Super Exclusive (वीडियो) अब बिहार में लालू यादव के नाम का शिलापट तोड़ कर दिया गया प्लास्टर, गुस्साए समर्थकों का जबरदस्त हंगामा,रेल प्रशासन ने मांगा 2 दिन का समय

0
11

पटना Live डेस्क। केंद्र सत्ता रूढ़ भाजपा की त्रिपुरा में विधानसभा में जीत के बाद रूसी क्रांति के महानायक ब्लादिमीर लेनिन और तमिलनाडु में दलित विचारक पेरियार की मूर्ति तोड़े जाने का मामला सामने आया और फिर पश्चिम बंगाल पुलिस ने श्यामा प्रसाद मुखर्जी की प्रतिमा ध्वस्त करने के आरोप में सात लोगों को गिरफ्तार किया।अब यह सिलसिला बिहार तक आ पहुचा है। उल्लेखनीय है वर्त्तमान में जदयू और भाजपा सूबे की सत्ता संभाल रही है।
मिली जानकारी के अनुसार बिहार के मधेपुरा रेलवे स्टेशन पर लगे नीतीश कुमार,लालू यादव और शरद यादव के शिलापट्ट लगे हुए थे। मधेपुरा स्टेशन और रेल कारखाने के विकास में महती भूमिका निभाने खातिर मधेपुरा के सांसद रहे लालू यादव और शरद यादव के शिलापट्ट लगे हुए। लेकिन गुरुवार को शहर के जाने माने समाज सेवी सुमन सौरभ की किसी कार्यवश स्टेशन परिसर में पहुचे तो उनकी नज़र लालू यादव और शरद यादव के शिलापट्ट पर पड़ी तो उनको धचका लगा। स्टेशन परिसर में लगे लालू यादव के शिलापट्ट को न केवल तोड़कर डाला गया था बल्कि बजापता उसका नामोनिशान मिटाने की कोशिश में उसपर प्लास्टर कर रंग रोगन कर एक अन्य तरह की तख्ती टांग दी गई थी।
अभी सुमन इस सदमे से उबर भी नही पाए थे कि जदयू गठबंधन से अलग होकर राजद के साथ अपनी सियासत कर रहे मधेपुरा के सांसद रहे शरद यादव का शिलापट्ट जो स्टेशन के बाहरी परिसर में लगा है उसको मिटाने खातिर सरेस कागज से रगड़ा हुआ पाया।


फिर क्या था यह खबर मधेपुरा में आग की तरह फैल गई और फिर स्टेशन परिसर में राजद समर्थकों की भीड़ बढ़ने लगी।अपने नेता के शिलापट्ट को तोड़ कर उसपर प्लास्टर करने की घटना से गुस्साए लोगों ने हंगामा शुरू कर दिया।बढ़ते हंगामे और नारेबाजी को देखकर  स्टेशन सुप्रिटेंडेंट पारस नाथ मिश्र और स्टेशन मास्टर ने मोर्चा संभाला और गुस्साए लोगों को समझाने बुझाते हुए बताया कि अभी स्टेशन परिसर में विद्युतीकरण का काम चल रहा है। शायद ठेकेदार के कर्मचारियों से गलती हो गई होगी लेकिन हंगामा कर रहे स्थानीय लोगो का कहना रहा कि सिर्फ लालू यादव का शिलापट्ट क्यो तोड़ा गया, नीतीश कुमार का तो मौजूद है। आखिर इसके पीछे क्या मंशा है ?निशाने पके शरद और लालू ही क्यो ?

इस बाबत स्टेशन अधीक्षक का कहना रहा कि वो जल्द ही इसको ठीक करा देंगे। लेकिन इस घटना से गुस्साए राजद समर्थक अपने नेता की नेम प्लेट को जल्द जल्द पुनः स्थापित करने में किसी तरह की हिला हवाली सुनने को तैयार नही थे। उनका कहना था कि टाइम बताइए कब होगा। लगातार बढ़ते लोगो के समूह और उनके गुस्से और क्षोभ को देखते हुए स्टेशन अधीक्षक ने 2 दिन के अंदर शिलापट्ट लगाने की बात कही है।

 

Loading...