बेधड़क ...बेलाग....बेबाक

BiG Breaking-BCA President Rakesh Tiwari पर फर्जी रेप केस कराने के मामले में O P तिवारी के घर पर दिल्ली पुलिस की रेड

बिहार क्रिकेट एसोसिएशन के अध्यक्ष राकेश तिवारी पर बलात्कार के फर्जी आरोप के पीछे उनके ही पूर्व बेहद विश्वस्त सहयोगी ओपी तिवारी द्वारा षड्यंत्र रचने का हुआ था खुलासा, दिल्ली पुलिस ने मामला दर्ज कर ओपी की गिरफ्तारी ख़ातिर दिल्ली के पार्लियामेंट थाना की 5 सदस्यों की टीम पहुची पटना,गिरफ्तारी ख़ातिर पटना पहुचकर शुरू की छापेमारी

632

पटना Live डेस्क। राजधानी पटना के कदमकुआं थाना क्षेत्र में दिल्ली के संसद मार्ग थाना की पाँच सदस्यों की टीम ने लोहा गोदाम गली स्थित दीप लीला अपार्टमेंट में ओम प्रकाश तिवारी के घर और कार्यालय पर  स्थानिए थाना पुलिस के सहयोग से छापेमारी की है। दरअसल बिहार क्रिकेट एसोसिएशन के अध्यक्ष राकेश तिवारी के खिलाफ 7 मार्च को दुष्कर्म की कोशिश को लेकर दिल्ली के संसद मार्ग स्थित थाने में विगत वर्ष एक फर्जी मुकदमा दर्ज कराया गया था। दिल्ली पुलिस इस मामले में छानबीन में जुटी जो परते खुलने लगी और जांच में पता चला की इस फर्जी मामले के पीछे बीसीए से ही जुड़े रहे कुछ लोगो की कुत्सित मंशा काम कर रही है। जांच आगे बढ़ी तो यह साफ हुए की षड्यंत्र के पीछे ओपी तिवारी नामक शख्स का हाथ। अतः बीसीए प्रेजिडेंट को क्लीन चिट देते हुए संसद मार्ग थाना द्वारा इसी वर्ष काण्ड संख्या 27/22 दर्ज करते हुए ओपी तिवारी समेत अन्य को आरोपी बनाया गया है।

काण्ड संख्या 27/22 संसद मार्ग

बलात्कार के फर्जी आरोप के पीछे उनके ही पूर्व विश्वस्त सहयोगी के ओपी तिवारी द्वारा षड्यंत्र रचेने के खुलासे के बाद अब दिल्ली पुलिस ने मामला दर्ज कर गिरफ्तारी ख़ातिर पटना पहुच कर छापेमारी शुरू कर दी है। मंगलवार की सुबह सबेरे नई दिल्ली के पार्लियामेंट थाना की 5 सदस्यों की टीम पटना पहुची और स्थानिए कदमकुआं थाना पहुचकर केस से जुड़े कागजात साझा करते हुए सहयोग का निवेदन किया। तदुपरांत मामले की गंभीरता के देखते हुए कदमकुआ थाना पुलिस दिल्ली पुलिस की टीम के साथ दबिश देने ख़ातिर ओपी तिवारी के ज्ञात संभावित ठिकानों पर उनकी तलाश में जुटी है।

 क्या है पूरा मामला

दरअसल,बिहार क्रिकेट एसोसिएशन (Bihar Cricket Association) एसोसिएशन के अध्यक्ष राकेश कुमार तिवारी (Rakesh Tiwari) पर छेड़छाड़ और दुष्कर्म की कोशिश (Attempt Of Rape) करने के गंभीर आरोप लगाते हुए हरियाणा के गुरुग्राम की रहने वाली 30 साल की एक महिला जो कंपनी स्पोर्ट्स मैनेजमेंट इवेंट ऑर्गेनाइजेशन और एडवर्टाइजमेंट का काम देखती है उसने संसद मार्ग थाना में 7 मार्च को मामला दर्ज कराया था। बीसीए अध्यक्ष पर आरोप लगाने वाली युवती उक्त कंपनी स्पोर्ट्स मैनेजमेंट के डायरेक्टर के पद पर काम करती है। युवती ने आरोप लगाया था कि वह कंपनी की पेमेंट के बारे में बातचीत करने के लिए जब होटल पहुंची तो वहां बीसीए के अध्यक्ष राकेश तिवारी ने उसके साथ दुष्कर्म करने की कोशिश की।

अपनी शिकायत में पीड़िता ने लिखा था कि मार्च 2021 में बिहार क्रिकेट एसोसिएशन ने T20 लीग टूर्नामेंट कराया था।इस टूर्नामेंट में विज्ञापन का काम महिला की कंपनी को ही दिया गया था लेकिन काम पूरा होने के बाद बिहार क्रिकेट एसोसिएशन ने पेमेंट नहीं किया।इस बीच महिला किसी परिचित के कहने पर 12 जुलाई 2021 को बिहार क्रिकेट एसोसिएशन के अध्यक्ष राकेश कुमार तिवारी से मिलने दिल्ली में एक होटल में पहुंची जहां कंपनी के पेमेंट के सिलसिले में दोनों के बीच बातचीत हुई।

बातचीत के दौरान फायदा उठाने की नियत से राकेश तिवारी ने युवती के साथ जबर्दस्ती की। युवती ने इसका विरोध भी किया लेकिन इसका कोई असर नहीं पड़ा। महिला ने किसी तरह अपने को बचाया और आरोपी को धक्का देते हुए मौके से भाग निकली।शुरुआती दौर में बदनामी के डर से उसने इस घटना के बारे में किसी को कुछ नहीं बताया लेकिन वह इस बात को सोचकर काफी परेशान हो गई थी। आखिरकार उसने यह फैसला किया कि वह इस पूरे मामले की शिकायत पुलिस से करेगी ताकि उसे न्याय मिले।

मामला दर्ज होने के बाद जांच के लिए पुलिस की एक विशेष टीम भी गठित कर दी गई है जो पूरे मामले की छानबीन की तो मामला न केवल फर्जी साबित हुआ बल्कि इस पूरे षड्यंत्र व फर्जीवाड़े के पीछे राकेश तिवारी के कभी बेहद विश्वस्त ओपी तिवारी की ही बेहद कुत्सित भूमिका का खुलासा हुआ। खुलासे से भौचक राकेश तिवारी सन्न रह गए। उधर, संसद मार्ग थाना में एक नया मुकदमा दर्ज करते हुए दिल्ली पुलिस अब ओपी तिवारी की तलाश में पटना पहुच गई है।

Comments are closed.