पटना पुलिस ने महज 48 घण्टे में सुलझाया टुकड़ो में मिली लाश का सच

0
69

पटना Live डेस्क। पटना-गया रेलवे लाइन के पास टुकड़ों में मिली लाश की गुत्थी फ्लेक्स ने सुलझा दी। महिला की हत्या की गई थी और वह भी अपनों के ही द्वारा। हत्या के बाद लाश को ठिकाने लगाने के लिए जो किया गया, वह सिहरा देने के लिए काफी है। इस हत्या के पीछे का पहला कारण अवैध संबंध है। पुलिस पैसे को भी एक कारण मान रही है।सदर पुलिस अनुमंडल की टीम 48 घंटे के अंदर राज से पर्दा उठाने में सफल रही। तीन आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया है। मृतका की शिनाख्त 45 वर्षीया गीता देवी के रूप में हुई है।

बकौल पटना पुलिस के सचिवालय के भवन विभाग में ड्राफ्टमैन उमेश कांत चौधरी का पैतृक आवास दानापुर के शाहपुर थानान्तर्गत जमसौत में है। लगभग तीस साल पहले उसकी शादी मसौढ़ी के तरेगना डीह की गीता से हुई थी। शादी के बाद गीता सुसराल में रहने लगी। तीन बच्चों के साथ भरा-पूरा परिवार था। इस बीच उमेश को लकवा मार गया। गीता का अपने पड़ोसी अरमान के साथ मिलना-जुलना कुछ ज्यादा ही हो रहा था। दोनों के बीच अवैध संबंध हो गए। यह बात पति और बेटे-बेटियों को खल रही थी। गांव में चर्चा होने लगी तो बदनामी के डर से उमेश पैतृक घर छोड़कर मसौढ़ी स्थित ससुराल में रहने लगा। इसके बावजूद गीता और अरमान एक-दूसरे से मिलते रहे। परिवार वालों ने मिलकर गीता की हत्या की साजिश रची। हत्या उसके पति उमेश कांत चौधरी, बेटी पूनम देवी और दामाद रंजन ने की। इसके बाद रंजन और उसके दोस्त राजेश ने शव के तीन टुकड़े करके जहां-तहां छोड़ दिए। ल्उमेश, पूनम और रंजन को गिरफ्तार कर लिया गया है,राजेश की तलाश में छापेमारी चल रही है। पुलिस ने घटना में प्रयुक्त तीन धारदार हथियार भी बरामद किए हैं।

मकतूल गीता और उमेश को एक बेटा और दो बेटियां हुई। बड़ा बेटा चुनार स्थित स्टेट बैंक ऑफ इंडिया में क्लर्क है।दूसरी बेटी पूनम की शादी दो साल पहले खाजेकला निवासी जनरेटर मैकेनिक राजेश से हुई थी, लेकिन दंपती परसा बाजार थाना क्षेत्र के कुरथौल में रहते थे। छोटी बेटी मसौढ़ी में रहती है। गीता अक्सर घर से भाग जाती थी, इसलिए पूनम की शादी के बाद उमेश भी उसके साथ ही रहने लगा। गीता के बेटे पर जहानाबाद में एक कांड दर्ज है।


17 अप्रैल को पूनम ने अपनी मां गीता को चिकन-चावल खाने के बहाने कुसुमपुर स्थित घर बुलाया। वहां राजेश और उमेश भी मौजूद थे। तीनों ने मिलकर चिकन में नींद की गोलियां मिला दी, जिसे खाने के बाद गीता बेहोश हो गई। तकरीबन पांच घंटे बाद गीता को होश आया, पर उसे कमजोरी महसूस हो रही थी। जैसे-तैसे उसने अरमान को कॉल किया और कहा कि उसकी तबीयत बिगड़ गई है। राजेश ने उसे बात करते देख लिया। उसके हाथ से मोबाइल छीन लिया, फिर गला दबाकर उसकी हत्या कर दी।

गीता की हत्या करने के बाद उमेश बेटी पूनम के साथ मसौढ़ी चला गया। इधर, राजेश ने साथ काम करने वाले दोस्त रंजन को घर बुलाया और शव के टुकडे़ करने में मदद मांगी। राजेश ने इस काम के लिए उसे 20 हजार रुपये देने का वादा भी किया था, लेकिन नहीं दिया।
राजेश और रंजन ने गीता का शव चौकी पर रखकर हेक्सा ब्लेड से सिर को धड़ से अलग कर दिया। धड़ को उलटा करने के बाद सारा खून एक प्लास्टिक टब में जमा किया। जब रक्त का बहाव बंद हो गया, तब उन्होंने दोनों पैर और हाथ काटे। इसके बाद शव के तीन टुकड़े किए। रंजन ने कटे पैर और हाथ को बैग में रख पटना-गया पैसेंजर ट्रेन में छोड़ दिया था, जिसे गया रेल पुलिस ने 18 अप्रैल को बरामद किया। इसी दिन उसने कमर से नीचे और घुटने से ऊपर का हिस्सा कुरथौल नाले में फेक दिया। इसके बाद छाती और सिर लेकर ट्रेन पर चढ़ा। छाती कुरथौल रेलवे लाइन और सिर मीठापुर में फेंका।

शव के सभी टुकड़े सरस्वती पूजा के लिए बने फ्लेक्स में लिपटे मिले थे,जिस पर ‘फ्रेंड्स क्लब कुसुमपुर कॉलोनी,नत्थुपुर रोड, परसा बाजार’ लिखा था। हत्याकांड की गुत्थी सुलझाने के लिए सदर अनुमंडल पुलिस अधीक्षक प्रमोद कुमार मंडल के नेतृत्व में जक्कनपुर थानाध्यक्ष अमरेंद्र कुमार झा और परसा बाजार थानाध्यक्ष नंदजी प्रसाद एवं दारोगा रामाशंकर की टीम गठित की गई। टीम ने फ्लेक्स को आधार मानकर अनुसंधान शुरू किया। क्लब के सदस्यों से पूछताछ करने पर मालूम हुआ कि जनरेटर मैकेनिक राजेश और रंजन फ्लेक्स लेकर गए हैं। पुलिस ने राजेश को दबोच लिया। इसके बाद पूरी कहानी से पर्दा हटा। दोस्त के पकड़े में आने के बाद रंजन फरार हो गया है।

गीता का दूसरे व्यक्ति से अवैध संबंध होना हत्या का एक कारण है, लेकिन इसके पीछे संपत्ति भी बड़ी वजह हो सकती है। पूनम को अपनी मां की हत्या करने का कोई अफसोस नहीं है। उसने बताया कि गीता उसके पिता उमेश के पास तनख्वाह लेने पहुंच जाती थी और रुपये लेकर अपने आशिक अरमान को दे देती थी। गीता खुद को प्रॉपर्टी डीलर भी बताती थी, लेकिन उसने कभी एक रुपये की सहायता नहीं की। अरमान का कोर्ट में बयान दर्ज कराया जाएगा।