Super Breaking – मनु महाराज ने दिखाया रौद्र रूप तो महज 5 दिन में बाइकर्स गिरोह के सरगना “गोलू सिंह” रॉकर्स को साथी संग पश्चिम बंगाल जाकर पटना पुलिस ने दबोचा

पटना Live डेस्क। राजधानी की सड़कों पर खुलेआम गुंडागर्दी कर शहर को समय समय पर थरर्रा देने वाला कुख्यात बाइकर्स गैंग “किंग्स ऑफ पटना” का तथाकथित सरगना गोलू सिंह रॉकर्स को उसके एक साथी संग पश्चिम बंगाल के मेदिनीपुर जिले के दीघा बीच बायपास स्थित श्याम हिल होटल के बाहर से शुक्रवार-शनिवार की दरमियानी रात तकरीबन डेढ़ बजे एएसपी (ऑपरेशन) राकेश दुबे की टीम ने दबोच लिया,जहा वो अपने कुल चार साथियों संग ठहरा था। गोलू सिंह के साथ गिरफ्तार उसके साथी का नाम दीपू बताया जा रहा है। वही बाक़ी अन्य 2 लड़के जो गोलू के संग थे वो भागने में कामयाब रहे।फरार दोनों के बाबत मिली जानकारी के अनुसार उनके नाम शानू पांडेय और मानिश मलिक बताये जा रहे है। कुख्यात गोलू को साथी संग गिरफ्तार करने के बाद पटना पुलिस की विशेष टीम रात को ही दीघा से दोनों को लेकर कोलकाता के लिए रवाना हो गई। खबर लिखे जाने तक गिरफ्तारी के बाद एसएसपी मनु महाराज की टीम उसे लेकर कोलकत्ता में पहुची है। ख़बर लिखे जाने तक पटना पुलिस का विशेष दस्ता गिरफ्तार दोनों को लेकर कोलकत्ता स्थित पश्चिम बंगाल पुलिस हेडक्वार्टर लाल बाजार में मौजूद है।उम्मीद जताई जा रही है कि रविवार की छुट्टी होने की वजह से सोमवार को पटना पुलिस दोनों को कोर्ट में पेशकर ट्रांजिट रिमांड पर लेकर पटना पहुचेगी।

दुःसाहस का चरम 

पूरा मुल्क जब 71वें स्वतंत्रा दिवस की पूर्व संध्या पर आज़ादी पर्व की तैयारी में मुतमइन था। बिहार की राजधानी में 14 अगस्त की शाम को बेहद दबंग और कुख्यात बाइकर्स गिरोह ने स्वतंत्रता दिवस ख़ातिर पटना पुलिस की चाक चौबंद सुरक्षा व्यवस्था को ध्वस्त करते हुए एक बार फिर पटना पुलिस के तमाम दावो की धज़्ज़िया उड़ाते हुए बीच सड़क गुंडागर्दी का खुला प्रदर्शन कर दिया। किंग्स ऑफ पटना नामक बाइकर्स गैंग ने दुस्साहस का चरम मुजाहिरा करते हुए पटना पुलिस के स्वतंत्रता दिवस की सुरक्षा बंदोबस्त की पोल खोलते हुए सरेआम सड़क पर भगदड़ मचाते हुए श्रीकृष्णपूरी थाना क्षेत्र के बसावन पार्क के समीप ताबड़तोड़ फायरिंग करते हुए जबरदस्त तांडव मचा दिया था। साथ ही बसावन पार्क के समीप डीजे चलाने वाले युवक व न्यू पुनाईचक निवासी सोनू  को लाठी डंडे,ईट और रॉड से युवक को खदेड़ खदेड़ कर पीट पीट कर किया लहूलुहान कर दिया और फिर पिस्तौल की बट से सिर फोड़ दिया था। इसी दौरान बसावन पार्क के समीप स्थित कई निजी कंपनियों के कार्यालयों व गैराज में रखे तकरीबन एक दर्जन वाहनों में तोड़-फोड़ कर जम कर उत्पात मचाया था। इस दौरान फायरिंग भी की गयी थी, हालांकि पुलिस ने फायरिंग से इनकार किया था।


इस घटना ने न केवल मीडिया की सुर्खियां बटोरी बल्कि पटना पुलिस की सुरक्षा के दावो की बुरी भद्द पीट गई।खैर,15अगस्त का कार्यक्रम  बिना किसी बाधा के सम्पन्न होते ही पटना पुलिस ने बाइकर्स गैंग के दुस्साहस को बतौर चैलेंज स्वीकार करते हुए बाइकर्स गिरोह की गुंडागर्दी से शहर को हमेशा के लिए निज़ात दिलाने की ठान ली। फिर क्या था पटना के एएसपी(अभियान) राकेश दुबे के नेतृव में एसएसपी मनु महाराज ने एक टीम गठित कर जल्द से जल्द “शहर के तमाम बाइकर्स गिरोह” के सदस्यों और सरगनाओं को धर दबोचने का आदेश दिया। खासकर बोरिंग रोड से करीब 5 किलोमीटर के दायरे में अपनी दबंगता दबदबा बना रखे बाइकर्स को सबसे पहले धर दबोचने का फरमान भी जारी किया। एसएसपी मनु महाराज ने बेहद सख्त लहजे में इनकी गिरफ्तारी जल्द से जल्द करने की ताकीद अपने अधीनस्थों से की।

डीआईजी,दो एसपी समेत 60 पुलिस वाले सड़क पर

बाइकर्स गिरोह “किंग्स ऑफ पटना” द्वारा के 14अगस्त की रात्रि किये गए दुःसाहस से पटना पुलिस किस कदर भन्नई थी इसका अंदाज़ा आप इस बात से लगा सकते है कि पटना के डीआईजी राजेश कुमार स्वयं बाइकर्स गिरोह के ख़िलाफ़ अभियान का नेतृत्व करने लगे। डीआईजी के आदेश पर बोरिंग रोड सहित राजधानी के उन इलाकों में कड़ी चेकिंग लगाई गई,जहां पर बाइकर्स का आतंक क्षेत्र रहा। वही,डीआईजी का आदेश मिलते ही शहर के दो सिटी एसपी एक साथ जांच करने पटना की सड़कों पर उतर गए। सिटी एसपी सेंट्रल अमरकेश दारपीनेनी और सिटी एसपी ईस्ट विशाल शर्मा ने खुद कई बाइकर्स को चेक किया। महिला पुलिस फोर्स को मिलाकर करीब 60 पुलिस वाले मौके पर चेकिंग में लगे रहे। पटना पुलिस बाइकर्स गैंग के खिलाफ बेहद सख्त एक्शन लेने में जुट चुकी थी।

पटना छोड़ 4 साथियों संग फरार

वही, दूसरी तरफ सड़क पर तांडव मचाने वाले किंग्स ऑफ पटना के सरगना को जब पुलिस द्वारा उसकी पहचान हो जाने का पता और एसके पूरी थाना द्वारा मयंक समेत अन्य बाइकर्स की गिरफ्तारी की ख़बर और खुद के ऊपर कसते पुलिसिया शिकंजे को भाप गोलू सिंह पटना छोड़ निकल भागा और रांची होता हुआ वेस्ट बंगाल के समुद्री तट वाले पर्यटन स्थल दीघा में जाकर मौज मस्ती करने लगा। वही से उसने एक बड़ी गलती कर दी और अपने दोस्तों शानू पांडेय, मानिश मलिक और दीपू कुमार के साथ दीघा बीच पर मस्ती करते हुए फेसबुक पर अपनी तस्वीरें Live कर दी।

बाइकर्स गिरोह “किंग्स ऑफ पटना”

पटना के बेहद चर्चित और कुख्यात बाइकर्स गैंग किंग्स ऑफ पटना महज कुछ सालों में ही पुलिस के लिए सिर दर्द बन गया। यह बाइकर्स गैंग उस वक्त चर्चा में आया जब इसने शहर के दूसरे बाइकर्स गैंग रोमेर्स के शिवम् बादशाह को हथुआ मार्किट से किडनैप कर शहर के अपने विभिन्न अड्डो पर कैद कर नंगा कर जम कर मारपीट करते हुये उसका एमएमएस बनाकर सोशल मीडिया पर डाल दिया था। उस मामले में गिरोह का दूसरा सरगना मानिश मलिक अपने 4 साथियों संग पुलिस द्वारा गिरफ्तार किया गया था।

कड़ी मशक्कत के बाद गिरफ्तार

मामले के सार्वजानिक होने पर पटना के पीरबहोर थाना क्षेत्र में अपहरण और मारपीट की धाराओं में मामला दर्ज कर एसआई सतेंद्र कुमार के नेतृत्व पुलिस टीम जब किंग्स ऑफ पटना नामक इस गैंग के पीछे पड़ी तो इस गैंग से जुड़े कई लड़के गिरफ्तार हुए पर ये अंडर ग्राउंड हो गया। वहीं इस मामले में नामजद इसका सगा छोटा भाई दानिश मालिक विदेश भाग गया। धीरे धीरे वक्त बीता और ये पुनः एक बार राजधानी की सड़कों पर उधम मचाने लगे। फिर मानिश उसने और इसके साथियों ने कोतवाली थाना अंतर्गत 25 दिसंबर को क्रिसमस की एक पार्टी जो अदिति मैरिज हॉल में आयोजित थी, उस में घुस कर मारपीट की थी। मामले के प्रकाश में आने के बाद एसएसपी मनु महाराज ने बेहद सख्त लहजे में इनकी गिरफ्तारी जल्द से जल्द करने की ताकीद अपने अधीनस्थों को दी थी।

गैंग का बना रखा है फेसबुक और वाट्सएप ग्रुप

पुलिसके मुताबिक किंग्स ऑफ पटना बाइकर गैंग का फेसबुक और वाट्सएप ग्रुप भी है। इन्हीं दोनों सोशल मीडिया के जरिए यह गैंग एक-दूसरे के संपर्क में रहता है। कहीं भी कुछ वारदात करनी होती है, तो जानकारी वाट्सएप या फेसबुक पर डाल दी जाती है।

सुनसान इलाकों में करते हैं लूटपाट भी

बक़ौल एसएसपीमनु महाराज के यह गैंग सुनसान इलाकों में राहगीरों से लूटपाट करता है। स्कूल के समय स्कूल के पास जमा रहते हैं। छेड़खानी करते हैं। विरोधी बाइकर गैंग से कई बार मारपीट कर चुके हैं। पुलिस इस गैंग के अन्य युवकों को तलाश रही है।