बेधड़क ...बेलाग....बेबाक

Exclusive-एक और घूसखोर रिश्वत मे 15 हज़ार कैश लेते रंगे हाथ चढ़ा निगरानी के हत्थे, जानिए कौन है वो

निगरानी दस्ते ने नवादा में एक घूसखोर प्रधान लिपिक को किया गिरफ्तार, पहले किस्त में 15 हजार रू ले रहा था रिश्वत

444

पटना Live डेस्क। बिहार सरकार के रिश्वतखोर अधिकारियों और कर्मचारियों के खिलाफ निगरानी विभाग की मुहिम लगातार जारी है। इसी क्रम निगरानी अन्वेषण ब्यूरो की टीम ने नवादा जिला के संयुक्त औषधालय के प्रधान लिपिक रमेश चौधरी को घुस लेते रंगे हाथ उसके दफ्तर से ही धर दबोचा है।

घूसखोर रमेश चौधरी की गिरफ्तारी नवादा स्थित उसके संयुक्त औषधालय कार्यालय कक्ष से की गई है। दरअसल, डॉक्टर नित्यानंद प्रसाद ने 12 मार्च 2021 को निगरानी ब्यूरो में संपर्क कर अपनी शिकायत दर्ज कराई थी। जिसमें प्रधान लिपिक रमेश चौधरी पर उन्होंने अपने वेतन के एरियर का भुगतान करने के लिए 35 हजार रिश्वत मांगने का आरोप लगाया था।

मिली शिकायत पर जब मामले की जाँच की गई तो मामला सही पाया गया। तब रिश्वत खोर रमेश चौधरी की गिरफ्तारी ख़ातिर एक टीम का गठन किया गया। इस टीम ने पहले किस्त तौर पर 15 हज़ार कैश लेते हुए प्रधान लिपिक को गिरफ्तार कर लिया।घुसलेते गिरफ्तार किए गए रमेश चौधरी को पटना की निगरानी कोर्ट में पेश करने ख़ातिर निगरानी दस्ते उन्हें साथ लेकर पटना ख़ातिर प्रस्थान कर चुका है। 

Comments are closed.