मनीष प्रियदर्शी जमानत पर निकलते ही हुए गिरफ्तार, मुम्बई ले जाने की तैयारी

15

पटना Live डेस्क। पटना के बहुचर्चित निखिल प्रियदर्शी और सुरभि मामले में हाईकोर्ट ने मुख्य आरोपी निखिल प्रियदर्शी के पिता और भाई मनीष प्रियदर्शी को पटना हाईकोर्ट से बेल मिलने के बाद जेल से बाहर निकलते ही मनीष प्रियदर्शी को पुलिस ने दुबारा गिरफ्तार कर लिया है। यह कार्रवाई मुंबई उच्च न्यायालय के आदेश पर पटना पुलिस द्वारा की गई है।

           निखिल प्रियारदर्शी के भाई  है मनीष प्रियदर्शी को रूपसपुर पुलिस ने गिरफ्तार किया। दानापुर ऐसीजेएम से ट्रांजिट रिमांड लेकर पुलिस मनीष को मुम्बई ले कर जायेगी। सनद रहे कि निखिल और मनीष प्रियदर्शी ने अलावा महाराष्ट्र के वित्तीय संस्थानों की भी मोटी रकम की चपत लगाई है। सामूहिक रूप से कुछ वित्तीय संस्थानों ने मुंबई हाईकोर्ट में याचिका दायर की थी। अदालत ने उसकी गिरफ्तारी के लिए पटना पुलिस को वारंट भी भेजा था, पर कोई कार्रवाई नहीं हुई। तब मुंबई हाईकोर्ट ने उसकी संपत्ति कुर्क करने का आदेश जारी किया। इसके आलोक में वहां की अदालत ने पिछले वर्ष 16 अक्टूबर को रिसीवर नियुक्ति किया था।

रिसीवर ने शुक्रवार को पटना पुलिस के सहयोग से सगुना मोड़ स्थित महेंद्र मोटर्स को सील किया। इस एजेंसी को महेंद्रा कंपनी कैंसिल कर चुकी है। इस एजेंसी पर टाटा फाइनेंस ने भी संपत्ति जब्ती की कार्रवाई की थी। इसके बाद टीम रूपसपुर थानान्तर्गत विश्वेश्वरैया नगर स्थित प्रियदर्शी पूर्णानंद ऑटोमोबाइल्स पर धावा बोला। वहां भी जब्ती की कार्रवाई की गई।