बेधड़क ...बेलाग....बेबाक

बड़ा खुलासा – लैंड माइंस ब्लाष्ट का टारगेट बाहुबली छोटे सरकार नहीं मोकामा टाल दियारा क्षेत्र का कुख्यात दुष्कर्मी श्यामसुंदर यादव था टारगेट?

292

पटना Live डेस्क।बिहार के मोकामा में रविवार की सुबह कन्हाईपुर में हुए लैंड माइंस बम विस्फोट में मारे गए युवक की पहचान तो अबतक नहीं हो पाई है, लेकिन विश्वस्त सूत्रों पर यकीन करें तो लैंड माइन्स बम विस्फोट में मारे गए युवक का टारगेट मोकामा के बाहुबली निर्दलीय विधायक अनंत सिंह नहीं बल्कि कन्हाइपुर इलाके का ही कुख्यात दुष्कर्मी श्यामसुंदर यादव था? पटना जिले के टॉप टेन अपराधियों में शुमार और इलाके में अपनी जाति-बिरादरी की ही महिलाओं और युवतियों की अस्मत से खिलवाड़ करने वाला कुख्यात दुष्कर्मी श्याम सुंदर यादव पर हत्या,लूट,रंगदारी,अपहरण,छिनतई समेत दुष्कर्म के कुल 20 मामले में दर्ज है। अब तक मोकामा पुलिस मुठभेड़ में लगभग दस बार बाल-बाल बचता रहा है।
सूत्रों के अनुसार श्याम सुंदर का इस इलाके में इतना खौफ हैं कि चाहे जिस जाति की बहू बेटिया हों जिसपर श्याम सुंदर की नजर पड जाती थी उसकी इज्जत सलामत नहीं रहती थी। उल्लेखनीय है कि कन्हाईपुर के कुख्यात श्याम सुंदर यादव गिरोह ने इसी महीने की 9 नवम्बर मंगलवार की रात सुल्तानपुर धोबी टोला के एक घर में घुसकर हथियार के बल पर 50 साल की विधवा से दुष्कर्म किया और घर के सदस्यों के साथ मारपीट की। कई दूसरे घरों व दुकानों से सामान उठा लिया। घटना के विरोध में बुधवार की सुबह ग्रामीणों ने एनएच 31 को जाम कर दिया। दो घंटे तक सड़क जाम रही। जाम में केंद्रीय स्वास्थ्य राज्यमंत्री अश्विनी चौबे भी फंसे रहे।
मोकामा थानाध्यक्ष कैसर आलम द्वारा कार्रवाई का समुचित आश्वासन देकर जाम हटाया गया। विधायक अनंत सिंह भी घटना की सूचना पाकर मौके पर पहुंचे और आक्रोशित ग्रामीणों को शांत कराया। कहा कि पुलिस अपराधियों से सख्ती से निबटेगी और उनपर कार्रवाई की जाएगी। पीड़ित महिला ने बताया कि देर रात लगभग दो बजे श्याम सुंदर यादव और उसका एक साथी घर में घुस आया और परिवार के सदस्यों को पीटने लगा। उसकी बेटी और बहू के साथ उसने जबरदस्ती करने की कोशिश भी की।पीड़िता द्वारा हाथ-पैर जोड़े जाने के बाद उसने उसकी बेटी व बहू को छोड़ दिया और उसके साथ दुष्कर्म किया। घोड़े पर सवार होकर तीन-चार अन्य अपराधी भी आए थे। इस दौरान वकील साव की दुकान में उन्होंने जमकर तोड़फोड़ मचाई और दुकान में रखे कुछ सामान को लूट लिया।।                                                                कुख्यात श्याम सुंदर यादव का आपराधिक इतिहास       कुख्यात श्याम सुंदर यादव इलाके का पेशेवर और  दुर्ददां अपराधी है। इस पर हत्या, लूट,अपहरण, डकैती, रेप के लगभग 20 मामले दर्ज हैं। कई बार वह जेल भी जा चुका है। हर बार जेल से बाहर आकर वह पुनः सक्रिय हो जाता है। उसके पास पुलिस राइफल, ऑटोमैटिक सेमी राइफल थ्री फिफ्टीन राइफल सहित अन्य हथियार हैं।मोकामा रेफरल अस्पताल से चोरी हुई सात राइफलों में एक या दो उसके पास होने की बात कही जाती है।वर्ष 2012 में मोकामा के तत्कालीन थानाध्यक्ष मोकामा रहे सोनालाल सिंह ने उसे मुंगेर से गिरफ्तार किया था।वही गिरफ्तारी से पहले कई बार पुलिस से उसकी मुठभेड़ भी हो चुकी थी।पुलिस को देखते ही वह गोलियां चलाने लगता था।तत्कालीन सहायक पुलिस अधीक्षक सौरभ कुमार शाह और मोकामा इंस्पेक्टर सोना लाल सिंह के नेतृत्व में लगातार छापेमारी से घबराकर उसने मुंगेर में शरण ले ली थी। बाद में मुंगेर से ही उसकी गिरफ्तारी हुई थी।
इसके बाद जमानत पर आने के बाद वह फिर अपराध में सक्रिय हो गया। जेल में रहते हुए भी उसने मनरेगा के काम में रंगदारी मांगकर सनसनी फैला दी थी। उसने बीते सात दिनों में कई लोगों के साथ मारपीट और फायरिंग की है।रविवार को भी उसने कन्हाईपुर गांव में फायरिंग की थी। बीते पांच दिनों में कई दूसरे लोगों को भी निशाना बनाया है। राह चलते किसी को पीट देना और किसी पर गोली चला देना उसकी आदत में शामिल हो चुका है। तीन चार दिन पूर्व ही श्याम सुंदर यादव ने इसी इलाके के एक परिवार की बेटी के साथ गलत हरकत की थी पर वह परिवार लोकलाज के भय से मामले को घर की चाहर दिवारी तक ही सीमित रख लिया। अति विश्वस्त सूत्र बताते हैं कि श्याम सुंदर यादव ने अपनी जाति-बिरादरी की महिलाओं और युवतियों की इज्जत उतारने में कोई कोर कसर बाकी नहीं रखा।
वह अक्सर घोडे पर सवार होकर अपने हथियारबंद गुर्गों के साथ टाल और दियारा इलाके में इलाक़े की महिलाओ  के तलाश में घूमता है और पुलिस सबकुछ जानते हुए भी उसका कुछ नहीं बिगाड पाती। संभावना और दबी जुबान चर्चा यह है कि श्याम सुंद द्वारा सताए किसी परिवार के युवकों ने सुंदर से बदला लेने के लिए ही तो साजिश रची हो।।जिसमें वो कामयाब हो पाते इसके पहले ही उनके पास रखा बम विस्फोट कर गया। जिसमें एक मारा गया और उसके साथ रहे साथी भाग खडे हुए।स्थानीय सूत्रों का दावा है कि विस्फोट में मारा गया युवक पंडारक क्षेत्र के ही आसपास का है। जिसे कुछ लोग पहचानते भी हैं पर वह किसी खास कारण या किसी भय से उसकी पहचान उजागर नहीं कर रहे। पर उसकी शिनाख्त आज न कल हो ही जानी है क्योंकि जिस के घर का लडका मरा है। उसके घर में कोहराम तो जरुर ही मचा होगा या जिस घर का लडका तीन दिन से लापता है तो उसके आस-पडोस में कानाफूसी जरुर मची होगी।गौरतलब है कि मोकामा शहरी व ग्रामीणऔर टाल क्षेत्र में इलाके की बहू बेटियों के अस्मत के लुटेरे श्यामसुंदर यादव के ही चाल और चरित्र के एक और अपराधी छवि के एक युवक की वर्ष 2015 के मई महीने में अज्ञात अपराधियों ने गोली मार कर हत्या कर दी थी। युवक की लाश बेढना गांव के पास पाई गई थी। चुकी उस दौर सूबे में विधान सभा चुनाव का माहौल था तब इस मामले में मोकामा विधायक अनंत सिंह को नामजद कर दिया गया था और इलाके में एक बड़ा सियासी गोलबंदी का प्रयास किया गया था।

 

Comments are closed.