बेधड़क ...बेलाग....बेबाक

BiG News-UPSC पास करने की खबर निकली फर्जी,सहरसा वाले मनीष को नही मिला है 581वां रैंक,बल्कि वो तो …..

मनीष ने बताया कि जब परीक्षा का रिजल्ट आया तो उसने परिणाम में केवल अपना नाम देखा, रोल नंबर समेत अन्य जानकारी का मिलान नहीं किया था। इस गलती के कारण उसे ये गलतफहमी हो गई कि वह परीक्षा में पास हो गया है।वही बेटे ने पास किया UPSC तो परिजनों ने जमकर बांटी मिठाई, फिर हुआ कुछ ऐसा जिससे बदल गया पूरा माहौल

638

पटना Live डेस्क। एक ओर जहाँ संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) ने बीते दिनों साल 2020 में हुए परीक्षा का रिजल्ट जारी किया। बिहार के कटिहार जिला निवासी शुभम कुमार ने परीक्षा में पहला स्थान पाकर प्रदेश का नाम रौशन किया।तो वही बिहार के सहरसा के ही मनीष कुमार (Manish Kumar) के यूपीएससी (UPSC) की सिविल सेवा परीक्षा में सफलता की कहानी पूरी झूठी निकली है, वास्तविक में जिस मनीष कुमार ने 581 वां रैंक हासिल किया है वह दिल्ली के रहने वाले है। हालाँकि जैसे ही यूपीएससी ने रिजल्ट जारी किया, शहर के नया बाजार निवासी मनीष कुमार के घर खुशी का माहौल दिखा था।

दरअसल,संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) ने बीते दिनों साल 2020 में हुए परीक्षा का रिजल्ट जारी किया। बिहार के ही सहरसा निवासी मनीष कुमार ने भी खुद के 581वां रैंक प्राप्त कर परीक्षा में पास होने की पुष्टि की थी।मनीष के यूपीएससी में पास होने की सूचना पर परिवार में खुशी की लहर दौड़ पड़ी थी। परिजनों ने पूरे मोहल्ले और अपने करीबियों के बीच मिठाइयां बांटी थी और जमकर खुशी मनाई थी।

               बहरहाल, सहरसा शहर मनीष कुमार की यूपीएससी में सफलता की कहानी इंटरनेट मीडिया पर वायरल हो गई है। यूपीएससी सहित अन्य कई जगहों से भी इसकी सत्यता का पता अब धीरे-धीरे लोगों को चलने लगा है।

घर में था ख़ुशी का माहौल

साथ ही सहरसा के मनीष की सफलता की खबर सभी अखबारों में प्रमुखता से छापी गई साथ ही इंटरनेट मीडिया सहित अन्य डिजीटल मीडिया प्लेटफार्म पर सहरसा की प्रतिभा एवं युवाओं की सफलता के शान में कसीदे पढ़े गए। हर कोई सहरसा की प्रतिभा पर इतराने लगा। हालाँकि महज अगले दो तीन दिनों के बाद ही खबर के फर्जी होने की खबर आने से खुशी का माहौल फीका पड़ गया।

दिल्ली के रहने वाले है सफल मनीष

यूपीएससी की परीक्षा के फाइनल रिजल्ट लिस्ट में  रौल नंबर 0822521 के सामने मनीष कुमार का नाम लिखा हुआ था, लेकिन जिस मनीष कुमार ने सफलता अर्जित की है वे दिल्ली के प्रीतमपुरा के रहनेवाले हैं। इसकी जानकारी लगने के बाद सहरसा शहर के नया बाजार निवासी मनीष कुमार के घर पर गम का माहौल है।

हालांकि, जब दोबारा रिजल्ट चेक किया तो पता चला दिल्ली के पीतमपुरा का रहने वाला मनीष कुमार जो एससी कैटेगरी से आता है ने 581 वां रैंक प्राप्त कर यूपीएससी की परीक्षा पास की है।जबकि सहरसा का मनीष कुमार जनरल कैटेगरी का छात्र है।सत्य सामने आने के बाद सहरसा के मनीष को काफी दुख हुआ है और परिवार में जो खुशी का माहौल व्याप्त था, वह गम में तब्दील हो गया है।

दोबारा मेहनत करने की कही बात

इस संबंध में मनीष ने बताया कि जब परीक्षा का रिजल्ट आया तो उसने परिणाम में केवल अपना नाम देखा, रोल नंबर समेत अन्य जानकारी का मिलान नहीं किया। उसकी इस गलती के कारण उसे ये गलतफहमी हो गई कि वह परीक्षा में पास हो गया है। अपनी इस गलती के लिए अब वो माफी मांग रहा है। उसने का कि इस ओर ध्यान देना चाहिए था। आगे से ऐसी गलती नहीं होगी।नेक्स्ट अटेम्प्ट में वो सभी के आशीर्वाद से अच्छे रैंक से पास होकर दिखाएगा। उसकी मानें तो मार्कशीट आने के बाद पता चला कि वो जनरल कैटेगरी से आता है, जबकि जिस मनीष कुमार ने परीक्षा पास की है, वह एससी कैटेगरी का छात्र है।

Comments are closed.