बेधड़क ...बेलाग....बेबाक

BiG News -SHO ने महिला ASI को गोली मारी, फिर खुद को गोली से उड़ाया, एसएचओ की मौत, महिला ASI घायल

कार का विवाद बताया घायल ASI ने, कमिश्नर बोले प्रेम प्रसंग का मामला, मक़तूल SHO ने की थी तीन शादियां, 3 दिन की छुट्टी लेकर पहुचे थे भोपाल से इंदौर

835

पटना Live डेस्क। मध्य प्रदेश के इंदौर से एक बेहद सनसनीखेज खबर आई है। इन्दौर पुलिस कंट्रोल रूम में तैनात एक महिला सहायक दरोगा (ASI) को एक थाने के प्रभारी ने अचानक इंस्पेक्टर ने गोली मार दी। इसके बाद थाना प्रभारी ने खुद को भी गोली से उड़ा लिया।इस ख़रेजी की घटना में थाना प्रभारी की दर्दनाक मौत हो गई जबकि महिला सहायक दरोगा गंभीर रूप से घायल है। इस घटना से पूरे इंदौर पुलिस विभाग में हड़कंप मच गया। वहीं गोलीबारी में घायल महिला सहायक दरोगा को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। शुरुआत से प्रेम-प्रसंग का मामला बताया जा रहा है।लेकिन आधिकारिक तौर पर इसकी अबतक पुष्टि नहीं हो पाई है।

कुछ देर बात हुई फिर मार दी गोली

मिली जानकारी के अनुसार राजधानी भोपाल के श्यामला हिल्स थाने में तैनात थाना प्रभारी हाकमसिंह पंवार 24 जून की दोपहर इंदौर के पुलिस कंट्रोल रूम में आए थे। इस कंट्रोल रूम में एक महिला दरोगा से मुलाकात की और फिर कुछ देर तक दोनों में बातचित हुई। इसके बाद थाना प्रभारी हाकमसिंह ने सर्विस रिवाल्वर निकाली और महिला पुलिसकर्मी को गोली मार दी। फिर थोड़ी देर बाद खुद को भी गोली मार ली। अचानक हुई गोलीबारी से कोहराम मच गया। जब तक कोई कुछ समझ पाता महिला पुलिसकर्मी खून से लतपथ ज़मीन पर गिरी तड़प रही थी और हाकमसिंह की मौत हो गई।

इस घटना में घायल महिला पुलिसकर्मी आननफानन अस्पताल में भर्ती कराया गया। वही थाना प्रभारी हाकमसिंह के शव का पंचनामा कर आगे की प्रक्रिया प्रारंभ कर दी गई। घटना की जानकारी मिलते ही पुलिस कमिश्नर हरिनारायणचारी मिश्र भी पुलिस कंट्रोल रूम पहुंचे।

बोले पुलिस कमिश्नर

पुलिस कमिश्नर हरिनारायण चारी मिश्र ने मीडिया को बताया कि एक टीआई जिनकी पोस्टिंग भोपाल में थी वो पहले इंदौर आए।इसके बाद कार्यालय में तैनात महिला एएसआई को गोली मार दी।शुरुआती जांच में मामला प्रेम प्रसंग का लग रहा है।लेकिन जांच पूरी होने के बाद ही स्थिति साफ हो सकेगी।

घायल महिला एएसआई ने खोले राज़

इंदौर में भोपाल के टीआई हाकम सिंह का महिला एसआई रंजना खांडे पर गोली चलाना और फिर खुद को गोली मारकर खुदकुशी करना। इसके पीछे कार को लेकर विवाद था। खुद टीआई की गोली से बची महिला एसआई ने पूरी कहानी बताई। महिला एसआई ने कहा कि उसने टीआई से कार खरीदी थी, लेकिन वो कार देने कोलेकर ना-नुकुर कर रहे थे। इस बात को लेकर महिला एसआई ने भोपाल में टीआई हाकम सिंह की शिकायत की थी। इसके बाद वो इस मामले को सुलझाने के लिए इंदौर आए थे। इसी दौरान कार की बात को लेकर ही दोनों के बीच झगड़ा हुआ और ये वारदात हो गई।

वहीं, टीआई हाकम सिंह से प्रेम प्रसंग की बात पर महिला एसआई ने कहा कि वो उनके पिता समान थे। बहुत अच्छे इंसान थे, लेकिन न जाने क्यूं उन्होंने ऐसा कर दिया। हम कोई भेड़ बकरी नहीं, जो हम पर ऐसे गोली चला दे। महिला एसआई ने कहा कि इंदौर में पोस्टिंग के दौरान ही उनकी टीआई से पहचान हुई थी।

तीन दिन की छुट्‌टी लेकर गए थे इंदौर

भोपाल के एडिशनल डीसीपी रामस्नेही मिश्रा का कहना है कि टीआई हाकम सिंह 6 फरवरी 2022 को भोपाल के श्यामला हिल्स थाने में पदस्थ हुए थे। वह खटलापुरा इलाके में फ्लैट लेकर किराए से रहते थे। मूलत: तराना उज्जैन के रहने वाले हाकम सिंह भोपाल में अकेले रहते थे। 21 जून को तीन दिन की छुट्टी लेकर गए थे। गुरुवार को उन्हें जॉइन करना था। 58 साल के टीआई हाकम सिंह कॉन्स्टेबल पद पर पुलिस में भर्ती हुए थे।वह इंदौर, महेश्वर, राजगढ़, खरगोन और भोपाल में पदस्थ रहे। बताया जा रहा है कि हाकम सिंह ने 3 शादियां की थी

कार का विवाद निपटाने गए TI खुद निपट गए

घायल सब इंस्पेक्टर रंजना खांडे ने डीसीपी जोन-3 भोपाल रियाज इकबाल को शिकायती आवेदन दिया था। आवेदन उसने भाई के नाम से था। जिसने बताया कि श्यामला हिल्स थाना प्रभारी हाकम सिंह पंवार उसकी कार नहीं दे रहे हैं। डीसीपी रियाइज इकबाल ने  जांच एडिशनल डीसीपी रामसनेही मिश्रा को दी थी।

जांच में सामने आया था कि कार एएसआई के भाई के नाम से रजिस्टर्ड है। इस पर पुलिस अधिकारियों ने टीआई के बयान भी लिए थे। जिसमें टीआई ने कहा था कि कार में मेरा पैसा लगा है। सब इंस्पेक्टर पैसा वापस नहीं दे रही, इसलिए मैंने कार रख ली। लेकिन टीआई ऐसे कोई दस्तावेज नहीं दे सके, जिससे ये साबित हो सके कि सब इंस्पेक्टर को कार खरीदने के लिए पैसा दिया था।

इस पर अधिकारियों ने उन्हें अपने स्तर पर मामला सुलझाने के लिए कहा था। इसके बाद 21 जून को बीमारी का हवाला देकर टीआई छुट्‌टी पर इंदौर चले गए। शुक्रवार को मामला निपटाने के लिए महिला सब-इंस्पेक्टर को बुलाया। महिला सहायक सब-इंस्पेक्टर को उन्होंने बात करने के लिए अकेले में बुलाया। जहां उसे गोली मार दी। इसके बाद खुद खुदकुशी कर ली।

Comments are closed.