समस्तीपुर: लगातार हो रही बारिश के चलते करेह नदी उफनाई,आसपास के इलाकों में मंडराया बाढ़ का खतरा

91

अफरोज आलम/दीपक कुमार/समस्तीपुर

पटना Live डेस्क. करेह नदी के जलग्रहण क्षेत्र में लगातार हो रहे बारिश के चलते शिवाजीनगर और आसपास के इलाकों  में बाढ़ का खतरा मडराने लगा है. समय पूर्व तटबंध की देखभाल नहीं होने के चलते कई जगहों पर चूहे, गीदड़ जैसे जानवरों ने बिल और मांद बना कर इसे खोखला कर दिया है. वहीं लगातार हो रही वर्षा से भी कई जगहों पर रेन कट बना हुआ है जो एक गंभीर खतरा पैदा कर रहा है.

हायाघाट सियाचीन करेह नदी तटबंध के दाएं भाग में कई स्थानों मसलन धर्मपुर, विशनपुर, नवका टोल, शंकरपुर, महदेवा,परबन्ना, दुवेपुर, गनौली, बड़ियाहीघाट, हथौडी़ कोठी तथा बायाँ तटबंध के छतौनी, रन्ना, खड़शाम, थाही, मजरैहिया, गुलराही, बुनियादपुर, गम्हरिया शिव मंदिर, कॉकर, कोठिया, शिवराम जैसे गांव के पास पिछले एक दशक से मिट्टीकरण नहीं होने के चलते ढ़ाला के उपर से पानी का बहाव देखने को मिल रहा है. दरभंगा में आई बाढ़ ने भी इसे और विकराल बना दिया है. तटबंध में शुक्रवार को बुनियादपुर, महदेवा, गुलराही सहित कई स्थानों पर पानी का रिसाव देख लोगों में अफरा तफरी का महौल बन गया.

लोगों द्वारा करेह नदी तटबंध को खुलेआम अतिक्रमित कर अवैध ढ़ंग से मवेशियों के आवास बना लेने से तटबंध की स्थिति दयनीय हो गयी है. विभाग के द्वारा ऐसी स्थिति में केवल बोरी में मिट्टी भरकर सुरक्षा हेतु डाला जा रहा है,जो कि अपर्याप्त है. तटबंध की सुरक्षा के लिए कुछ जगहों पर चौकीदारों को लगाया गया है. शंकरपुर पंचायत के मुखिया रेखा देवी, डुमरामोहन के चंदन देवी, रहियार दक्षिण के प्रदीप कुमार महतो,आदि ने तटबंध की मिट्टीकरण कराने की मांग की है.