बेधड़क ...बेलाग....बेबाक

BiG News-पूर्व मंत्री महेश्वर हजारी बने विधानसभा के उपाध्यक्ष, विपक्ष की अनुस्थिति में 124 वोट से जीते

178

पटना Live डेस्क। 23 मार्च 2021 का दिन बिहार विधानसभा के तारीख़ी इतिहास के सबसे काले दिन के तौर पर दर्ज हो गया है। लेकिन इस बीच विपक्षी विधायकों की सदन से अनुपस्थित के बीच पूर्व मंत्री महेश्वर हजारी कोबिहार विधानसभा के उपाध्यक्ष के तौर चुन लिए गए हैं।बिहार विधानसभा के उपाध्यक्ष पद के लिए सत्ता पक्ष की तरफ से महेश्वर हजारी ने अपना नामांकन किया था उनके खिलाफ विपक्षी दल की तरफ से उम्मीदवार भूदेव चौधरी थे,लेकिन 23मार्च मंगलवार को हुई मार कुटाई घटनाक्रम के बाद विपक्ष आज यानि बुधवार को सदन में नहीं पहुंचा और 12 बजे तय समय पर उपाध्यक्ष पद के लिए निर्वाचन की प्रक्रिया शुरू की गई।

विपक्षी गैरमौजूदगी में विधानसभा अध्यक्ष विजय कुमार सिन्हा ने दोनों उम्मीदवारों की तरफ से आए प्रस्तावों के बारे में सदन को विस्तार से बताया। इसके बाद मंत्री विजेंद्र यादव की तरफ से आए प्रस्ताव पर संसदीय कार्य मंत्री विजय कुमार चौधरी ने अपना अनुमोदन दिया जिसके बाद महेश्वर हजारी के नाम की चर्चा की गई।

विपक्षी उम्मीदवार आरजेडी के पूरे और चौधरी की तरफ से प्रस्ताव की सूचना को नहीं पढ़ा जा सका। इसके बाद विधानसभा अध्यक्ष ने ध्वनि मत से निर्वाचन के प्रस्ताव को सुना लेकिन संसदीय कार्य मंत्री विजय कुमार चौधरी आसन की तरफ से घोषणा किए जाने से पहले ही उठ खड़े हुए।

विधानसभा अध्यक्ष से उन्होंने आग्रह किया कि विपक्ष सदन में गैर हाजिर है और ध्वनि मत से अगर उपाध्यक्ष का निर्वाचन होता है तो ऐसे में कल को सवाल खड़े हो सकते हैं। संसदीय कार्य मंत्री ने आग्रह किया कि जरूरी है कि सदन में मत विभाजन कराया जाए इसके बाद सदन में वोटिंग की प्रक्रिया शुरू की गई विपक्ष की गैरमौजूदगी में वोटिंग की प्रक्रिया के लिए घंटी बजाई गई और फिर मतदान की प्रक्रिया अपनाई गई सत्ता पक्ष के सदस्य सदन में खड़े हुए और उनकी संख्या गिनी गई जबकि विपक्ष में कोई भी सदस्य खड़ा नहीं था।अतः पूर्व मंत्री महेश्वर हजारी बिहार विधानसभा के उपाध्यक्ष चुन लिए गए हैं।

 

Comments are closed.