बेधड़क ...बेलाग....बेबाक

ग़ज़ब ! कुत्ते ख़ातिर स्टेडियम के बाद DM की गाय हुई बीमार इलाज के लिए बारी-बारी से 7 दिन तक लगाए गए 7 डॉक्टर शाम 7 बजे तक

फतेहपुर की डीएम अपूर्वा दुबे की गाय हुई बीमार,इलाज के लिए बारी-बारी से लगाए गए 7 डॉक्टर, सरकारी आदेश वॉट्सएप ग्रुप में वायरल होने के बाद सरकारी महकमे में हड़कंप मच गया है और पशु चिकित्सा विभाग के अधिकारी व कर्मचारी इस मामले में पल्ला झाड़ रहे हैं।

112

पटना Live डेस्क।देश को सही मायनो में आईएएस आईपीएस ही चलाते है यह बारम्बर और लगातार तमाम मौकों पर देखा गया है।तभी तो इनकी ठसक और रुतबा रुआब जो न कर गुजरे कम है। अभी विगत दिनों आईएएस कपल द्वारा अपने प्यारे कुत्ते ख़ातिर स्टेडियम खाली कराने की खबर देशवासियों के जेहन में तरोताज़ा है इसी बीच एक गाय चर्चा का विषय बन गई है। दरअसल गाय मामूली नही है। वो एक आईएएस की गाय है।

                    उत्तर प्रदेश के जिले फतेहपुर से एक अनोखा मामला सामने आया है। जिसे सुनकर हर कोई हैरान हो जाएगा। राजा महाराजाओं के समय राजशाही अंदाज देखने को खूब मिलता था। जो अपनी सुविधाओं की पूर्ति के लिए लोगों की ड्यूटी लगाकर रहते थे। लेकिन अब ऐसा ही अंदाज अधिकारियों में भी देखने को मिल रहा है। राजशाही अंदाज में अधिकारियों का रहन सहन शोभा नहीं देता क्योंकि वो एक ऐसे पद में है जिसमें वो जनता की समस्याओं को सुनकर समाधान कर सकते है। लेकिन जब वहीं अपने पद का गलत तरीके से इस्तेमाल करते तो वो बेहद ही गलत है। दरअसल फतेहपुर की डीएम के अंदर राजशाही अंदाज देखने को मिल रहा है।

शहर की डीएम ने अपने राजशाही अंदाज में अपने गाय के इलाज के लिए सात डॉक्टरों की सूची तैयार की है। इतना ही नहीं पूरे हफ्ते के लिए अलग-अलग डॉक्टर निर्धारित किए गए है। जिसको देखकर हर कोई हैरान है क्योंकि अक्सर लोग इंसानों के इलाज के लिए भी डॉक्टर की ड्यूटी लगाते है तो उसमें भी पूरे हफ्ते अलग-अलग नहीं होते। पूरे हफ्ते के लिए अलग-2 डॉक्टरों की सूची तो राजशाही अंदाज वाले लोग ही कर सकते है। ऐसा अंदाज अधिकारियों में अक्सर देखने को मिल जाता है। जैसा की फतेहपुर की डीएम ने किया है।

डॉक्टर की अनुपस्थित में ये करेंगे इलाज

बता दें कि एक पत्र फतेहपुर के मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी डॉ. संदीप कुमार तिवारी ने जारी किया है। उन्होंने पत्र में दिए गए कार्यों के प्रति शिथिलता को बरतने पर पशु डॉक्टरों को सीधे कार्रवाई की चेतावनी दी है। वहीं दूसरी ओर पत्र सामने आने के बाद इस मामले में डीएम अपूर्वा दुबे की तरफ से अभी तक कोई जवाब नहीं सामने आया है। सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहे इस लेटर में डीएम अपूर्वा दुबे की गाय की देखभाल करने का आदेश है। इसके लिए मुख्य पशु अधिकारी डॉ. संदीप कुमार तिवारी ने 9 जून को पत्र जारी किया था। इतना ही नहीं नोट कर लिखा है कि किसी भी पशु चिकित्साधिकारी की अनुपस्थिति में उस दिन का काम डॉ दिनेश कुमार कन्नौजिया पशु चिकित्साधिकारी दमापुर करेंगे। उक्त कार्य में शिथिलता अक्षम्य है।

हफ्तानुसार डॉक्टरों की सूची है तैयार

             पत्र में जिले के डॉ मणीष अवस्थी पशु चिकित्साधिकारी भिटौरा सोमवार को, डॉ भुवनेश कुमार पशु चिकित्साधिकारी ऐरायां मंगलवार को, डॉ अनिल कुमार पशु चिकित्साधिकारी उकाथू बुधवार को, डॉ अजय कुमार दुबे पशु चिकित्साधिकारी गाजीपुर गुरुवार को, डॉ शिवस्वरूप पशु चिकित्साधिकारी मलवां शुक्रवार को, डॉ प्रदीप कुमार पशु चिकित्साधिकारी असोथर शनिवार को, डॉ अतुल कुमार पशु चिकित्साधिकारी हसवा रविवार को जारी पत्र में देखभाल करने के लिए निर्देशित किया गया था। आपको बता दें कि अपूर्वा दुबे कानपुर के डीएम विशाख की पत्नी हैं।

Comments are closed.