मोतिहारी: गुरमीत राम रहीम को लेकर फैली हिंसा का शिकार हुआ युवक,कर्फ्यू लगने के दौरान गोली लगने से हुई मौत

85

पश्चिम चंपारण/शकील अहमद

पटना Live डेस्क. डेरा सच्चा सौदा प्रमुख बाबा गुरमीत राम रहीम को न्यायालय द्वारा दोषी पाये जाने के बाद भड़की हिंसा में मोतिहारी जिले के भी एक युवक के मारे जाने की खबर है..मृतक युवक ढाका थाना क्षेत्र के करमावा गांव का मोहन राउत है.. वो पंजाब के सोहाना में मजदूरी करता था. रविवार रात गोली लगने के बाद सोमवार सुबह उसकी मौत हो गई… ऐसा मोहन के भाई बद्री राउत ने दावा किया है..बद्री राउत ने बताया कि इस गांव के दो सौ से ज्यादा लोग वहां रहकर काम करते हैं.. मोहन राउत 15 सालों से सोहाना में मजदूरी करता था.. वहां रहने के लिए उसके पास कोई ठिकाना नहीं था.. जहां जगह मिलती थी, वहीं सो जाता था.. बाबा राम रहीम को दोषी पाये जाने के बाद भड़की हिंसा के बाद सोहाना में कर्फ्यू लगा हुआ था.. कफ्र्यू के दौरान रविवार देर शाम करीब दस बजे अपने भतीजे जयनाथ राउत से मिलने सोहाना बाजार के सेक्टर- 69 जा रहा था.. इस दौरान जैसे ही वह दीप नगर पहुंचा, उसे गोली मार दी गयी.. गोली किसने चलायी, यह पता नहीं चल सका है.. गोली लगते ही वह जमीन पर गिर गया.. मोहन के भाई बद्री राउत ने बताया कि रविवार रातभर वह वहीं तड़पता रहा.. सोमवार सुबह जब लोगों ने देखा तो उसे अस्पताल ले जाया गया लेकिन इसी दौरान उसकी मौत हो गई.. जब इसकी सूचना वहां रह रहे अन्य ग्रामीणों को मिली तो उसका अंतिम संस्कार वहीं कर दिया.. ग्रामीणों के अनुसार, मोहन की शादी वर्ष 2003 में ही हुई थी, लेकिन अब तक कोई संतान नहीं थी.. उन्होंने एक बच्चे को गोद ले रखा है.. घटना की खबर मिलते ही मोहन राउत के घर में कोहराम मच गया.. पत्नी लक्ष्मी देवी का रो-रोकर बुरा हाल है..पत्नी कहती है कि वह अब किसके सहारे जीयेगी, उसका तो सब कुछ लुट गया..

Loading...