बेधड़क ...बेलाग....बेबाक

BiG News (Video) जज साहब पर पिस्तौल तानने के आरोप में मुजफ्फरपुर कोर्ट में अधिवक्ता की गिरफ्तारी के बाद मच गया हड़कंप

पिस्तौल तानने के आरोप में गिरफ्तार अधिवक्ता ने ADJ 12 पर जानबूझकर फ़साने और मुकदमा दर्ज करने का आरोप लगाया गया, वही वकील की गिरफ्तारी के बाबत बार एसोसिएशन मुजफ्फरपुर द्वारा न केवल विरोध दर्ज कराया गया है बल्कि कल आमसभा कर आगे की रणनीति पर विचार किया जाएगा।

502

पटना Live डेस्क। बिहार के मुज़फ़्फ़रपुर जिले के नगर थाना क्षेत्र में स्थित सिविल कोर्ट में उस समय अफरा तफरी का माहौल कायम हो गया जब एडीजे 12 के कोर्ट से नगर थाना को कॉल गया कि एक अधिवक्ता द्वारा जज साहब के ऊपर पिस्टल तान दिया गया और जान से मारने की बात कही गई। हालांकि सुरक्षा गार्ड ने उनको हिरासत में रखा है। जल्द आकर नगर थाना पुलिस अग्रिम कार्रवाई करें जैसे ही पुलिस की टीम कोर्ट परिसर पहुंची और तत्काल हिरासत में लेकर नगर थाना निकल गई। उसके बाद पूरे कोर्ट में अफरा-तफरी का माहौल कायम रहा। वकीलों के तरफ से लगातार कोशिश की गई कि मामला सुलझ जाए लेकिन अंतिम समय तक किसी भी तरह से आरोपी अधिवक्ता को जज साहब की तरफ से रिलीफ नही मिली तदुपरान्त अधिवक्ता पंकज महन्थ को उसके लाइसेंसी हथियार के साथ गिरफ्तार कर नगर थाना पुलिस ने न्यायिक हिरासत में भेज दिया। 

न्यायिक हिरासत में भेजने से पहले उक्त अधिवक्ता को नगर थाना पुलिस गिरफ्तार कर जब सिविल कोर्ट परिसर पहुंची तो अधिवक्ताओं की काफी भीड़ लग गई और सभी अधिवक्ता दो-दो हाथ करने के मूड में दिखाई देने पर आतुर दिखे।

इस पूरे मामले पर पूछे जाने पर गिरफ्तार किए गए अधिवक्ता पंकज महंत ने बताया कि पूर्व में एडीजे 14 के जज साहब के खिलाफ जिला जज को कंप्लेंट किए थे इनके द्वारा मेरे केस में बेवजह बेतूका आदेश दे दिया जाता था। जिससे मैं परेशान था। इसी कारण आज एक अन्य केस के डेट के दौरान जज साहब द्वारा जबरन अंदर बुलाया गया सुरक्षा गार्ड के द्वारा और कोर्ट तथा बैंड उतरवाकर हमारा लाइसेंसी हथियार चुना गया और उसके बाद कई घंटों तक बैठाकर रखने के बाद नगर थाना को बुलाकर झूठा मुकदमा किया गया है। यह जान बूझकर फसाया गया है।

                     वहीं दूसरी ओर बार एसोसिएशन के अध्यक्ष ने भी अधिवक्ता की गिरफ्तारी के बाद कल कोर्ट परिसर में आपातकालीन बैठक आम सभा का आयोजन किया है और कहा है कि यह सरासर गलत है ऐसे में काम कर पाना बहुत कठिन है। पूर्व में जज साहब का कंप्लेन जिला जज से जिस अधिवक्ता ने किया था। उन्हें जबरदस्ती जेल भेजा जा रहा है। कल जो आम सभा में निर्णय लिया जाएगा उसके बाद आगे का काम सभी अधिवक्ता गण करेंगे यानी अब कहा जा सकता है कि मुजफ्फरपुर में अधिवक्ता की गिरफ्तारी के बाद न्यायिक प्रक्रिया पर इसका खासा प्रभाव पड़ने वाला है। सुनिए क्या कुछ कहा गया … 

 

Comments are closed.