बेधड़क ...बेलाग....बेबाक

BiG News – दुकानों पर लंबी लंबी लाइनो को देख Zomato ने लिया फैसला शराब की करेगा होम डिलीवरी

87

- Advertisement -

पटना Live डेस्क। 41 दिनों बाद Lockdown के तीसरे चरण में शराब की दुकानें खुलीं तो लोग इस कदर टूट पड़े जिससे कोरोना वायरस के फैलने की आशंका पैदा हो गई है। इस दौरान देश के कई राज्यों में शराब की दुकानों पर कई किलोमीटर लंबी लाइनें देखने को मिल रही हैं। लोग सुबह से ही शराब की दुकानों के बाहर इकट्ठा होना शुरू गए। इस दौरान कई राज्यों में पुलिस को लाठियां भी चलानी पड़ी।

                 मौके का फायदा उठाने और इतनी बड़ी भीड़ को रोकने के लिए राज्य सरकारों ने भी मौके पर चौका लगाते हुए शराब (Liquor) पर 70 प्रतिशत का ‘विशेष कोरोना टैक्स (Special Corona Tax)’ लगा दिया। वही, दारू खातिर देश भर में उमड़ी दीवानगी को देखते हुए अब जोमैटो (Zomato) भी इसी मौके का फायदा उठाने की तैयारी करते हुए बड़ा फैसला किया है। दरअसल, देश भर में फूड डिलीवरी करने वाली कंपनी जोमैटो (Zomato) ने घर तक शराब पहुंचाने का फैसला लिया है।

- Advertisement -

यानी अब देश भर के विभिन्न राज्यो और मेट्रो शहरों में शराब के शौकीनों और पीने पिलाने व महफ़िल सजाने वालो को दुकान पर लंबी लाइनें और कतार में खड़े होकर अपनी बारी का इंतजार नही करना पड़ेगा। आने वाले दिनों में जोमैटो के जरिए शराब भी ऑर्डर की जा सकेगी।न्यूज एजेंसी रॉयटर्स के अनुसार, शराब की जबर्दस्त डिमांड को देखते हुए जोमैटो अब शराब की होम डिलीवरी शुरू करने के लिए तमाम कोशिशें शुरू कर चुका है।

 मौके का फायदा उठाना चाहती है कंपनी

25 मार्च से देश में शराब की दुकानें (Liquor Shops) बंद थीं।लगभग 41 दिनों बाद, 4 मई को लॉकडाउन  (Lockdown) के तीसरे चरण में देश के कई हिस्सों में शराब की दुकानें खोलने की छूट दी गईं। दुकानें खुलते ही दुकानों के बाहर कई किलोमीटर लंबी-लंबी कतारें लग गईं। सोशल डिस्टेंसिंग की इस तरह से धज्जियां उड़ता देख मुंबई में शराब की दुकानें, खोलने के दो दिनों के अंदर ही फिर से बंद कर दी गईं। मौके का फायदा उठाने और इतनी बड़ी भीड़ को रोकने के लिए, राज्य सरकारों ने शराब पर 70 प्रतिशत का ‘विशेष कोरोना टैक्स’ भी लगा दिया।अब जोमैटो भी इसी मौके का फायदा उठाने की तैयारी में है।

Lockdown का असर जोमैटो पर भी

लॉकडाउन के चलते कुछ रेस्तरां बंद कर दिए गए और लोगों ने भी बीमारी के डर से बाहर से खाना ऑर्डर करना बंद कर दिया है। गैर जरूरी सामानों पर रोक लगता देख पिछले दिनों जोमैटो ने किराने के सामानों की डिलिवरी शुरू कर दी थी।

शराब की होम डिलीवरी के लिए दिया यह तर्क

इस समय भारत में शराब की होम डिलीवरी के लिए कोई कानून नहीं है। अलग-अलग राज्यों में शराब पीने की कानूनी उम्र की शुरुआत 18 से 25 वर्ष के बीच होती है। उद्योग संगठन इंटरनेशनल स्पिरिट्स एंड वाइन एसोसिएशन ऑफ इंडिया (ISWAI) से जुड़े लोग चाहते हैं कि सरकार इसे लेकर कोई कानून बनाए। ISWAI के कार्यकारी अध्यक्ष अमृत किरण सिंह (Amrit Kiran Singh) ने कहा है कि राज्यों को शराब की होम डिलीवरी को अनुमति देनी चाहिए ताकि लॉकडाउन में राज्यों के राजस्व में बढ़ोत्तरी हो सके।

जोमैटो के CEO मोहित गुप्ता (Mohit Gupta) ने ISWAI को एक बिजनेस प्रपोजल देते हुए लिखा है, “हमारा मानना ​​है कि यदि टेक्नोलॉजी की मदद से शराब की होम डिलीवरी की जाती है, तो शराब की खपत को मजबूती मिल सकेगी। गुप्ता ने कहा कि हम उन स्थानों पर शराब की डिलिवरी करना चाहते हैं, जहां कोरोना (Coronavirus) का कहर कम है।

- Advertisement -

Comments are closed.