बड़ा खुलासा(Exclusive वीडियो) नशे में धुत्त गोएयर के अधिकारी ने पटना में डीएसपी के वाहन में मारी टक्कर,सचिवालय थाने से मेहमान नवाजी के बाद भेजा गया जेल 

पटना Live डेस्क। एक बार फिर राजधानी पटना में  पूर्ण शराबबन्दी के पुलिसिया दावे का सच बेहद जोरदार ढंग से उजागर हुआ है। सूबे में लागू पूर्ण शराबबन्दी के दावो की जमीनी हकीकत से सूबे की जनता भी अवगत है। लेकिन बीती रात शराबबन्दी का  सच बेहद ज़ोरदार ढंग से उजागर हुआ वो भी ठीक सरकार के नाक के नीचे यानी राजधानी पटना की सड़कों पर।
दरअसल शराब का सुरूर हाथों में कार की स्टेयरिंग और पटना की सड़कों पर बेतहाशा रफ्तार से भागती कार में सवार गोएयर के अधिकारी ने डीएसपी विधि व्यवस्था मो शिबली नोमानी की गाड़ी को जोरदार टक्कर मार दी और भाग निकला।
दरअसल घटना शनिवार और रविवार की दरमियानी देर रात की है। जब रात्रि गश्त पर निकले डीएसपी लॉ एंड ऑर्डर की गाड़ी को पटना एयरपोर्ट पर तैनात निजी एयरलाइंस गोएयर के ड्यूटी अफसर अमित कुमार ने शराब के नशे में बेहद तेज रफ्तार में अपनी कार से ठोकदी और फरार हो गया। डीएसपी के वाहन की टक्कर मारे जाने और कार की पहचान तुरंत वायरलैस पर फ़्लैश किया गया और सभी थानों को अलर्ट कर दिया गया। वही तेज रफ्तार से गाड़ी भगा रहे अमित को आखिरकार पुलिस ने खदेड़ा खदेडी के बाद धर दबोचा और फिर उसे सचिवालय थाना लाया गया।फिर जब ब्रेथ एनालाइजर से उसकी जांच की गई तो 138 प्वाइंट शराब पीने की पुष्टि हुई। फिर क्या था शराब पीने और समेत वाहन अधिनियम की विभिन्न धाराओं में सचिवालय थाने में मामला दर्ज कर लिया गया। चुकी रात का वक्त था उसे जेल नही भेजा जा सकता था। उसे थाने में रखा गया।
अमूमन थानों में शराब पीने के जुर्म में आम आदमी की हाजत में बंद किया जाता है या फिर हथकड़ी लगाकर बेंच पर बिठाया जाता है। लेकिन गो एयर के इस अमित कुमार नामक ऑफीसर को सचिवालय थाना पुलिस ने न जाने क्यों तमाम सुविधाएं मुहैया कराई। न केवल आराम करने खातिर साफ़ सुथरा बिस्तर उपलब्ध कराया जहां जनाब सोये। इस दौरान न अमित के हाथों में हथकड़ी लगाई गई न उनकी नींद खलल डाली गई। और तो और बाकायदा साहब को कोई कष्ट न हो इसका पूरा खयाल रखा गया।मोबाइल भी हाथों में लिए अमित ने कई लोगो से बात भी करता रहा है। अब सवाल उठता है आखिर इतनी मेहरबानी क्यो ?खैर, बाइज्जत अमित कुमार को तमाम सुविधाएं देकर चुकी बात मीडिया में उजागर हो गई थी जेल भेज दिया गया। लेकिन जब तक वो सचिवालय थाना में रहा उसको कष्ट नही होने दिया गया।

देखिये कैसे – बिस्तर पर सोया मोबाइल से बतियाता रहा और पटना पुलिस के मेहमान नवाजी का लुफ्त उठाया