Exclusive(वीडियो) सीसीटीवी में दिखे लुटेरे पेट्रोलपंप लूट मामले में बदले गए मेहदीगंज के थानेदार, एसआईए रामशंकर को मिली कमान

25

पटना Live डेस्क। पटना सिटी के मेहंदीगंज थाना क्षेत्र के एनएच 30 बाईपास पर पैजावा स्तिथ एस.के.पूरी पेट्रोल पम्प लूट कांड में शामिल रहे बाइक सवार हथियार बन्द अपराधियो की फुटेज पुलिस को मिली है। घटना को अंजाम देने ख़ातिर 2 बाइक पर सवार 4 अपराधियों द्वारा कुछ देर पहले टॉल ब्रिज पार किया था। पुलिस को वो फुटेज मिली है।

वही दूसरी तरफ राजधानी पटना के मेहंदीगंज के थानेदार ललन शर्मा को थानेदारी से रुखसत कर दिया गया है। दरअसल, थानेदार के खिलाफ यह किसी प्रकार की कार्रवाई नहीं की गई है। बक़ौल सिटी एसपी ईस्ट की मानें तो हेल्थ प्रॉब्लम होने की वजह से उन्हें हटाया गया है। ललन शर्मा 1989 बैच के इंस्पेक्टर हैं. दुर्गा पूजा के दौरान भी एक दिन इनकी तबियत काफी खराब हो गई थी।फिलहाल इनकी जगह पर सब इंस्पेक्टर रामशंकर को नया थानेदार बनाया गया है। मेहंदीगंज से पहले वो परसा बाजार थाना में पोस्टेड थे।

उल्लेखनीय है कि पटना सिटी के मेहंदीगंज थाना क्षेत्र के एनएच 30 बाईपास पर पैजावा स्तिथ एस.के.पूरी पेट्रोल पम्प से बाइक सवार हथियार बन्द अपराधियो ने स्टाफ कर्मी को जबड़े में गोली मार दी और कैश लूट लिया यह दावा पेट्रोलपंप ऑनर द्वारा किया गया।साथ ही सीसीटीवी का हार्डडिस्क भी उखाड़ कर अपराधियों द्वारा ले जाने की बात कही गई।लेकिन घटना के 14 घंटे बाद भी पुलिस इस बात में उलझी है कि आखिर लूटी गई रकम कितनी है। गोली लगी है या नही पर पुलिस ने एक खोखा पेट्रोलपंप से बरामद करना स्वीकार किया है। वही पेट्रोपपम्प ऑनर का स्पष्ट कहना है कि पेट्रोलपंप से की साढ़े आठ लाख रुपये की लूट हुई है।

वही पुलिस बीती हुई इस घटना के बाबत एक अलग ही तर्क दे रही है। पुलिस का कहना है कि शुरू में बताया गया कि पचास हजार की लूट है। साथ ही पुलिस ने Aखोखा  बरामद करना स्वीकारा पर कहा कि उस वक्त गोली लगने की बात नही बताई गई। लेकिन पम्प मालिक ने बताया कि साढे आठ लाख की लूट हुई है और गोली मारी गई है।

लेकिन, तथाकथित रूप से लूट के दौरान अपराधियों द्वारा पम्प कर्मी जिनका नाम विधान राय बताया जा रहा उनका इलाज फोर्ड अस्पताल में किया जाने का पता चलने पर पटना Live ने जब अस्पताल पहुच कर घायल के बाबत जानकारी ली तो इलाज कर रहे डॉ संतोष कुमार ने कर्मी के बाबत स्पष्ट किया कि जो घाव लगे है वो गोली के नही बल्कि किसी धारदार हथियार के हो सकते है। वही पुलिस भी लगातार इस बात को दुहरा रही है कि घटना कब वक्त ऑनर द्वारा कुछ और तथ्य पेश किए गए थे और अब कुछ और बताया जा रहा है। दोनों पक्षों के तर्कों के आगे अब यह मामला संदिग्ध प्रतीत होने लगा है।

 

 

Loading...