BiG News (Exclusive विडियो) पटना पुलिस का रंगबाज दारोगा जो रंगदारी में लेता है 5 किलो मुर्गा, वर्ना उड़ा देता है गर्दा

734

शशि यादव, संवाददाता , पटना

पटना Live डेस्क। बिहार पुलिस के डीजीपी से लेकर तमाम वरीय पुलिस पदाधिकारी से लेकर जिलो में तैनात वरीय खाकीवाले पुलिसवालों के पीपल्स फ्रेंडली होने का दावा करते है। यही  दावा पटना पुलिस भी करती है। लेकिन हक़ीक़त क्या है ये अमूमन राजधानी की सड़कों पर दिखाई देता है। लेकिन कई बार जब पुलिस वाले तमाम हदों को पार कर देते है तो मामला संगीन हो जाता है। दरअसल, खाकी वर्दी खौफ़ का प्रतीक में तब्दील हो गई है। इसी बानगी सुशासन सरकार के नाक के नीचे यानी पटना में दिखी है।

बिहार पुलिस के “पीपुल्स फ्रेंडली” होने की हकीकत एक बार फिर किरचें किरचें नही बल्कि बड़े जोरदार तरीके से बाहर आई है। दरअसल, यह मामला पटना के रामकृष्ण नगर थाना में तैनात एक दारोग़ा की रंगदारी भरी दरिंदगी से जुड़ा है। साहब को वर्दी का ऐसा नशा मगज में चढ़ा कि अपने थाना क्षेत्र के एक मुर्गा पर पहुचे और 5 किलो मुर्गा देने का फरमान सुना डाला। दुकान पर मौजूद युवक ने काटपिट कर 5 किलो चिकेन साहब के सुपुर्द किया। साहब पूरी ठसक से उठे और जीप की ओर चल पड़े। यहाँ तक सब ठीक था, लेकिन जब दुकानदार ने पैसे मांगे तो कहर ही बरप गया।

दरअसल, प्रजा ने खाकी वाले राजा से पैसे की मांग कर दी, अब ये तो साहब बहादुर को बुरा लग गया फिर क्या था, साहब ने ऑन स्पॉट फैसला कर दिया। लप्पड़ थप्पड़ लात घुसे से दुकान में और फिर सड़क पर लोटालोटा कर पूरी तबियत से दुकानदार को पीटा जब इससे भी मन नही भरा तो सुनिए पीड़ित की जुबानी क्या किया रंगदार दरोगा ने ..

वही, पीडित द्वारा घटना की खबर पटना की एसएसपी को व्हाट्सअप के जरिये मैसेज भेजकर मदद की गुहार लगाई गई, उन्होंने जवाब तो दिया पर थाना जाने को कहा लेकिन रामकृष्णा नगर थाना मदद करने को तैयार नही हुआ तो एसएसपी गरिमा मलिक ने SDPO से मिलने को कहा। वही बिहार पुलिस के व्हाट्स एप के जरिये संपर्क करने पर एक टोकन नम्बर मिला है। अब देखते है यह टोकन क्या पीड़ित को कितना और किस हद तक इंसाफ दिला पाता है ? जो रामकृष्णा नगर के दारोगा बालमुकुंद सिंह की हैवानियत का पीड़ित है।

Loading...