बिहार के ऋषभ राज का जलवा बरक़रार, 10वीं -12वीं टॉप करने के बाद बना एम्स-टॉपर

0
155

पटना Live डेस्क। बिहार के झाझा का रहने वाला ऋषभ राज ने अत्यंत प्रतिष्ठित परीक्षा एम्स में छठा रैंक प्राप्त कर पूरे बिहार को गौरान्वित किया। ऋषभ को एम्स में 99.9985 मार्क्स हासिल हुए हैं। एआईआर छठे पायदान की रैंकिंग की बदौलत उसे एम्स, दिल्ली में एडमिशन मिलना तय है। ऋषभ का नाम जैसे ही ऑल इंडिया स्तर के टॉप टेन में शुमार हुआ, उनके घर के आगे मानो मीडिया वालो की लाइन लग गयी। कामयाबी के आइने में समाज व मीडिया की यह दिलचस्पी स्वाभाविक भी थी।

हाल ही में 28 मई को सीबीएसई बारहवीं की परीक्षा में ऋषभ अपने जिला का टॉपर बना था। उसके बाद 10 जून को जवाहर लाल इंस्टीच्यूट ऑफ पोस्ट ग्रेजुएट मेडिकल एजुकेशन एंड रिसर्च में पूरे देश में ऋषभ को 15वां स्थान मिला। एक हफ्ते के अंदर-अंदर एम्स में भी छठा रैंक ला कर मानो बिहार के ऋषभ ने इतिहास ही रच दिया हो। ऋषभ ने करीब 25 दिनों के भीतर एक के बाद एक राष्ट्रीय स्तर की तीन परीक्षाओं में राष्ट्रीय स्तर की रैंकिंग हासिल कर सफलता की हैट्रिक लगाते हुए अपने माता-पिता सहित पूरे राज्य का नाम गर्व से ऊँचा किया है।

ऋषभ का परफॉरमेंस :
1. आईसीएसई 10वीं में झाझा के संत जोसफ स्कूल से जिला टॉपर रहे
2. सीबीएसई 12 वीं में जिला टॉपर रहा था।
3. ऋषभ को एम्स में 99.9985 मार्क्स हासिल हुए हैं।
4. शौकिया तौर पर आईआईटी जेईई का भी एग्जाम दिया, जिसमे 212 मार्क्स लाने में वो सफल रहे थे।

ऋषभ का कहना है कि ,”मेरे पिता जी कहते थे कि जहां भी रहो टॉप पर रहो। उनकी बातों को ध्यान में रख कर ही मैंने पढ़ाई की थी। मेरे पिता से मुझे प्रेरणा मिली है। पिता की उन्हीं नसीहतों का ये सब असर है।” बता दें कि ऋषभ राज के पिता अजित बर्णवाल पेशे से व्यवसायी है। ऋषभ की माता का नाम रेखा देवी है, जो की एक गृहिणी है। उनकी बहन ऐश्वर्या धनबाद आईआईटी में इलेक्ट्रिकल के सेकेंड इयर की छात्रा है। पूरी फैमिली झाझा में पुरानी बाजार के रहने वाले है। सफलताओं की हैट्रिक के बाद ऋषभ का दूसरा नाम सफलता ही बन गया है।