गई थी।

सदा के लिए टूट गई साजिद-वाजिद की जोड़ी

- Advertisement -

बॉलिवुड के फेमस डायरेक्टर्स साजिद-वाजिद की जोड़ी अब हमेशा के लिए टूट गई है। वाजिद खान का रविवार रात को मुंबई में निधन हो गया है। वाजिद खान के अंतिम दर्शन के लिए उनकी पत्नी, बच्चे और इंडस्ट्री से जुड़े कुछ लोग पहुंचे। वाजिद के भाई साजिद की आंखों से लगातार आंसू बह रहे थे। साजिद इस वक्त जिस ग़म में डूबे हैं, वह उनके चेहरे पर साफ झलक रहा था। वाजिद के अंतिम दर्शन के लिए उनके अजीज दोस्त आदित्य पंचोली भी पहुंचे।

चेंबूर के सुराना हॉस्पिटल से उनके शव को अस्पताल से सीधे कब्रिस्तान ले जाया गया। 42 साल के वाजिद खान को किडनी और हार्ट की समस्या थी जिसके कारण उन्हें हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था। वाजिद खान के निधन की खबर सुनकर हर कोई ग़म में डूब गया है।

वाजिद का सहारनपुर से था खासा लगाव

संगीतकार वाजिद खान की मौत से यूपी का सहारनपुर शहर गमगीन है। दरअसल,उनके पिता शराफत खान इसी शहर के मोहल्ला आली सराय अहमद अली के रहने वाले थे। आज भी उनका पुश्तैनी घर यहां मौजूद है। शराफत खान का जन्म इसी घर में हुआ था।वाजिद के पिता एक जाने-माने तबला वादक थे।

सहारनपुर में है वाजिद का पुश्तैनी घर

संगीतकार जोड़ी साजिद-वाजिद का यूपी के सहारनपुर नगर से बहुत गहरा रिश्ता है। उनके पिता सहारनपुर नगर के ही रहने वाले थे। आज भी उनका पुश्तैनी घर यहां मौजूद है। हर साल एक दो बार साजिद-वाजिद का यहां आना हो जाता था।उनके कई रिश्तेदार आज भी यहीं रहते हैं। वाजिद की मौत की खबर मिलने के बाद से ही यहां गम का माहौल है।

42 साल के वाजिद की मौत से सहारनपुर शहर का एक इलाका गमगीन है। दरअसल, उनके पिता शराफत खान इसी शहर के मोहल्ला आली सराय अहमद अली के रहने वाले थे। आज भी उनका पुश्तैनी घर यहां मौजूद है। शराफत खान का जन्म इसी घर में हुआ था। शराफत खान एक जाने-माने तबला वादक थे।

करीब 50 साल पहले वे सहारनपुर से निकलकर मुंबई जा पहुंचे। जहां बहुत कम समय में उन्होंने अपनी अलग पहचान बनाई। उन्होंने नौशाद और लक्ष्मीकांत प्यारेलाल समेत देश के तमाम मशहूर संगीतकारों के साथ संगत की।शराफत खान ने कामयाबी का सफर शुरू होते ही मुंबई में शादी कर ली थी।

उनके घर में तीन बेटों ने जन्म लिया। जिनमें सबसे बड़े हैं साजिद,वाजिद मझले थे और छोटे बेटे का नाम जावेद है। तीनों बेटों ने मुंबई में ही तालीम हासिल की। संगीत की शिक्षा पिता शराफत खान और फूफा इकबाल साबरी की सरपरस्ती में हासिल की। इकबाल अफजाल साबरी का नाम कव्वाली और सूफियाना संगीत की दुनिया में किसी परिचय का मोहताज नहीं। वो भी सहारनपुर से ताल्लुक रखते थे।

साजिद वाजिद की पहली एलबम भी इकबाल अफजाल साबरी के सहयोग से ही आई थी। मुंबई में शिक्षा, दीक्षा और संगीत की तालीम हासिल करने के बावजूद साजिद, वाजिद का लगाव सहारनपुर से कभी कम नहीं हुआ।शराफत खान के छोटे भाई और वाजिद के चाचा अहसान खान भी इस वक्त सहारनपुर में हैं।उनका कहना है कि उन्हें सहारनपुर आना हमेशा पसंद था।अहसान बताते हैं कि वाजिद को ताहरी बहुत पसंद थी।अहसान खान ने बताया कि साजिद-वाजिद की जोड़ी का पहला गाना भी सलमान खान के लिए था और इस जोड़ी ने आखरी गीत भी सलमान खान के लिए कंपोज किया। ‘हिंदु-मुस्लिम भाई-भाई’ टाइटल वाला ये गीत इन दिनों यूट्यूब समेत सभी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर धूम मचा रहा है।

आपको बताते चलें कि मशहूर संगीतकार वाजिद खान का 42 साल की उम्र में रविवार को निधन हो गया।पिछले हफ्ते उन्हें मुंबई में चेम्बूर के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया था।कुछ महीने पहले उनकी किडनी का ट्रांसप्लांट हुआ था और तब से उनकी सेहत ठीक नहीं थी। कुछ दिन पहले उन्हें कोरोना पॉजिटिव भी पाया गया था।

बॉलीवुड सिंगर वाजिद खान ने 2003 में यास्मीन खान से शादी की थी। कपल के दो बच्चे है इसमें एक बेटा और बेटी हैं। अक्सर इवेंट्स में यास्मीन वाजिद खान के साथ दिखा करती थीं।

31 मई की शाम

रविवार शाम उनकी तबीयत और बिगड़ गई।डॉक्टरों की तमाम कोशिशों के बावजूद उनको बचाया नही जा सका। अपने भाई साजिद के साथ वो म्यूजिक कम्पोज करते थे और दोनों भाई की जोड़ी बॉलीवुड में साजिद-वाजिद के नाम से मशहूर थी। उन्होंने कई हिट गाने दिए।खासकर सलमान के लिए दबंग जैसी फिल्मों में उन्होंने कई हिट गीत कम्पोज किए।

- Advertisement -

Comments are closed.