बेधड़क ...बेलाग....बेबाक

“गायघाट के गुनहगार”चारो थानेदारों पर कार्रवाही के लिए मुजफ्फरपुर की आवाम सड़को पर

215

रंजन पाण्डेय, संवाददाता

पटना Live डेस्क। गायघाट में ख़ाकी की दरिन्दगी के खिलाफ अब अवाम का गुस्सा सड़को पर दिखने लगा है। कैंडल मार्च और विरोध प्रदर्शन का सिलसिला लगातार बढ़ता ही जा रहा है। गायघाट के लोगों की स्पष्ट मांग है की महज गायघाट के थानेदार के निलंबन से मामला ठंडा नही होगा बल्कि चारो थाना प्रभारी को अविलंब सस्पेंड करते हूये एफआईआर दर्ज की जाये और अविलंब गिरफ्तारी की जाये ।

उल्लेखनीय है कि मुजफ्फरपुर 29 मई पुलिस की क्रूरता देख दूल्हा शादी छोड़कर फरार हो गया। उसके बाद ग्रामीणों और पुलिस के के बीच जमकर झड़प हो गई। पुलिस दुल्हन सहित उसकी बहन को गिरफ्तार कर ले गई और हाजत में बंद कर दिया। इस घटना मुजफ्फरपुर के गायघाट के पछियारी टोले में जबरन शादी किए जाने की है,जहां इस  मामले में अब नया मोड़ आ गया है। दूल्हा अभिनय कुमार ने कहा कि वह पुलिस बर्बरता से पीड़ित अपनी दुल्हन को कोर्ट से बरी कराकर सम्मानपूर्वक घर लाएगा। दुल्हन के साथ लिए सात फेरों के सात वचन उसे याद हैं। वह पुलिस के डर से ससुराल से भागा था।
डीएसपी पूर्वी मुत्तफिक अहमद जब मामले की जांच करने दूल्हा अभिनय के घर पहुंचे तो उसने कहा कि पुलिस को दल-बल के साथ विवाह मंडप में देख वह डर से भाग गया था। पुलिस वहां लाठी बरसा रही थी। बाद में पुलिस ने उसे बुलाकर सादे कागज पर कई जगह साइन करा लिया। उसने यह भी कहा कि शादी पहले से तय थी।

दुल्हन की पिटाई मामले में जनआंदोलन

दुल्हन जूली व उसकी बहन रेखा के साथ मारपीट मामले में रविवार को गायघाट व बेनीबाद ओपी अध्यक्ष के खिलाफ ग्रामीणों व सामजिक संगठनों की बैठक हुई। बैठक में बेनीबाद ओपी अध्यक्ष उमा शंकर मांझी द्वारा महिलाओं को बर्बर तरीके से पिटाई व थाने पर दुल्हन व उसकी बहन से दुर्व्यवहार की निंदा की गई। आंदोलन का निर्णय लिया गया।


उधर, शादी के मंडप में दुल्हन व उसकी बड़ी बहन की बेरहमी से पिटाई मामले में जोनल आईजी के हस्तक्षेप पर गायघाट थानेदार को रविवार की शाम एसएसपी ने सस्पेंड कर दिया। डीएसपी पूर्वी ने रविवार को पूरे प्रकरण की जांच कर शाम में रिपोर्ट एसएसपी को सौंपी दी।
रिपोर्ट में गायघाट थानाध्यक्ष की मौजूदगी में दुल्हन जूली व उसकी बड़ी बहन रेखा की पुलिस द्वारा बेरहमी से पिटाई करने की बात कही गई है। गायघाट थानाध्यक्ष के अलावे बेनीबाद थानाध्यक्ष सहित अन्य पुलिसकर्मी भी लपेटे में हैं। उन पर भी कार्रवाई हो सकती है।

Comments are closed.