BiG News -महज 18 दिन बाद ही तथाकथित हाजत में पिटाई से 2 युवको की मौत ने सीतामढ़ी एसपी को भी निगल लिया,आईपीएस अमरकेश डी का हुआ तबादला

169

#आईपीएस अमरकेश डी को 18 फरवरी को मिली थी सीतामढ़ी एसपी के तौर पर तैनाती     

#2013 बैच के बिहार कैडर के आईपीएस अमरकेश पूर्व सिटी एसपी सेंट्रल पटना के तौर पर थे तैनात

#गया सिटी एसपी रहे नवप्रोन्नत आईपीएस अनिल कुमार बनाये गए सीतामढ़ी एसपी

पटना Live डेस्क। आखिरकार हाजत में पिटाई में तथाकथित तौर पर 2 युवको की मौत ने थानाध्यक्ष समेत 8 पुलिसकर्मियों के निलंबन के बाद अब सीतामढ़ी के इस चर्चित पुलिस पिटाई मामले ने हाल ही में जिले के कप्तान बने आईपीएस अमरकेश डी की भी बलि ले ली। इस मामले में गृह विभाग ने कार्रवाई करते हुए उनका तबादला कर दिया है। अब सीतामढ़ी की कमान गया सिटी एसपी रहे नवप्रोन्नत आईपीएस अनिल कुमार को दी गई है। गया में प्रतिनियुक्ति से पहले वे एसपी निगरानी अन्वेषण ब्यूरो पटना के पद संभल रहे थे। इस तबादले के बाबत गृह विभाग की ओर से इसकी अधिसूचना जारी कर दी गई है। अमरकेश डी को आर्थिक अपराध शाखा का एसपी बनाया गया है।

उल्लेखनीय है कि सीतामढ़ी में 6 मार्च को हत्या और लूट के मामले में पुलिस कस्टडी में बंद दो आरोपियों की मौत हो गई थी। दोनो की मौत के बाद हड़कंप मच गया था। इस मामले में कहा जा रहा था कि कस्टडी में पुलिस ने थर्ड डिग्री का प्रयोग कर दोनों की जान ले ली।

परिजनों ने इसकी हाईलेवल जांच की मांग की है, वहीं इस मामले में आठ पुलिसकर्मियों को सस्पेंड करते हुए मामले की जांचजोनलडीआइजी ने खुद संभाल ली। वहीं घटना के बाद सीतामढ़ी में लोगो ने जमकर हंगामा किया था। आक्रोशित लोगों ने सड़क जामकर दोषी पुलिसकर्मियों पर सख्त कार्रवाई की मांग की थी। वहीं सोशल मीडिया के माध्यम से भी लोगों ने आक्रोश जताया था।

महज 18दिन रहे सीतामढ़ी एसपी IPS अमरकेश डी

बिहार सरकार के गृह विभाग द्वारा अधिसूचना जारी कर सीतामढ़ी के एसपी पद से रुखसत कर दिए गये 2013 बैच के बिहार कैडर के आईपीएस अमरकेश डी का कार्यकाल महज 18 दिन का रहा। उल्लेखनीय है कि 18 फरवरी को ही अधिसूचना जारी कर सूबे के 30 आइपीएस अधिकारियों को इधर से उधर किया था।

उक्त तबादले में तात्कालिक सिटी एसपी सेंट्रल रहे अमरकेश को सीतामढ़ी का एसपी बनाया गया था। लेकिन जबतक नवनियुक्त एसपी पूरी तरह से जिले को समझ पाते डुमरा थाना हाजत में बंद लूट व हत्या मामले के दो आरोपियों की बुधवार 6 मार्च को संदिग्ध मौत हो गई। दोनों पूर्वी चंपारण के चकिया के रामडीहा निवासी मो. मोलाजिम के पुत्र तसलीम व मो. सनाउल के पुत्र गुफरान थे।

पुलिस दोनों को सदर अस्पताल ले गई। दोनो का इलाज करने वाले डॉक्टर डॉ. अब्दुल बासित ने दाेनों के शरीर पर कई जख्म के निशान पाए थे। चोट से मौत की बात बताई थी। डॉक्टर ने कहा कि दोनों को 4:24 बजे भर्ती कराया गया था।

दोनों कोमा में थे। 5:05 में गुफरान व 5:20 में तसलीम की मौत हो गई। जबकि, पुलिस ने मौत के कारणों को संदिग्ध बताया। मामले के तूल पकड़ने पर जोनल आईजी ने डुमरा थानेदार चंद्रभूषण सिंह समेत 8 पुलिसकर्मियों को सस्पेंड कर दिया। लेकिन मामले को लेकर शहरवासियों के आक्रोश को देखते हुए आखिकार एसपी का भी तबादला कर दिया गया है।

Loading...