बेधड़क ...बेलाग....बेबाक

5 लाख की सुपारी देकर कराइए गई थी पार्षद की हत्या, सीसीटीवी फुटेज से मिला सुराग पकड़े गए सुपारी किलर्स

152

पटना Live डेस्क। राजधानी पटना में 10 अगस्त दिन गुरुवार को आरजेडी नेता और पटना के पार्षद केदार राय को गोली मारकर हत्या कर दी गई। घटना को तब अंजाम दिया गया था जब केदार सुबह दानापुर स्थित अपने घर से मॉर्निंग वॉक के लिए निकले थे।वह अपने घर से महज  100 गज ही पहुंचे, तभी एक काले रंग की बाइक पर सवार तीन लोगों ने उन पर ताबड़तोड़ फायर कर दिया।  केदार को एक गोली कान के पास और दूसरी सीने में लगी। गोली लगते ही केदार जमीन पर गिर गए। स्थानीय और मोहल्ले के लोगों ने उन्हें तुरंत हॉस्पिटल में एडमिट कराया,लेकिन उनकी जान नहीं बचाई जा सकी। गोली मारने के बाद शूटर फरार हो गए।।                                                       घटना के बाद केदार की हत्या के बाद उनके घर में चीख पुकार मच गई थी।मामले की गभीरता को देखते हुए एसएसपी मनु महाराज ने  इस हत्याकांड के उद्भेदन और अपराधियों की गिरफ्तारी जल्द ख़ातिर सिटी एसपी वेस्ट रविन्द्र कुमार की अगुआई में एक टीम बनाई थी और खुद भी इस मामले की प्रोग्रेस पर लगातार नजर बनाए रखा। घटना के शुरुआती जांच में ही पुलिस को इस बात के सुराग मिल गए थे कि मकतूल केदार राय भी भूमाफिया के तौर पर इलाके में जाना जाता था कि हत्या में ज़मीनी विवाद एक बेहद महत्वपूर्ण कड़ी है। तभी तो घटना के वक्त भी पटना पुलिस ने हत्या की वजह जमीन विवाद बताया था।


केदार निकाय चुनाव में चौथी बार वार्ड पार्षद का चुनाव जीते थे। वे वार्ड 15 से पार्षद थे।उनकी पत्नी शोभा देवी वार्ड 16 से पार्षद हैं।वो भी तीसरी बार पार्षद बनी हैं।केदार मूल रूप से दानापुर के नया टोला के रहने वाले हैं। उनके पिता का नाम शिवरतन सिंह है।केदार का बेटा पीएमसीएच में डॉक्टर है। लालू के दानापुर स्थित खटाल के पीछे इनका घर है। बता दें कि इस बार चुनाव में विवाद हुआ था।फर्जी वोटर को लेकर उम्मीदवार अशोक ने आरोप लगाए थे।मामला हाइकोर्ट में गया था।।                                   इसी लाइन पर आगे बढ़ते हुए लगभग 3 महीने की जीतोड़ मेहनत के बाद कड़ी से कड़िया जोड़ते हुए आखिरकार पुलिस ने केदार राय कत्ल करने वाले मुख्य हत्यारे समेत 3 अपराधियों को न केवल धर दबोचा है बल्कि पूरी साज़िश का पर्दाफाश कर दिया है।


बक़ौल एसएसपी पटना के सीसीटीवी फुटेज मिलने के बाद तकनीकी अनुसंधान से इस पूरे मामले का खुलासा किया गया है। पटना पुलिस को घटना स्थल के महज कुछ दूरी पर लगे एक मकान में सीसीटीवी कैमरे में अपराधियों के बाइक से घटना को अंजाम देने ख़ातिर आते जाते कैद हो गए थे। शुरुआती सुराग यही से मिला। तीनो का हुलिया मुकम्मल तौर पर पुलिस को हासिल हो गया। फिर क्या था पुलिस ने कड़िया जोड़नी शुरू कर दी।


जांच आगे बढ़ी तो पटना पुलिस की टीम को उस वीडियो ​फुटेज से काफी मदद और हुलिया का मिलान करते हुए शगुना मोड़ के पास से मनीष उर्फ मिसी,अशोक कुमार सिन्हा और हरि चरण राय उर्फ भगत को गिरफ्तार किया। तीनो शगुना मोड़ पर किसी वारदात को अंजाम देने ख़ातिर इकट्ठा हुए थे। लेकिन सटीक इन्फॉर्मेशन पर त्वरित कार्रवाई करते हुए पुलिस दस्ते ने इनको धर दबोचा।
गिरफ्तार तीनो युवकों से सिटी एसपी वेस्ट रवींद्र कुमार और उनकी टीम ने जब पूछताछ की तो पहले तो तीनों पुलिस को चकमा देने की कोशिश करने लगे लेकिन जब पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज की बात कही तो फिर मामला खुलता चला गया। गिरफ्तार तीनो अपराधियों से मिले इनपुट्स और पुलिस टीम की जांच से केदार राय की हत्या की कड़िया जुड़ने लगी फिर वो सच सामने आ गया। गिरफ्तार तीनो युवकों से सिटी एसपी वेस्ट रवींद्र कुमार और उनकी टीम ने जब पूछताछ की तो पहले तो तीनों पुलिस को चकमा देने की कोशिश करने लगे लेकिन जब पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज की बात कही तो फिर मामला खुलता चला गया।


गिरफ्तार अपराधियों से मिले इनपुट्स और पुलिस टीम की जांच से केदार राय की हत्या की कड़िया जुड़ने लगी फिर वो सच सामने आ गया। गिरफ्तार हरिचरण और छोटू ने मिलकर केदार राय की हत्या की साज़िश रची थी। चुकी, केदार राय की पहुच पैरवी और सियासी हनक ने इनके ज़मीन की दलाली के धंधे को परवान चढ़ने नही दिया था।इस वारदात के साज़िशकर्ता यही दोनों हैं। इन दोनों ने ही मिलकर मनीष और उसके गुर्गों को केदार को खत्म करने ख़ातिर सुपारी दी थी। केदार राय को गोली मारने के लिए मनीष के साथ 5 लाख रुपए की सुपारी तय हुई। तय रकम मिलते ही मनीष और उसके गुर्गों ने 10 अगस्त की अहले सुबह को ताबड़तोड़ गोलियां बरसा कर केदार राय को कत्ल कर दिया था।

पुलिस टीम ने मनीष की निशानदेही पर फरार चल रहे मो.आसिफ के घर पर छापेमारी की तो उसके घर से पुलिस को वो टी-शर्ट को मिल गई जो घटना के वक्त आसिफ ने पहना रखा था। पकड़े गए अपराधियों के पास से एक पिस्टल और तीन गोलिया भी पुलिस ने बरामद किया है। वही इस मामले में शामिल अन्य अपराधियों की भी जल्द से जल्द गिरफ्तारी ख़ातिर पुलिस की टीम लागतार उनके सभावित ठिकानों पर रेड कर रही है। उम्मीद है जल्द ही आसिफ समेत अन्य गिरफ्तार कर लिए जाएंगे।

 

Comments are closed.