कुख्यात रंजीत महतो उर्फ रंजीत डॉन की खत्म हो गई कहानी

पटना Live डेस्क। बिहार के मधुबनी में एसटीएफ ने कुख्यात रंजीत डॉन की कहानी पर फुल स्टॉप लगा दिया। बुधवार की अहले सुबह कुख्यता रंजीत महतो को मार गिराया। रंजीत महतो उर्फ रंजीत डॉन के नाम से इलाके में दहशत का पर्याय बना हुआ था। रंजीत डॉन पर हत्या, डकैती और रंगदारी के कई मामले दर्ज थे।प्राप्त जानकारी के अनुसार बुधवार अहले सुबह तकरीबन 3 बजे मधुबनी जिले के जयनगर का गोब- राही गोलियों की तड़तड़ाहत से गूंज उठा. मधुबनी जिला पुलिस को यह सूचना मिली थी कि रंजीत डॉन अपने साथी के साथ किसी बड़े घटना को अंजाम देने की फिराक में इलाके में मौजुद है।

पुलिस को उसके ठहरने के बाबत पुख्ता जानकारी मिली कि  वो जयनगर थाना के डोरवाला में पूर्व मुखिया रामबाबू यादव की ईंट भट्ठा पर पनाह लिये हुए है।पुलिस और एसटीएफ ने कुख्यात रंजीत डॉन को ठिकाने लगाने के लिए ईंट भट्ठे के साथ पूरे इलाके को घेर लिया। खुद को घिरता देख रंजीत ने फायरिंग शुरू कर दी। रंजीत के फायरिंग करने के बाद पुलिस ने भी मोर्चा संभाला और जवाबी गोलीबारी शुरू हो गई। दोनों तरफ से लगभग 2 घंटे तक फायरिंग होती रही है।आखिरकार एसटीएफ की टीम ने रंजीत डॉन को मार गिराया।
इनकाउंटर के बाद पुलिस ने मौके से 2 कारबाइन और पिस्टल बरामद किया है। इस एनकाउंटर में रंजीत के तीन साथी भागने में कामयाब रहे। फरार तीनों अपराधियों की तलाश में पुलिस लगातार छापेमारी कर रही है। उल्लेखनीय है कि मंगलवार की देर शाम कुख्यात अपराधी बाला मिश्रा को पुलिस ने गिरफ्तार किया था। पुलिस ने जब उससे सख्ती से पूछताछ की तो बाला मिश्रा ने ही रंजीत के ठिकाने की जानकारी दी थी। इसी सुचना पर आगे बढ़ते हुए पुलिस ने रंजीत की कहानी पर फुल स्टॉप लगा दिया।