बेधड़क ...बेलाग....बेबाक

BiG News(वीडियो) मुंगेर के दियारा में SP लिपि सिंह के नेतृत्व 50 हजार के ईनामी संग मुठभेड़, 2 गिरफ्तार,2 घंटे तक चली गोलीबारी

156
  • साहब दियारा में एसपी के नेतृत्व में छापेमारी करती पुलिस टीम।
  • साहब दियारा में एसपी के नेतृत्व में छापेमारी करती पुलिस टीम।
  • आरोपियों सेपुलिस की राइफल, 18 इंच का एक कट्‌टा व 2 दर्जन राउंड गोलियां बरामद की गई

पटना Live डेस्क। मुंगेर प्रमंडल के मुंगेर, खगड़िया और लखीसराय जिलों के गंगा दियारा में आतंक का पर्याय व पचास हजार का ईनामी अपराधी मृत्युंजय यादव उर्फ करका और उसके सहयोगी श्याम पटेल उर्फ श्याम सिंह को हरिणापुर पुलिस थाना क्षेत्र के झौआवहियार गंगा दियारा में सात घंटों की पुलिस-मुठभेड़ के बाद शुक्रवार शाम गिरफ्तार कर लिया गया।

मुंगेर पुलिस और अपराधियों के बीच शुक्रवार दोपहर को हरिणमार थाना क्षेत्र के दियारा इलाके में दो घंटे तक मुठभेड़ हुई। इस दौरान दो अपराधियों को पुलिस ने गिरफ्तार किया। उनके पास से पुलिस की राइफल, 18 इंच का एक कट्‌टा व दो दर्जन राउंड गोलियां बरामद की गई हैं।

एसपी लिपि सिंह को सूचना मिली थी कि दियारा इलाके में कुछ अपराधी जमा हाेकर किसी वारदात को अंजाम देने की साजिश रच रहे हैं। उन्होंने पटना से एसटीएफ को बुलाया और ऑपरेशन शुरू किया। एसटीएफ और जिला पुलिस के ज्वाइंट ऑपरेशन के दौरान अपराधियों की ओर से भी गोलीबारी की गई। दोनों ओर से करीब दो घंटे तक गोलीबारी हुई। इस दौरान 50 हजार के एक इनामी अपराधी साजन मंडल को गिरफ्तार किया गया। उसकी निशानदेही पर अपराधी छिकना भी गिरफ्तार हुआ।

पुलिस ने उन दोनों के पास से पुलिस से लूटी गईं थ्री नाट थ्री पुलिस की एक राइफल, एक डीबीबीएल बन्दूक, एक देसी पिस्तौल, प्वाइंट थ्री नाट थ्री की आठ जीवित गोलियां, प्वाइंट थ्री नाट थ्री के तीन खोखे,प्वाइंट थ्री फिफ्टीन की ग्यारह जीवित गोलियां, प्वाइंट थ्री फिफ्टीन का आठ खोखा, बारह बोर की दस गोलियां और बारह बोर का दो खोखा बरामद किया। पुलिस मुठभेड़ में पुलिस ने एके 47 राइफल और सरकारी पिस्तौल से कुल अठारह चक्र गोलियां चलाईं जबकि अपराधियों ने पुलिस दल पर लगभग 70-80 चक्र गोलियां चलाईं ।

पुलिस मुठभेड़ का नेतृत्व पुलिस अधीक्षक लिपि सिंह एके-47 के साथ स्वयं कर रही थीं । उन्हें सहयोग अपर पुलिस अधीक्ष्क हरि शंकर कुमार, एसआईओयू प्रभारी इस्पेक्टर विनय कुमार सिंह, एसटीएफ के सओजी वन के सब इंस्पेक्टर विकास कुमार, कासिम बाजार थाना के थानाध्यक्ष शैलेश कुमार, जमालपुर थाना के थानाध्यक्ष रंजन कुमार, एसटीएफ और जिला पुलिस के सशस्त्र जवान कर रहे थे।

इस मुठभेड़ में पुलिस अधीक्षक लिपि सिंह ने अपनी एके-47 राइफल से दो चक्र, अपर पुलिस अधीक्षक हरि शंकर कुमार ने अपनी पिस्तौल से दो चक्र और अन्य सशस्त्र जवान ने एके-47 से अपराधियों पर गोलियां चलाईं। पुलिस अधीक्षक लिपि सिंह ने मुठभेड़ की घटना का ब्योरा देते हुए बताया कि जब गुप्त सूचना पर एसटीएफ और जिला पुलिस का दल झौआबहियार गंगा दियारा में अपराधियों को घेरने की कारवाई कर रहा था, मक्के के खेत से अपराधियों ने पुलिस पर अंधाधुंध फायरिंग शुरू कर दीं।

पुलिस ने जमीन पर लेट कर क्राउल करते हुए आगे बढ़ना शुरू किया और अपराधियों पर फायरिंग शुरू कर दीं।पुलिस ने ईनामी अपराधी और उसके सहयोगी को गिरफ्तार कर लिया,परन्तु उसके गिरोह के तीन अन्य सदस्य भाग निकलने में सफल हो गए।

पुलिस अधीक्षक लिपि सिंह ने शनिवार को प्रेस -वार्ता में यह भी उजागर किया कि गिरफ्तार दोनों अपराधियों ने पुलिस के समक्ष स्वीकार किया है कि वे लोग दियारा में निशा देवी और वीर सिंह यादव की हत्या की योजना को अमलीजामा पहनाने के लिए झौेआवहियार दियारा में कल एकत्रित हुए थे।

एसपी ने आगे बताया कि पुलिस ने पचास हजार का ईनामी खूंखार अपराधी मृत्युंजय यादव उर्फ करका को एक सहयोगी के साथ गिरफ्तार किया। साथ ही पुलिस ने दो संभावित हत्या की घटनाओं की योजना को पूरी तरह विफल कर दिया ।

एसपी ने आगे बताया कि मृत्युंजय यादव वर्ष 2012 से अबतक कुल अपने सहोदर भाई मुकेश यादव सहित चार की हत्या कर चुका है। 28 फरवरी को मृत्युंजय यादव दियारा में एकत्रित होकर अपने मृत भाई मुकेश यादव हत्या कांड की सूचक व भाभी निशा देवी और अन्य ग्रामीण वीर सिंह यादव की हत्या की योजना को क्रियान्वित करने के लिए एकत्रित हुआ था।

एसपी ने बताया कि दियारा का आतंक मृत्युंजय यादव अपने परिवार में पांच भाई था।उसके दो भाईयों की हत्या हो चुकी है।दो भाई पहले से आपराधिक कांडों में जेल में बन्द हैं । पांचवा भाई मृत्युंजय यादव गिरफ्तार होकर न्यायिक हिरासत में जेल भेजा जा रहा है। एसपी लिपि सिंह ने आशा व्यक्त की है कि पचास हजार का ईनामी खूंखार अपराधी मृत्युंजय सिंह और उसके सहयोग श्याम पटेल की गिरफ्तारी से मुंगेर, खगड़िया और लखीसराय जिलों के गंगा दियारा क्षेत्र में ग्रामीण सुकून की जिन्दगी जी सकेंगें ।

Comments are closed.