बेधड़क ...बेलाग....बेबाक

BiG News – कोविशील्ड की कीमत तय, 400 में राज्य सरकार को मिलेगा तो वही प्राइवेट अस्पतालों 600 रुपये में एक डोज

सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (SII) ने कोरोना की कोविशील्ड वैक्सीन (Covishield Vaccine) की कीमतों का ऐलान कर दिया है। कंपनी का कहना है कि राज्यों को यह 400 रुपये की मिलेगी जबकि निजी अस्पतालों को इसके लिए 600 रुपये चुकाने होंगे।

205

पटना Live डेस्क। पूरे देश मे कोरोना संक्रमितों की बढ़ती संख्या के बीच सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (SII) की तरफ एक अच्छी खबर आई है। सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (SII) ने कोरोना की कोविशील्ड वैक्सीन (Covishield Vaccine) की कीमतों का ऐलान कर दिया है। कंपनी का कहना है कि राज्य सरकारों को यह 400 रुपये की मिलेगी जबकि निजी अस्पतालों को इसके लिए 600 रुपये चुकाने होंगे। अभी सरकारी अस्पतालों में यह मुफ्त में लग रही है जबकि निजी अस्पतालों में इसकी कीमत 250 रुपये है। .यानी अगले महीने से प्राइवेट अस्पतालों में कोविशील्ड वैक्सीन लगाने के लिए आपको 700 रुपये (वैक्सीन की कीमत और चार्ज) चुकाने पड़ सकते हैं।

इंस्टीट्यूट ने कहा है कि वैक्सीन की कुल उत्पादन का 50 फीसदी टीका को केंद्र सरकार के टीका करण अभियान को देगी। शेष 50 फीसदी टीका वह राज्य सरकारों और निजी अस्पतालों को देगी।

सीरम इंस्टीट्यूट ने दावा किया है कि उसकी वैक्सीन विदेशी वैक्सीनों के मुकाबले काफी सस्ती है। सीरम इंस्टीट्यूट ने एक पत्र जारी कर बताया है कि अमेरिकी वैक्सीन 1500 रुपये प्रति डोज है, वहीं रूसी वैक्सीन की कीमत 750 रुपये प्रति डोज और चीनी वैक्सीन की कीमत प्रति डोज 750 रुपये है।

                      प्रधानमंत्री मोदी ने ने मंगलवार को राष्ट्र को संबोधित करते हुए कहा था कि अब राज्य सरकारें टीके को सीधे खरीद सकेंगी, जबकि केंद्र सरकार अपना इनोक्यूलेशन ड्राइव जारी रखेगी।हाल ही प्रधानमंत्री ने कोरोना संक्रमण को देखते हुए एक बैठक की थी। इस बैठक में निर्णय लिया गया था कि एक मई से देश में कोराना वैक्सीनेशन का चौथा चरण शुरू किया जाएगा। इस चरण में 18 वर्ष से अधिक उम्र वाले लोग भी टीका लगवा सकेंगे।

बता दें कि अभी देश में कोरोना वैक्सीनेशन का तीसरा चरण चल रहा है। इस चरण में 45 साल से अधिक उम्र वाले टीका लगवा सकते हैं। हालांकि दिल्ली, पंजाब और महाराष्ट्र जैसे राज्यों के मुख्यमंत्रियों की ओर से युवाओं को भी टीका लगाए जाने की मांग की थी।

Comments are closed.