(ब्रेकिंग) ‘आत्मघाती नुक्कड़ नाटक थी राजद की भागलपुर रैली’,सीएम नीतीश कुमार ने कहा-‘थोड़ा इंतजार कीजिए बहुत जल्द पता चल जाएगा’

पटना Live डेस्क. भागलपुर में रविवार को राजद की रैली में लालू प्रसाद और उनके दोनों बेटों की तरफ से मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और डिप्टी सीएम सुशील मोदी पर जमकर निशाना साधा गया था..यहां तक कि भाषण के दौरान सीएम के खिलाफ भाषाई मर्यादा भी तार-तार हुई..व्यक्तिगत आरोप भी लगे…लेकिन आज मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने लालू प्रसाद द्वार लगाए गए आरोपों पर तंज कसते हुए कहा कि भागलपुर की रैली आत्मघाती नुक्कड़ नाटक थी..इससे ज्यादा कुछ नहीं..सीएम ने कहा कि उससे नुकसान उन्हीं लोगों को होने वाला है…उऩ्होंने कहा कि रैली में मेरे बारे में कैसी-कैसी बातें की गईं…मर्यादा की सारी सीमा लोगों ने लांघ दी..लोगों की जुबान काबू में नहीं रहती…उन्होंने कहा कि सृजन स्कैम को लेकर कई तरह की बातें कही जा रही है.. लेकिन मेरा कहना है कि जिनके पास भी प्रूफ है या डॉक्यूमेंट हैं वो सीबीआई को दे.. हर पहलू की जांच की जा रही है, किसी को बख्शा नहीं जाएगा..उन्होंने कहा कि मेरे खिलाफ भागलपुर में क्या क्या नहीं बोला गया.. थोड़ा इंतजार कीजिए बहुत जल्द पता चल जाएगा..

नीतीश कुमार ने कहा कि जो लोग सृजन घोटाले को लेकर हल्ला मचा रहे हैं उन्हें सोचना चाहिए कि क्या बोल रहे? मैं तो कह रहा हूं कि जिन्हें सीबीआइ जांच पर भरोसा नहीं वो कोर्ट का दरवाजा खटखटा सकते हैं.. आपको अपनी बात कहने का पूरा हक है और सीबीआइ जांच पर शक हो तो दस्तावेज लेकर हाइकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट जाएं…

उन्होंने कहा कि सृजन घोटाले की बात पता चलते ही सबसे पहले मैंने ही जांच करने आदेश दिया था, पहले पुलिस ने जांच की एसआइटी की टीम बनाकर जांच की गई फिर राज्य सरकार ने ही सीबीआइ जांच की अनुशंसा की और फिर जब जांच चल रही है और परत-दर-परत खुल रहे तो अब जांच पर भी सवाल उठाया जा रहा है…

नीतीश ने कहा कि सरकार को जो करना था कर चुकी, अब लोगों को जो कहना हो कहें, लेकिन जो भी दोषी पाए जाएं उन्हें बख्शा नहीं जाएगा… ये बातें नीतीश कुमार ने लोक संवाद कार्यक्रम के बाद मीडिया से बातचीत में कहीं.. उन्होंने कहा कि सृजन घेटाले को लेकर बेवजह का हंगामा किया जा रहा है.. जब जांच चल रही है तो भरोसा करना चाहिए, दूध का दूध और पानी का पानी हो जाएगा..