बेधड़क ...बेलाग....बेबाक

BiG News -आखिरकार आ ही गई Corona की दवाई, जान लीजिए क्या होगी इसकी कीमत

दुनिया की बड़ी दवा बनाने वाली कंपनी ग्लेनमार्क फार्मास्युटिकल्स ने कोविड-19 से मामूली रूप से पीड़ित मरीजों के इलाज के लिए एंटीवायरल दवा फेविपिराविर को फैबिफ्लू ब्रांड नाम से पेश किया है।

3,579

पटना Live डेस्क। पूरी दुनिया मे कहर बरपा कर हजारों हजार लोगों को मौत की नींद सुलाने वाले Corona Virus संक्रमण से अबतक स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार देश में शनिवार को कोरोना वायरस के एक दिन में रिकॉर्ड 14,516 मामले सामने आए। अब देश में इस महामारी से संक्रमित लोगों की संख्या 3,95,048 हो गई है। यह महामारी अब तक 12,948 लोगों की जान ले चुकी है।

Covid-19 मामूली संक्रमण से ही सही पर निजात दिलाने वाली एक दवा मार्केट में आ ही गई है। भले ही ये दवा हल्के से मामूली लक्षणों वाले मरीजों तक का इलाज करेगी पर इस का बेहद सकारात्मक प्रभाव पड़ेगा। फार्मा कंपनी Glenmark Pharmaceuticals ने Covid-19 वायरस के इलाज के लिए दवा पेश की है।

Glenmark Pharmaceuticals ने कोरोना वायरस के इलाज में मदद करने वाली दवा को DCGI भारतीय औषधि महानियंत्रक की तरफ से इस दवा के लिए मंजूरी भी दे दी गई है। ये दवाई हल्के से मामूली रूप से पीड़ित मरीजों का इलाज करेगी। कंपनी की तरफ से जारी बयान में बताया गया है कि यह एक एंटी वायरल दवा फेविपिराविर (Favipiravir) है।

जिसे कंपनी ने फेबीफ्लू (FabiFlu) के नाम से लॉन्च किया है। यह पहली खाने वाली दवा है। इस दवा की कीमत 103 प्रति टैबलेट है। बता दें कि विश्वभर में कोरोना वायरस के इलाज को लेकर वैक्सीन तैयार करने की कोशिश की जा रही है।

कंपनी का कहना है कि पहले दिन इसकी 1800 एमजी की दो खुराक लेनी होगी। उसके बाद 14 दिन तक 800 एमजी की दो खुराक लेनी होगी। इसके अलावा DCGI ने यह भी हिदायत दी है कि इसे केवल युवाओं पर ही उपयोग किया जाए। वहीं लिवर और किडनी के मरीजों के अलावा गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं को यह दवा ना दी जाए।

 

उन्होंने कहा कि ग्लेनमार्क सरकार और चिकित्सा समुदाय के साथ मिलकर काम करेगा, ताकि देश भर के मरीजों के लिए फैबीफ्लू जल्दी पहुंच सके। यह चार दिनों के भीतर वायरल लोड में तेजी से कमी प्रदान करता है और तेजी से रोगसूचक और रेडियोलॉजिकल सुधार प्रदान करता है।उन्होंने कहा कि हल्के कोविड ​​-19 संक्रमितों के मामलों में इस दवा से 88 प्रतिशत तक सुधार हुआ है।

दवाई से इलाज के लिए करने होंगे इतने खर्च

यह दवा चिकित्सक की सलाह पर 103 रुपये प्रति टैबलेट के दाम पर मिलेगी। जबकि यह दवा 34 टैबलेट की स्ट्रिप के लिए 3,500 रुपये के अधिकतम खुदरा मूल्य (एमआरपी) पर 200 मिलीग्राम टैबलेट के रूप में उपलब्ध होगी। यानि 14 दिन के इलाज पर लगभग 14 हजार रुपये खर्च करने होंगे।

ऐसे लें खुराक

पहले दिन इसकी 1800 एमजी की दो खुराक लेनी होगी। उसके बाद 14 दिन तक 800 एमजी की दो खुराक लेनी होगी। ग्लेनमार्क फार्मा ने कहा कि मामूली संक्रमण वाले ऐसे मरीज जो मधुमेह या दिल की बीमारी से पीड़ित हैं, उन्हें भी यह दवा दी जा सकती है। खुराक से पहले डॉक्टर से सलाह लेना जरूरी है। 18 से 75 वर्ष के मरीज इस दवा का उपयोग कर सकते हैं।

कब से मिलेंगी यह दवा 
स्टोर में यह दवा सोमवार से मिलने लगेगी। टैबलेट का उत्पादन कंपनी द्वारा हिमाचल प्रदेश के बद्दी में किया जा रहा है। ग्लेनमार्क ने कहा कि यह दवा अस्पतालों और खुदरा चैनल दोनों माध्यम से उपलब्ध होगी। ग्लेनमार्क ने कहा कि कंपनी ने अपने इन-हाउस रिसर्च एंड डेवलपमेंट टीम के माध्यम से फैबिफ्लू के लिए सक्रिय फार्मास्युटिकल इंग्रीडिएंट (एपीआइ) और फॉर्म्युलेशन को सफलतापूर्वक विकसित किया है।

Comments are closed.