गया: 15 दिनों तक चलने वाला पितृपक्ष मेला शुरु,यहां श्राद्ध और तर्पण करने से होता है पितरों का उद्धार

पटना Live डेस्क. गया में 15 दिनों तक चलने वाले पितृपक्ष मेला शुरु हो गया है..इन पंद्रह दिनों में लोग पितरों के लिए श्राद्ध और तर्पण करेंगे…गया में फल्गु नदी के तट पर देश-विदेश समेत बिहार से बाहर के लोग भी अपने पितरों का श्राद्ध और तर्पण करने पहुंच रहे हैं.  ऐसी मान्यता है कि गया में भगवान विष्णु पितृ देवता के रुप में निवास करते हैं. यहां अति प्राचीन विष्णुपद मंदिर स्थित है जिसमें भगवान विष्णु के पदचिन्ह आज भी मौजूद हैं.

पितरों के श्राद्ध और तर्पण के लिए बिहार के गया धाम को सबसे बेहतर माना जाता है. यही कारण है कि अधिकांश लोग पितरों को मोक्ष की प्राप्ति के लिये गया में पिंडदान करने आते हैं.

मान्यता के अनुसार गया में श्राद्ध कर्म करने के बाद विष्णुपद में भगवान विष्णु के दर्शन करने से व्यक्ति को पितृ-मातृ ऋण से मुक्ति मिल जाती है. गया के विष्णुपद मंदिर में भगवान विष्णु के पदचिन्ह आज भी मौजूद हैं. ये मंदिर फल्गु नदी के किनारे स्थित है. ऐसा भी माना जाता है कि गया में श्राद्ध और तर्पण करने से व्यक्ति को स्वर्गलोक की प्राप्ति होती है. पिंडदान का स्थल गया शहर से लगभग आठ किलोमीटर की दूर है जिसे प्रेतशिला भी कहा जाता है. इस इलाके में पिंडदान करने से पितरों के उद्धार होता है.