बेधड़क ...बेलाग....बेबाक

BiG News (Viral Video)सुशासन का सुशांत “दीपक” वीडियो बनाई और खुदकुशी ख़ातिर निगल लिया सल्फास

सूबे में लगभग 14 साल से सुशासन है ये सरकार का दावा है लेकिन जमुई जिले के झाझा निवासी व्यवसायी ने सत्ताधारी दल के नेता, Dysp और थानेदार की प्रताड़ना से तंग आकर रोते हुए उनकी करतूत बताते हुए बनाया video और फिर सल्फास निगल लिया है। 

690

- Advertisement -

पटना Live डेस्क। हिंदी सिनेमा जगत के बेहतरीन अदाकारों में शुमार बिहार के मूल निवासी सुशांत सिंह राजपूत को ‘फ़िल्म इंडस्ट्री के माफिया’ द्वारा लगातार इतना प्रताड़ित किया गया की उन्होंने 14 जून को खुदकुशी कर ली। इस घटना से पूरा देश न केवल मर्माहत है बल्कि सुशांत को प्रताड़ित करने वालो को सज़ा दिलाने की कवायद में है।

इसी बीच बिहार के जमुई जिले के झाझा से एक वीडियो वायरल हुआ है जिसमे झाझा के पुरानी बाजार निवासी मानसिक रूप से अत्यधिक परेशान व्यवसायी ने सल्फास की गोली खाकर खुदकुशी करने का प्रयास किया।

                         वायरल वीडियो में रुंधे गले से तो कभी रोते हुए आम आदमी की मजबूरी, उसकी लाचारी,विवशता,उसका हिम्मत भरा संघर्ष फिर खाकीखादी द्वारा जारी प्रताड़ना के आगे बिल्कुल असहाय होकर टूट जाने के बाद रोते हुए जिंदगी खत्म करने का खौफ़नाक और हृदयविदारक फैसला लेते हुए वो आखरी अल्फ़ाज़ – ईश्वर मेरे परिवार की रक्षा करें। इस वीडियो ने आमलोगों को झकझोर कर रख दिया है। सूबे के पुलिस प्रशासन के प्रति जन आक्रोश बढ़ता जा रहा है।

‘सुशासन का सुशांत – दीपक कुमार शर्मा’

खुदकुशी का प्रयास करने वाले व्यवसायी का एक वीडियो वायरल हुआ है। पीड़ित व्यवसायी की पहचान मुख्य बाजार के दीपक कुमार शर्मा के रूप में हुई है जो मारवाड़ी युवा मंच के शाखा अध्यक्ष भी हैं।गंभीर अवस्था में व्यवसायी को रेफरल अस्पताल लाया जहां चिकित्सकों ने पटना रेफर कर दिया।

दरअसल, झाझा निवासी दीपक ने एक वीडियो बनाया और बताया कि कैसे खाकी और खादी की जुगलबंदी ने उसको आज़िज़ कर दिया है। वीडियो में स्पष्ट रूप से शख्स पूर्व मंत्री दामोदर रावत, डीएसपी भास्कर रंजन व थानाध्यक्ष पर गंभीर आरोप लगाते हुए पुलिस से किसी प्रकार मदद नहीं मिलने के कारण खुदकुशी भरा कदम उठाने की बात कही है।

वीडियो में दीपक ने अपना परिचय देते हुए कहा कि 31 मई से मैं मानसिक प्रताड़ना झेल रहा हूं। मेरे साथ एवं मेरे परिवार के साथ मुन्ना गुप्ता, सुबोध केसरी, रमा देवी शर्मा, डीएसपी भाष्कर रंजन, थानाध्यक्ष सिद्धेश्वर पासवान आदि ने मिलकर प्रताड़ना दी है। मेरी जमीन पर रामा देवी शर्मा, मुन्ना गुप्ता उसके कुछ रिश्तेदार जिसको हम पहचानते नहीं है सभी मेरे जमीन पर बाय जबरन ताला तोड़कर घूस गए और चाहरदिवारी को गिराकर अपनी चाहरदिवारी बना लिये, रूम बना दिया, छप्पर लगा दिया।

इन सब प्रकरण में लगभग 17 दिन हो गए और मैं थाना का चक्कर लगाते रहा, लेकिन थाना में किसी ने मदद नहीं की। जब थाना जाता हूं तो थानाध्यक्ष डांट कर भगा देते हैं। मेरे पास पैसा नहीं है, कमाता खाता हूं कहां से घूस खिलाउंगा। उनलोगों ने मोटा घूस खिलाया है उपर से दामोदर रावत की पैरवी है उनलोगों के पास। मैं दौड़-दौड़ कर काफी थक गया हूं, अब जिदा नहीं रहना चाहता हूं। मेरे बाद मेरे परिवार का क्या होगा, मुझे नहीं मालूम। कहीं तो कोई मेरी बात सुने। इस मामले में डीआइजी, एसपी, सांसद को भी आवेदन दिया पर कहीं से कोई मदद नहीं। डीएसपी भाष्कर रंजन कहते है कि भई आपका कागज तो धुआं मारा हुआ है, जाली है। मुझे लगता है जीवन समाप्त कर देना ही ठीक होगा क्योंकि मैं बर्दाश्त नहीं कर सकता। प्रशासन सभी की बात सुनने के लिए होता है। थाना में मेरा आवेदन नहीं लिया जाता है, भगा दिया जाता है। ईश्वर मेरे परिवार की रक्षा करें।

वायरल वीडियो में दीपक ने जिन लोगो पर गंभीर आरोप लगाए है उनमें एक है सिद्धेश्वर पासवान, थानाध्यक्ष झाझा। पटना Live टीम ने जब इस बाबत पूछा तो उनका कहना है कि व्यवसायी ने इस मामले में एसडीओ कोर्ट में आवेदन दिया था। उक्त जमीन पर 107 एवं 144 कर दिया गया है। व्यवसायी द्वारा कोई आवेदन थाना में नहीं दिया गया है।

वही भाष्कर रंजन, एसडीपीओ झाझा पर भी गंभीर आरोप व्यवसायी द्वारा लगाया गया है इस बाबत एसडीपीयो का कहना है कि एक बार दोनों पक्ष आए थे। जिसपर किसी प्रकार का कोई कार्य नहीं करने का निर्देश दिया गया था। एक दिन पहले व्यवसायी के एक अधिवक्ता ने आवेदन दिया है।

कोई फोन नहीं किया, कोई जानकारी हमें नहीं

वही,अपने वीडियो में दीपक ने सत्ताधारी दल के पूर्व मंत्री सह जदयू जिलाध्यक्ष दामोदर रावत पर तो खुदकुशी ख़ातिर सल्फास निगलने से पहले बेहद गंभीर आरोप लगाए है। इस बाबत पूर्व मंत्री का कहना रहा कि गलत कार्य की पैरवी हम नहीं करते है। इस जमीन को लेकर मैंने किसी को कोई फोन नहीं किया। इसकी कोई जानकारी हमें नहीं है।

- Advertisement -

Comments are closed.