बेधड़क ...बेलाग....बेबाक

देखिए … सुशासन के दावों की हकीकत… न नियम न कानून सिर्फ साहेब व मैडम का जब जैसा मूड…. कोई थप्पड़बाज़ तो कोई लट्ठबाज़

341

पटना Live डेस्क। सूबे में सुशासन के दावे है। लेकिन ऐसा हक़ीक़त में है क्या? अब तो ऐसा लग रहा है जैसे बिहार के प्रशासनिक अधिकारियों को आम जनता पर लाठी डंडा चलाने का बुखार चढ़ गया है। सरकारी अमले की दबंगई का शिकार रोज़ ब रोज़ आम आदमी हो रहा है। आए दिन अलग अलग जिलों से लोगों को डंडे से पीटने का वीडियो सोशल मीडिया पर सामने आते रहते है। लेकिन सरकार की अनदेखी जारी है।

                    जिसका फलाफल यह है कि गोपालगंज की डीएसपी ज्योति कुमारी के वायरल वीडियो पर अभी प्रतिक्रिया आनी थमी भी नहीं थी की एक नया मामला सामने आ गया है। अब छपरा के एसडीओ योगेन्द्र कुमार का डंडे बरसाने का वीडियो वायरल हो रहा है।

मढ़ौरा के एसडीओ योगेन्द्र कुमार

छपरा जिले के मढ़ौरा के एसडीओ योगेन्द्र कुमार का एक वीडियो सोशल मीडिया पर बड़ी तेजी से वायरल हो रहा है। वीडियो में देखा जा जा सकता है की बाइक पर सवार हो कर दो युवक बिना हेलमेट पहने कहीं जा रहे थे।इसी दौरान मढ़ौरा एसडीओ योगेन्द्र कुमार की नजर इन युवकों पर पड़ गई और उन्होंने डंडे बरसाना शुरू कर दिया।

घटना के दौरान जिले में लगी थी धारा 144

बताया जा रहा है की यह घटना सोमवार की है। उस दौरान जिले में धारा 144 लगी हुई थी। जिसको लेकर एसडीओ योगेन्द्र कुमार अनुमंडल क्षेत्र में सुरक्षा का जायजा लेने के लिए निकले थे।इसी दौरान जब वह अपनी टीम के साथ सड़क पर खड़े थे उसी वक्त बाइक पर सवार होकर दो युवक बिना हेलमेट लगाए आ रहे थे। एसडीओ ने जब यह देखा तो उन्होंने दनादन युवकों पर डंडे बरसाने शुरू कर दिए।

कौन हैं योगेंद्र कुमार

योगेंद्र कुमार बिहार प्रशासनिक सेवा 56-59 बैच के हैं। एसडीओ योगेन्द्र कुमार सितंबर 2021 से मढ़ौरा में कार्यरत है।इससे पहले वह आरा के पीरो अनुमंडल में पीजीआरओ और उससे पहले आरा में ही जगदीशपुर अनुमंडल में बतौर एएसडीओ के पद पर काम कर चुके हैं।

पहले भी घटी है ऐसी घटना

बिहार में यह ऐसी पहली घटना नहीं है।इससे पहले भी गोपालगंज की डीएसपी ज्योति कुमारी का भी एक वीडियो वायरल हुआ था। वीडियो में डीएसपी ज्योति कुमारी भी युवकों के हेलमेट नहीं पहनने की वजह से उन पर थप्पड़ बरसा रहीं थी। इसके साथ ही उन्होंने युवकों की डंडे से भी पिटाई की थी।देखिए viral Video

Comments are closed.