BiG News – बाहुबली माफिया विधायक मुख्तार अंसारी के बेटे के दिल्ली आवास पर छापेमारी, विदेशी बंदूक समेत करोड़ों के हथियार बरामद

467

#बाहुबली माफिया विधायक मुख़्तार अंसारी के बेटे अब्बास अंसारी के घर से मिले हथियार.                   #पुलिस ने दिल्ली स्थित आवास पर की छापेमारी

पटना Live डेस्क। वर्त्तमान में पंजाब की रोपड़ जेल में बंद उत्तर प्रदेश के मऊ के बाहुबली माफिया विधायक विधायक मुख्तार अंसारी (Mukhtar Ansari) के बेेेटे अब्बास अंसाारी दिल्ली के वसंत कुंज स्थित घर पर यूपी और दिल्ली पुलिस की संयुक्त टीम ने छापेमारी की और 4,431 कारतूस समेत भारी मात्रा में करोड़ों के हथियार बरामद किए हैं। दरअसल, हाल ही में अब्बास अंसारी पर एक लाइसेंस पर ज्यादा हथियार खरीदने के आरोप में केस दर्ज किया गया था। यह मामला यूपी पुलिस ने  लखनऊ के महानगर कोतवाली में दर्ज किया था।

लखनऊ क्राइम ब्रांच और दिल्ली पुलिस ने दिल्ली के वसंत कुंज स्थित अब्बास अंसारी के बंगले पर छापेमारी की।इस दौरान पुलिस को इटली, ऑस्ट्रिया, स्लोवेनिया की रिवाल्वर, बन्दूक और कारतूस मिले। यही नहीं, वहां से इटली और स्लोवेनिया से खरीदी गई डबल बैरल और सिंगल बैरल बंदूक भी बरामद की गई।

बता दें कि 12 अक्टूबर को लखनऊ में अब्बास अंसारी के खिलाफ एफआईआर दर्ज हुई थी। एक ही हथियार के लाइसेंस पर 5 असलहे खरीदने का मुकदमा दर्ज हुआ था। साथ ही फर्जी तरीके से आर्म्स लाइसेंस को दिल्ली ट्रांसफर कराने का भी मुकदमा दर्ज हुआ था।

इटली की बेरेटा गन से लेकर ऑस्ट्रिया की ग्लाक-25 पिस्टल के बैरल मिले

अब्बास के पास से बरामद असलहों में इटली से आयातित .12 बोर की डबल बैरल और सिंगल बैरल बेरेटा गन के साथ ही ऑस्ट्रिया की ग्लॉक-25 पिस्टल के बैरल और स्लाइड समेत तमाम असलहे मिले हैं। लखनऊ की इंडियन आर्म्स कॉर्प से खरीदी गई .300 बोर की मैगनम रायफल, दिल्ली के राजधानी ट्रेडर्स से खरीदी .12 बोर की डबल बैरल बेरेटा गन और मेरठ के शक्ति शस्त्रागार से यूएसए की .357 बोर की रगर जीपी 100 रिवाल्वर भी उसके पास से मिलीं।
स्लोवेनिया से लाई गई एक रायफल जिसमें .223, .357, .300, .30, .30-60, .308 व .458 बोर के सात स्पेयर बैरल हैं। ऑस्ट्रिया की .380 ऑटो बोर की ग्लॉक-25 पिस्टल की एक स्लाइड बैरल, ऑस्ट्रिया की ही .40 बोर की ग्लॉक-23 जेन-4 की एक स्लाइड बैरल, .22 बोर की एक अन्य विदेशी पिस्टल का स्लाइड बैरल, ऑस्ट्रिया की .380 बोर की एक मैगजीन, ऑस्ट्रिया की .40 बोर की एक मैगजीन व ऑस्ट्रिया का ही एक लोडर भी पुलिस ने जब्त किया है।
राष्ट्रीय स्तर का शूटर बताकर खरीदे असलहे
अब्बास ने खुद को राष्ट्रीय स्तर का शूटर बताकर विभिन्न बोर के असलहे खरीदे हैं। राष्ट्रीय स्तर के शूटर को सरकार न सिर्फ एक ही लाइसेंस पर कई असलहे खरीदने का लाभ देती है बल्कि ऐसे व्यक्तियों को असलहों की कीमत में भी छूट मिलती है। अब्बास ने राष्ट्रीय स्तर के शूटर होने से संबंधित दस्तावेज पुलिस को दिए हैं। महानगर इंस्पेक्टर अशोक कुमार सिंह का कहना है कि दस्तावेजों की छानबीन कराई जा रही है।
अनुमति बगैर स्थानांतरित कराया था लाइसेंस
अब्बास अंसारी मूलरूप से गाजीपुर के मोहम्मदाबाद स्थित यूसुफपुर दर्जी टोला का रहने वाला है और लखनऊ महानगर के निशातगंज स्थित मेट्रो सिटी में रहता है। उसने वर्ष 2002 में मेट्रो सिटी के ही पते से डबल बैरल गन का लाइसेंस बनवाया था। वर्ष 2015 में उसने उक्त लाइसेंस को दिल्ली के बसंतकुज स्थित किशनगंज के अपने दूसरे पते पर स्थानांतरित करा लिया।
लाइसेंस स्थानांतरित करने के लिए उसने लखनऊ के जिला प्रशासन से अनुमति नहीं ली। न ही महानगर कोतवाली की पुलिस को इसकी सूचना दी। बाद में उसने अपने लाइसेंस पर चार और शस्त्र खरीद लिए जिस पर महानगर कोतवाली के इंस्पेक्टर अशोक कुमार सिंह की तरफ से उसके खिलाफ धोखाधड़ी, तथ्य छिपाने और शस्त्र अधिनियम के उल्लंघन समेत अन्य धाराओं में केस दर्ज कराया गया था।
 STF की जाच में हुआ था फर्जीवाड़े का खुलासा
अब्बास अंसारी के एक लाइसेंस में पांच असलहे खरीदने के मामले का खुलासा एसटीएफ की जांच में हुआ था। दरअसल एसटीएफ ने उत्तर प्रदेश में अपराधिक छवि के लोगों को दिए गए शस्त्र लाइसेंस की जांच शुरू की जिसमें मुख्तार और उसके करीबी रिश्तेदारों के नाम नौ लाइसेंस जारी होने का खुलासा हुआ।
इसमें से तीन शस्त्र लाइसेंस मुख्तार और उसके बेटे अब्बास के नाम पाए गए। जांच में पता चला कि अब्बास ने जिला प्रशासन की अनुमति और स्थानीय पुलिस को सूचना दिए बगैर अपना शस्त्र लाइसेंस दिल्ली स्थानांतरित करा लिया।
दिल्ली में उसने राष्ट्रीय स्तर का निशानेबाज होने के आधार पर उक्त लाइसेंस पर चार और असलहे खरीद लिए। पुलिस का कहना है कि एक ही शस्त्र दो प्रदेशों में अलग-अलग शस्त्र लाइसेंस व अलग-अलग यूआईडी पर एक साथ अंकित होना शस्त्र अधिनियम का उल्लंघन है।
Loading...