आखिर अबूबकर अल बगदादी की मौत से उठा पर्दा, आईएस ने की घोषणा मर चुका है बगदादी,जल्द होगी नए प्रमुख की घोषण

0
27

पटना Live डेस्क। क्रूरतम और पाशविक तरीके से कत्लोगारत करने वाले दुनिया के सबसे खौफनाक और वहशियाना हत्यारों की टोली का सरबरा यानी आईएस का प्रमुख अबु बकर अल बगदादी की मौत का रहस्य आखिर खत्म हो गया। आतंकी संगठन इसलामिक स्टेट ने मंगलवार को अपने प्रमुख अबु बकर अल बगदादी की मौत की घोषणा की है। हालांकि,बगदादी की मौत की खबरें अक्सर आती रहती हैं।कुछ दिन पहले ही रूस ने उसके मारे जाने का दावा किया था। लेकिन बाद में वह अपने इस दावे से पीछे हट गया था।इधर,  आइएस ने जल्द ही अपने प्रमुख के नाम की घोषणा करने की बात कही है। सीरियन ऑब्जर्वेटरी फॉर ह्यूमन राइट्स ने कहा कि इसलामिक स्टेट के शीर्ष सदस्यों ने उसके सामने संगठन के प्रमुख बगदादी की मौत की पुष्टि की है।

               ऑब्जर्वेटरी के निदेशक रामी अब्देल रहमान ने कहा,’दायेर एज्जोर प्रांत में मौजूद आइएस के शीर्ष स्तर के कमांडरों ने ऑब्जर्वेटरी से बगदादी की मौत की पुष्टि की है’। अब्देल रहमान ने बताया कि आइएस के शीर्ष स्तर के एक कमांडर ने बगदादी की मौत की पुष्टि की है।
उन्होंने कहा, ‘हमें इसके बारे में मंगलवार को पता चला,लेकिन यह नहीं पता है कि उसकी मौत कब और कैसे हुई’। पूर्वी सीरिया का दायेर एज्जोर प्रांत का अधिकतर हिस्सा आइएस के कब्जे में है,जबकि समूह देश में और पड़ोसी देश इराक में अपने नियंत्रणवाले क्षेत्र खो रहा है। रहमान ने कहा कि बगदादी हाल में महीनों में ‘दायेर एज्जोर प्रांत के पूर्वी हिस्सों में मौजूद था,लेकिन यह साफ नहीं है कि उसकी मौत इस इलाके में हुई या कहीं और’।

हमेशा आती रही है मौत की खबर और बढ़ता रहा ईनाम

हाल के महीनों में लगातार बगदादी की मौत की अफवाहें उड़ती रही हैं और रूसी सेना ने मध्य जून में कहा था कि वह इस बात का सत्यापन करने में लगी है कि क्या मई में सीरिया में उसके एक हवाई हमले में आइएस प्रमुख मारा गया। रूसी सेना ने कहा था कि आइएस के गढ़ रक्‍का के पास एक ठिकाने पर सुखोई लड़ाकू विमानों ने 28 मई को 10 मिनट तक हमला किया,जहां समूह के कमांडर इलाके से अपने सदस्यों को बाहर ले जाने की योजना बना रहे थे।अमेरिका के नेतृत्ववाले गंठबंधन ने तब कहा था कि वह रूसी हमले में बगदादी के मारे जाने की पुष्टि नहीं कर सकता।

कौन था बगदादी

इराक में जन्मे 46 साल के बगदादी को 2014 के बाद से सार्वजिनक रूप से कहीं नहीं देखा गया। अब उसके मौत की आधिकारिक पुष्टि होने पर यह आतंकी समूह के लिए झटका होगा।अबू बक्र अल बग़दादी का जन्म 1971 में ईराक़ के सामर्रा नगर में हुआ। अली बदरी सामर्राई, अबू दुआ, डाक्टर इब्राहीम, अल कर्रार और अबू बक्र अलबग़दादी आदि कई इसके उपनाम से रह मशहूर। यह पीएचडी हैं। इसके पिता का नाम अलबू बदरी हैं जो सलफ़ी तकफ़ीरी विचारधारा को मानते हैं। अबू बक्र बग़दादी की शुरुवात धर्म के प्रचार साथ ही प्रशिक्षण से हुआ। लेकिन जेहादी विचारधारा की ओर अधिक झुकाव रखने के कारण वह इराक़ के दियाला और सामर्रा में जेहादी पृष्ठिभूमि के केन्द्रों में से एक केन्द्र के रूप में ऊभरा।

सीरिया और इराक में इस जिहादी समूह से लड़नेवाले अमेरिकी नेतृत्ववाले गंठबंधन ने कहा कि वे इस खबर को सत्यापित नहीं कर सकते।गंठबंधन के प्रवक्ता कर्नल रयान डिलन ने कहा, हम इस रिपोर्ट की पुष्टि नहीं कर सकते, लेकिन आशा है कि यह सच है। मानवाधिकार के लिए सीरियाई ऑब्जर्वेटरी ​​ने कहा कि शीर्ष आइएस नेताओं ने जानकारी दी है कि बगदादी की मौत हो गयी है।इस खबर को स्वतंत्र रूप से सत्यापित नहीं किया जा सका है क्योंकि बगदादी के कई बार मारे जाने की खबर आती रही है।लेकिन,अगर यह खबर सही है तो उसकी मौत आइएस के लिए दोहरा झटका होगा। दो दिन पहले ही इराक के प्रधान मंत्री हैदर अल अबादी ने यह घोषणा की कि मोसुल को आइएस के कब्जे से मुक्त करा लिया गया है।और,अब उसके प्रमुख बगदादी की मौत की खबर।