BiG News -बोधगया ब्लाष्ट का मास्टरमाइंड कोलकाता से हुआ गिरफ्तार, रच रहा था प्रेसीडेन्सी जेल से आरोपी कौसर को छुड़ाने के लिए आतंकी हमले की तैयारी  

48

पटना Live डेस्क। बिहार के बोधगया धमाके के मुख्य आरोपी अताउर उर्फ आरिफ को कोलकाता पुलिस की स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) के जवानों ने शनिवार सुबह दबोच लिया। बांग्लादेश के आतंकी संगठन ‘जमात-उल-मुजाहिन, बांग्लादेश’ का सक्रिय सदस्य 22 वर्षीय अताउर ने ही 19 जनवरी 2018 को बोधगया में 4 बम प्लांट किए थे। एनआईए को लम्बे समय से अताउर की तलाश थी। पहले पकड़े गए आतंकियों से पूछताछ में मिली ठोस जानकारी के आधार पर विशेष अभियान चलाकर एसटीएफ टीम ने उसे बाबूघाट से गिरफ्तार किया। डीसी, एसटीएफ मुरलीधर शर्मा ने बताया कि अताउर से पूछताछ की जा रही है। उसके पास से कोलकाता का एक नक्शा, एक चिट्ठी और कुछ कागजात जब्त किए गए हैं। विस्तृत जांच की जा रही है।

अताउर मूल रूप से असम के बारपेटा थाना क्षेत्र के पानपाड़ा का रहने वाला है। प्राथमिक जांच में उसने खुलासा किया है कि गत 19 फरवरी को बिहार के विश्व प्रसिद्ध बोधगया मंदिर में इंप्रोवाइज्ड एक्सप्लोसिव डिवाइस (आईईडी) प्लांट करने और विस्फोट के बाद वह बेंग्लूरु भाग गया था। वहां वह अपने अन्य आतंकी साथियों के साथ मिलकर डकैती आदि करता था। विशेष मकसद से पिछले कुछ महीने से कोलकाता में रह रहा था।

कौसर को छुड़ाने खातिर जेल पर आतंकी हमले की थी योजना

अताउर कोलकाता की प्रेसीडेन्सी जेल में बंद संगठन के एरिया कमांडर व खागड़ागढ़ बम विस्फोट काण्ड के मास्टरमाइंड और बोधगया विस्फोट काण्ड के आरोपी कौसर को छुड़ाने के लिए आतंकी हमले की तैयारी में था।कौसर की पेशी के दिन साथियों के साथ प्रिजन वैन पर हमला कर उसे छुड़ाने की फिराक में था। इससे पहले बांग्लादेश में आतंकी हमला कर उसने कौसर को पुलिस की चंगुल से छुड़ा लिया था, लेकिन उसके पहले एसटीएफ को कोलकाता में उसकी मौजूदगी की सूचना मिल गई और शनिवार सुबह उसे कोलकाता के बाबूघाट इलाके से गिरफ्तार कर लिया गया। अताउर के पास से इस संबंध में कुछ कागजात जब्त किए गए हैं। उससे पूछताछ कर उसके अन्य साथियों के बारे में पता लगाने की कोशिश की जा रही है।

Loading...