ब्रेकिंग – पटना के मसौढ़ी में वर्चश्व की जंग में भिड़े दो गुट, ताबड़तोड़ फायरिंग से सहम इलाका, एक को लगी गोली, खोखा और जिंदा कारतूस बरामद

पटना Live डेस्क। राजधानी पटना के लिए सोमवार का दिन बेहद अखरखन वाला साबित हुआ। त्योहारों के दौरान पटना पुलिस की तमाम चुस्त दुरुस्त व्यवस्था के इतर अपराधियों ने पूरे दिन जिले में जमकर बंदूख चमकाया और गोलीबारी की घटना को अंजाम दिया। इसी कड़ी में राजधानी से सटे मसौढ़ी के बलियारी के समीप लंबे समय से दो गुटों में जारी गतिरोध ने खूनी शक्ल अख्तियार कर लिया और फिर इलाके में वर्चस्व ज़माने ख़ातिर दोनों गुट भीड़ गए।


एक गुट का नेतृत्व कुख्यात अपराधी और हाल ही में जेल से बाहर आये तरंगा यादव कर रहा था वही दूसरे गुट का सरगना दिलीप पाण्डेय है। जेल से बाहर आते ही इलाके में तरंगा अपने पुराने रुआब और वर्चश्व को कायम करने में जुटा है। इधर इलाके में अपना दबदबा बना चुके पांडेय गिरोह भी अपनी बादशाहत को खोने को तैयार नही है। इसी को लेकर अपराधी दिलीप पांडेय और उसका गैंग लागतार तरंगा गैंग का विरोध कर रहा था। इसी को लेकर  सोमवार को दोनों अपराधियों का गैंग भिड़ गए।दोनों गैंगों की भिड़त मसौढ़ी के बलियारी इलाके मे हुई जहा दोनों तरफ के बन्दूकबाजों नेताबड़तोड़ फायरिंग कर इलाके को खौफज़दा कर दिया। दोनों गुटों की इस भिड़ंत में तकरीबन 20 राउंड से ज्यादा फायरिंग के दावे किए जा रहे है। फायरिंग के दौरान एक गुट से जुड़े एक शख्स को पैर में गोली लग गई। इस भिड़त की जानकारी मिलते ही पुलिस घटना स्थल की ओर दौड़ पड़ी। लेकिन पुलिस की टीम के मौके पर आने की सूचना मिलते ही दोनों गैंग के अपराधी फरार हो गए। वही ग्रामीणों के अनुसार तरंगा गिरोह अपने जख्मी साथी को भी लेकर भाग निकला।

                      वही, पटना एसएसपी मनु महाराज ने दोनों गैंग के बीच हुए भिड़त के दौरान गोलीबारी की घटना को सही बताया पर 20 राउंड गोलियां चलाए जाने से साफ साफ इन्कार किया है। वही एसएसपी के अनुसार तरंगा यादव और दिलीप पांडेय के बीच इलाके में वर्चस्व कायम करने को लेकर लड़ाई चल रही है। घटना स्थल से पुलिस को एक जिंदा कारतूस और एक खोखा मिला है। एसएसपी ने दावा किया है कि जल्द ही दोनों अपराधियों तरंगा और दिलीप पांडेय को गिरफ्तार कर लिया जाएगा।