Exclusive (वीडियो) – एक हत्या एक लाश और एक कुत्ता- राजवीर सिंह उर्फ रवि मॉड

0
214

पटना Live डेस्क। राजधानी पटना में 29 जून की दोपहर तकरीबन ढाई बजे के आस पास खाजेकलां थानांतर्गत मौला का बाग इलाके में कुछ युवकों द्वार दो युवकों को खदेड़ा जा रहा था। अज्ञात अपराधियों ने पहले युवक को गोली मारी जो उसकी जांघ में लगी। गोली लगने से युवक नीचे गिर गया। उसके साथ घटना के वक्त एक अन्य अपराधी भी घायल हुआ है, लेकिन वह गोली लगने साथ ही भाग निकला जिसकी पहचान अजय यादव के तौर पर की जा रही है। वही गोली लगने से ज़मीन पर गिरे युवक को अपराधियों द्वारा कई गोलियां मारी गयी है। मौत के बाद भी अपराधियों ने नाली के किनारे रखे हुए पत्थर से चेहरे पर ताबड़तोड़ कई वार किये। साथ ही सिर और शरीर के अन्य हिस्सों को पत्थर से कुचल दिया गया। सिर कुचले होने के कारण कुख्यात का चेहरा पहचानना भी मुश्किल था।यह घटना दिनदहाड़े सैकड़ो लोगो के सामने अंजाम दी गई। जो पटना पुलिस के सुरक्षा के दावो की धज़्ज़िया उड़ाता प्रतीत हुआ। जिसके बाद इलाके में सनसनी फैल गई। हत्या के बाद दुकानों के शटर नीचे गिरने लगे तो लोग अपने घरों का दरवाजा बंद करने लगे। कुछ लोग अपने दुकान को बिना ताला मारे ही सिर्फ शटर गिरा कर के इधर उधर भाग गए।
इधर, हत्या की खबर मिलते ही मौका ए वारदात पर खाजेकलां और आलमगंज थाने की पुलिस पहुंच गयी। शव को जब्त कर उसकी पहचान कुख्यात अपराधी राजवीर सिंह उर्फ रवि मॉड तौर पर करते हुए उसे पोस्टमार्टम के लिए एनएमसीएच भेजा गया। रवि पर आलमगंज, सुलतानगंज, एसकेपुरी, खाजेकलां सहित कई थानों में लूट, हत्या, रंगदारी और अन्य आपराधिक मामलों की एफआईआर दर्ज थी। पटना के अलावे बिहार के बाहर दिल्ली,भोपाल,रांची समेत देश के अन्य शहरों में भी लूट की वरदातों को अंजाम देता रहा था।                                        बकौल चश्मदीदों के घटना के वक्त मॉड अपने एक साथी के संग बाइक से जा रहा था। इसी बीच आधा दर्जन से अधिक की संख्या में पहले से घात लगाए अपराधियों ने उसे रोका और फायरिंग शुरू कर दी। इस दौरान उसने भागने की कोशिश की, लेकिन अपराधियों ने घेरकर उसे पकड़ लिया। कई गोलियां मारने के बाद डेथ कन्फर्म करने के लिए पत्थर से उसके सिर को कुचल दिया गया। रवि के साथ बाइक पर एक और युवक बैठा था। जिसे गोली लगी थी।

एनएमसीएच तक पहुंच गए थे हत्यारे

वही हत्या के बाद चर्चा यह थी कि रवि मॉड की मौत हुई या नहीं इसे कन्फर्म करने के लिए अपराधी एनएमसीएच तक पहुंच गए। कांड को अंजाम देने वाले इस बात से बेहद खौफज़दा थे कि अगर रवि किसी भी तरीके से बच गया तो वो नही बच पाएंगे। जब ये बात बिल्कुल स्पष्ट हो गई कि रवि की मौत हो गई,अपराधी अस्पताल ने निकलकर पटना सिटी की भूल भुलैया वाली गलियों की भीड़ में गुम हो गए। लेकिन पुलिस को इसकी भनक तक नहीं लग सकी। इस हत्याकांड के बाद पुलिस इसकी तफ्तीश करने में जुट गई है।

कौन था रवि मॉड उर्फ़ राजवीर सिह

अपने ही शागिर्द के हाथों बेहद नृशंस तरीक़े से कत्ल कर दिए गए 33 वर्षीय रवि मॉड का असली नाम राजवीर सिंह था। मूल रूप से उत्तरप्रदेश का रहने वाले मॉड के पिता  का नाम मोहन सिंह है। वर्तमान में मोहन सिंह आलमगंज थाना क्षेत्र के बजरंगपुरी में अपनी बेटी के संग रहते है। जीवन यापन खातिर मोहन सिंह आरकेस्ट्रा में ड्रम बजाने का काम करते हैं। मूल रूप से बेहद कमजोर आर्थिक परिवार का होने की वजह से ईजी मनी खातिर 2003 में पटना आने के बाद राजवीर सिंह से रवि बन गया। कई अपराधियों की शागिर्दी करते हुए ताबड़तोड बेहिचक के लूट काण्डों को अंजाम देकर सुर्खियों में आये रवि का रहन सहन और अच्छी सूरत देखर उसके साथियों द्वारा उसे मॉडल बुलाया जाता था जो आगे चलकर मॉड में तब्दील हो गया और फिर यही नाम जरायम की दुनिया मे गूंज ने लगा और फिर राजवीर की बजाय रवि मॉड के तौर पर ही वो अपने शागिर्द के द्वारा ही रुपये के लेनदेन को लेकर  बीच मनमुटाव की वजह से षड्यंत्र के तहत तनवीर ने रवि को बुलाया और उस पर गोलियां बरसा कर सदा के लिए खामोश कर दिया।