EXCLUSIVE – कुख्यात दुर्गेश शर्मा की गिरफ्तारी की कहानी उसकी पत्नी की जुबानी

पटना Live डेस्क। पुलिस की फाइलों में 36 मुकदमों में नामजद जिले के टॉप टेन अपराधियों में शुमार कुख्यात 50 हज़ार का ईनामी कुख्यात दुर्गेश शर्मा को एसटीएफ ने शनिवार को राजेन्द्र नगर टर्मिनल से ज़ीरोइन कर लिया और फिर उसे बख्तियारपुर स्टेशन पर ट्रेन से एसटीएफ द्वारा उतार लिया गया। दुर्गेश को राजेंद्रनगर-न्यू तिनसुकिया एक्सप्रेस से उस वक्त धर दबोचा,जब वह अपने बच्चो और पत्नी कविता शर्मा के साथ पूजा करने के लिए कामाख्या जा रहा था। राजेन्द्र नगर स्टेशन पर अपने परिवार संग जैसे ही दुर्गेश ट्रेन में सवार हुआ पहले से ट्रेन की एस-7 स्लीपर बोगी और एस -5 में सादी वर्दी में मौजूद एसटीएफ जवान ने उसको जीरोइन कर लिया है। इंतज़ार बस ट्रेन के खुलने का था और जैसे ही ट्रेन राजेन्द्र नगर टर्मिनल से सरकना शुरू हुई अचानक ट्रेन में मौजूद एसटीएफ दस्ते से दुर्गेश को घेर लिया खुद को अंजान लोगो से घिरा देख वो पल भर में ही समझ गया और फिर बिना किसी प्रतिरोध के खुद को दुर्गेश ने पुलिस के हवाले कर दिया। खुद का खेल खत्म होता देख दुर्गेश सिर्फ पत्नी और बच्चों को लागतार देखता रहा है। तबतक ट्रेन बख्तियारपुर जंक्शन पहुच गई जहा आईजी कुंदन कृष्णन सादे लिबास में अपनी टीम के साथ मौजूद थे।

     बख्तियारपुर में एसटीएफ दस्ते ने दुर्गेश को उतारा लिया, पति को उतरता देख पत्नी भी दुर्गेश के साथ उतर गई।चुकी पत्नी और बच्चों पर किसी प्रकार का कोई मामला नही है एसटीएफ ने उसे दोबारा ट्रेन में चढ़ा दिया ताकि कोई तमाशा न हो। उल्लेखनीय है कि दुर्गेश ने लव मैरिज किया है।


उधर ट्रेन खुली और इधर एसटीएफ की टीम दुर्गेश को पटना लेकर रवाना हो गई। वही दूसरी तरफ़ अचानक पति को कुछ लोगो द्वारा ट्रेन से उतार लिए जाने से सदमे की हालत में पत्नी कविता अगले स्टेशन मोकामा में ट्रेन से उतर गई और वहां से फिर वो बख्तियारपुर स्टेशन पहुची और फिर रेल थाना प्रभारी से जिरह करने लगी। उसका कहना था कि उसके पति को कहा रखा गया है उससे मिलवाईये वो ठीक तो है। उन्होंने ने कोई गलत काम नही किया है ..