बेधड़क ...बेलाग....बेबाक

जातिगत जनगणना को लेकर PM मोदी से मिले नीतीश कुमार, बोले- प्रधानमंत्री ने हमारी बात को नकारा नहीं

मुलाकात के बाद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जी ने कहा की हमारी एक - एक बात को पीएम मोदी ने गौर से सुना और समय आने पर वह इस विषय पर उचित निर्णय लेंगे…!!

905

पटना Live डेस्क। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) के नेतृत्व में नेता प्रतिपक्ष तेजस्‍वी यादव समेत 10 पार्टियों के 11 सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल जातिगत जनगणना की मांग को लेकर सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की। मुलाकात के बाद सीएम नीतीश कुमार और तेजस्‍वी यादव (Tejashwi Yadav) ने मीडिया से एक सुर में बात करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री ने बड़े गौर से उनकी बात सुनी है। अब उन्‍हें इस संबंध में निर्णय का इंतजार है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिलने के बाद नीतीश कुमार ने पत्रकारों से कहा कि प्रधानमंत्री ने हमारी पूरी बात सुनी। सबने जातिगत जनगणना के पक्ष में एक-एक बात कही है। उन्होंने हमारी बात को नकारा नहीं है, हमने कहा है कि इस पर विचार करके आप निर्णय लें।

उन्‍होंने कहा कि सभी नेताओं ने प्रधानमंत्री को जातिगत जनगणना के बारे में अब तक बिहार में हुई कोशिशों की पूरी जानकारी दी। उन्‍हें बताया कि कैसे 2019 और 2020 में प्रस्‍ताव पास किया गया।वहीं, जातिगत जनगणना को लेकर पीएम मोदी से मिलने के बाद RJD नेता तेजस्वी यादव ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हमारी बात गंभीरता से सुनी है, अब हम लोगों को उनके निर्णय का इंतजार है।

तेजस्वी यादव ने आगे कहा कि अगर कोई काम राष्ट्रहित में है और बिहार की 10 पार्टियां इस मुद्दे पर एकजुट हैं। इससे देश के गरीब या यूं कहें अंतिम पायदान पर खड़े व्यक्ति को लाभ होगा।

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने कहा कि हमने प्रधानमंत्री से कहा कि हर हालत में जातिगत जनगणना कराएं, ये ऐतिहासिक निर्णय होगा। उन्होंने बहुत गंभीरता से हमारी बात सुनी है, इसलिए हमें लगता है कि जल्दी ही कोई निर्णय होगा।

आपको बता दें कि मुख्यमंत्री नीतीश ने चार अगस्त को पत्र लिखकर प्रतिनिधिमंडल के साथ मिलने का वक्त प्रधानमंत्री से मांगा था। प्रधानमंत्री कार्यालय की तरफ से मुख्यमंत्री को पत्र मिलने की जानकारी दी गई थी। इसके बाद मुख्यमंत्री ने कहा था कि प्रधानमंत्री जब समय देंगे तब जाकर मिलेंगे।

बिहार में जातीय जनगणना कराने को लेकर राज्य की सियासत गर्म है। विपक्षी पार्टियों के अलावे सत्ताधारी जदयू और हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा भी जाति आधारित जनगणना कराने की मांग कर रहा है।

Comments are closed.