बेधड़क ...बेलाग....बेबाक

BiG News – देश भर में 12 अगस्त तक सारी सामान्य ट्रेनें कैंसल, रेल मंत्रालय ने लिया बड़ा फैसला, रिफण्ड होगा पैसा

भारतीय रेलवे ने फैसला किया है कि नियमित यात्री ट्रेन 12 अगस्त से पहले नहीं चलाई जाएंगी। रेलवे ने अपने बड़े फैसले को लेकर एक नया सर्कुलर जारी किया है।इसके अलावा जिन यात्रियों ने 1 जुलाई से लेकर12 अगस्त तक के बीच की टिकट को बुक कर रखा है वो रद्द हो जाएंगे, जिसका यात्रियों को पूरा रिफंड मिलेगा।

799

पटना Live डेस्क। पूरे मुल्क में कोरोना वायरस के चलते भारतीय रेलवे ने 12 अगस्त तक सभी तरह की नियमित टाइम टेबिल से चलने वाली मेल, एक्सप्रेस, पैसेंजर, लोकल ट्रेन और ईएमयू के परिचालन पर पूरी तरह से रोक लगा दी है। हालांकि विशेष ट्रेनों का परिचालन पहले की तरह होता रहेगा।इसके अलावा जिन यात्रियों ने 1 जुलाई से लेकर 12 अगस्त तक के बीच की टिकट को बुक कर रखा है वो रद्द हो जाएंगे, जिसका यात्रियों को पूरा रिफंड मिलेगा।

भारतीय रेलवे ने फैसला किया है कि 2 अगस्त 2020 तक कोई भी रेगुलर पैसेंजर ट्रेन या मेल एक्सप्रेस ट्रेन नहीं चलेंगी। इसके साथ ही रेलवे ने कहा कि जिन यात्रियों ने रेगुलर ट्रेन सेवा के लिए 1 जून से 12 अगस्त तक का टिकट बुक करवाया है, उनके सभी टिकट कैंसिल कर दिए गए हैं। जिन यात्रियों ने इन तारीखों के दौरान का टिकट लिया है उनको रेलवे टिकट का दाम रिफंड करेगा।

टिकट की कैंसिलेशन से जुड़े नए आदेश पहले जारी किए गए हैं उसी के अनुसार सामान्य समय सारणी के हिसाब से 30 जून 2020 तक बुक किये गए सभी टिकट्स के रीफंड किए जाएंगे।वहीं 01-07-2020 से 12-08-2020 तक के सभी टिकट कैंसिल किए जाएंगे और आदेश के मुताबिक इन सभी का फुल रीफंड किया जाएगा।रेलवे की ओर से बताया गया है कि स्पेशल राजधानी/मेल/एक्सप्रेस ट्रेनें जो कि 12 मई से 1 जून के बीच चल रही थीं वह चलती रहेंगी।

इससे पहले 13 मई के अपने आदेश में रेलवे बोर्ड ने कहा था कि 30 जून तक रेग्लुलर ट्रेन की बुकिंग कैंसल की जा रही है और इसमें यात्रियों को पूरा रिफंड मिलेगा। अब जबकि ट्रेन कैंसिलेशन की तारीख बढ़ा दी गई है, तो रिफंड की सुविधा भी 12 अगस्त तक कर दी गई है।इस दौरान 12 मई से चालू स्पेशल राजधानी ट्रेन और 1 जून से चालू स्पेशल मेल/एक्सप्रेस ट्रेनें पहले की तरह चलती रहेंगी।

बता दें कि ट्रेनों की शुरुआत करने से पहले रेलवे की ओर से एसओपी जारी की गई थी जिसके हिसाब से सिर्फ बिना लक्षण वाले यात्रियों को ही यात्रा करने की छूट दी जा रही थी।इसके बाद रेलवे ने अन्य यात्रियों को सुविधा देने के लिए एक जून से 100 जोड़ी नॉन एसी ट्रेनें चलाना शुरू की थीं।जिसे रेलवे ने 12 अगस्त तक बंद करने का फैसला किया है।

Comments are closed.