Super Exclusive – सुशासन के स्वास्थ्य विभाग का कमाल उस डॉक्टर को दिया प्रमोशन बना दिया नवादा सदर अस्पताल का अधीक्षक जो ….

0
391

पटना Live डेस्क। सुशासन सरकार के स्वास्थ्य विभाग ने गुरुवार यानी 21 जून की देर रात बड़े पैमाने पर चिकित्सकों का तबादला कर दिया। इस तबादले में सिविल सर्जन,एसीएमओ,आरडीडी सहित दर्जन भर से अधिक अस्पतालों के अधीक्षक व उपाधीक्षक के अलावा 100 से अधिक डाक्टरों की ट्रांसफर पोस्टिंग की गई। वही वरीयता क्रम को देखते हुए कई डॉक्टरों को प्रमोशन देकर नई जगह पोस्टिंग दी गई।                                                        स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी लिस्ट में वरीयता क्रम 4053 पर डॉक्टर नागेंद्र भूषण सिंह जो डुमरांव में उपाधीक्षक के पद पर तैनात थे को प्रमोशन देते हुए अधीक्षक सदर अस्पताल नवादा के पद पर नियुक्त कर दिया गया है। साथ ही स्वास्थ्य विभाग की ओर से निर्देशित किया गया है की स्थानन्तरित चिकित्सा पदाधिकारी को नए पोस्टिंग वाले अस्पताल में तुरंत योगदान सुनिश्चित करना है।              स्वास्थ्य विभाग की अमंगल लीला                                                जिस महकमे पर आम आदमी के स्वास्थ्य की जिम्मेदारी है उस विभाग का हाल ये है उसे अपने  ही चिकित्सकों के बारे में ही पुख्ता जानकारी नहीं है,की कौन जीवित है कौन मर गया कौन क्या कर रहा है, तो फिर आगे कुछ कहना ही बेमानी है। दरअसल बक्सर के डुमरांव के अनुमंडल चिकित्सा पदाधिकारी रहे नागेन्द्र भूषण सिंह जिनको प्रमोशन देकर नवादा सदर अस्पताल का अधीक्षक बनाया गया है वो जीवित ही नही है। 10 मई, 2018 को डुमरांव के अनुमंडल अस्पताल में ड्यूटी के दौर ही हृदय गति रुक जाने की वजह से Dr सिंह की मौत हो गई थी। बावजूद इसके स्वास्थ्य विभाग ने घोर लापरवाही का परिचय देते हुए मृतक स्वर्गीय डॉ नागेंद्र भूषण सिंह का उल्लेख प्रमोशन और स्थानांतरण लिस्ट में किया है।                           सूबे की सुशासन सरकार ने जनता के हेल्थ की जिम्मेदारी भाजपा के कोटे से मंगल पांडेय को बतौर मंत्री दे रखा है। मंत्रालय सभालते ही पांडेय ने ताबड़तोड़ घोषणाओं की झड़ी लगा दी है। तो जनता को लगा कि मंत्री जी जनता का कुछ भला करेंगे और स्वास्थ्य सेवाओं जल्द ही मंगलमय व्यवस्थाएं लागू हो जाएगी,लेकिन अब लगता है जैसे बिहार के स्वास्थ्य विभाग जो पहले ही कसम खा चुका हम नही सुधरेंगे के रंग में रंग चूके मिनिस्टर साहब भी बस बयान वीर ही है।