बेधड़क ...बेलाग....बेबाक

बड़ी खबर – अगर आप किसी देश का मंत्री या अन्य किसी बड़े पोस्ट पर जाना चाहते है यहा करे अप्लाई

172

पटना Live डेस्क। एक भारतीय ने इजिप्ट के उस इलाके से किसी तरह बचते बचाते जहां शूट ऐट साइट के आदेश है को धता बताते हुए पहुचकर सूडान और इजिप्ट के बीच 2072 स्कवायर फीट का एरिया ऐसा है, जिस पर दोनों में से किसी देश का मालिकाना हक नहीं है।इंदौर के सुयश दीक्षित इस जगह पर पहुंच गए और अपना झंडा लगा दिया। अब सुयश कहते हैं कि ये किंगडम ऑफ दीक्षित है और मैं सुयश दीक्षित यहां का राजा हूं। सुयश ने यूएन से अपील भी कर दी है कि वो इस नए देश को मान्यता दे और सुयश को इसका मालिकाना हक भी दिया जाए।                                  इंदौर के हरिकृष्ण पब्लिक स्कूल से पढ़े सुयश ने लोगों से भी कहा है कि वो इस नए देश की मान्यता लेने के लिए उनके सामने आवेदन कर दें। सूडान और इजिप्ट के बीच इस लावारिस स्थान का नाम बीर ताविल है।अब तक यूएन की इस पर कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है। सुयश ने किंगडम ऑफ दीक्षित के लिए एक झंडा भी तय कर दिया है, जिसके साथ उन्होंने अपनी फोटो सोशल मीडिया पर पोस्ट की। इस किंगडम की राजधानी सुयशपुर होगी।सुयश ने किंगडम का प्रधानमंत्री और मिलिट्री हेड अपने पिता को बनाया है। उन्होंने छिपकली को देश का राष्ट्रीय पशु चुना है।
        सुयश ने अपने फेसबुक अकाउंट पर एक पोस्ट में लिखा- “आज से मेरा नाम किंग सुयश दीक्षित है और मैं किंगडम ऑफ दीक्षित का पहला दावेदार हूं। मैं इस 2072 वर्ग किलोमीटर की जमीन पर अपनी दावेदारी पेश करता हूं। यहां आने के लिए मैंने रेतीले स्थानों पर 319 किमी का सफर तय किया है।मैं कुछ आतंकवाद प्रभावित इलाकों से होकर यहां तक पहुंचा हूं। मुझे पता चला है कि मुझसे पहले यहां 5-10 लोग दावा कर चुके हैं।अब यहां मेरा दावा है। अगर वो इस जमीन को मुझसे वापस लेना चाहते हैं तो उन्हें मेरे साथ जंग लड़नी होगी। ये जंग कॉफी पीकर लड़ी जाएगी।

                                                                                                           उन्होंने इस देश की एक वेबसाइट https://kingdomofdixit.gov.best नाम से भी तैयार की है। साथ ही लिखा है कि मेरे देश में अभी कई पोस्ट खाली हैं। कोई भी अप्लाई कर सकता है। सुयश ने अपने आप को फेसबुक पर राजा घोषित किया है। उनका कहना है उन्होंने यहां तक पहुंचने के लिए 319 Km का सफर तय किया है। जब वे इजिप्ट से निकले तो वहां शूट एंड साइट के ऑर्डर थे।वहां से बड़ी मुश्किल से निकलकर इस इलाके तक पहुंचे। यहां आने के लिए रोड नहीं थी। ये पूरा इलाका डेजर्ट एरिया है।  आपको बता दें सुयश से पहले 2014 में जेरमी हीटन नाम के एक शख्स ने भी इस जगह पर अपना दावा किया था।

मध्यप्रदेश के इंदौर शहर के रहने वाले सुयश दीक्षित ने सूडान और मिस्त्र के बीच एक नया देश बनाया है। इसके बाद उसने इस इलाके का राजा खुद को घोषित कर दिया।इस इलाके को सुयश ने किंगडम ऑफ दीक्षित नाम दिया, वहीं अपना झंडा भी फहरा दिया है। सुयश चाहते हैं कि यूएन इस इलाके के लिए मान्यता दे।

 

 

Comments are closed.