बेधड़क ...बेलाग....बेबाक

DIG मनु महाराज के फेसबुक आईडी से लड़कियों को मिला मैसेज- ‘I Love You’,मन्नू हुआ गिरफ्तार तो खुला राज़ जानिए पूरा सच

822

पटना Live डेस्क। सोशल मीडिया व तकनीक के इस वर्त्तमान दौर में साइबर अपराधी नित नए तरीक़े से लोगो को अपना शिकार बना रहे है। बिहार में सारण रेंज के डीआईजी मनु महाराज साइबर क्राइम (Cyber Crime) के शिकार हुए हैं. छपरा (Chhapra) के एक युवक द्वारा उनके नाम का इस्तेमाल कर सोशल मीडिया (Social Media) पर लोगों को ठगने का अनोखा मामला सामने आया है।हालांकि समय रहते नगर थाना पुलिस ने मनु कुमार नाम के इस आरोपी को धर दबोचा। पुलिस के मुताबिक गड़खा थाना क्षेत्र के पहाड़पुर गांव निवासी मनु कुमार सोशल मीडिया पर डीआईजी मनु महाराज (DIG Manu Maharaj) के नाम का इस्तेमाल कर लोगों को प्रभावित करने की गतिविधियों में लिप्त था।हालांकि समय रहते पुलिस ने इस शातिर युवक के चेहरे को बेनकाब कर दिया। पुलिस ने आरोपी युवक को गिरफ्तार कर लिया।

मिली जानकारी के मुताबिक, सारण के डीआईजी मनु महाराज का नाम इस्तेमाल कर ठगी की कोशिश कर रहे गड़खा थाना क्षेत्र के पहाड़पुर गांव निवासी नवीन कुमार के बेटे मन्नू कुमार को नगर थाना पुलिस ने गिरफ्तार किया है। पुलिस ने सोशल मीडिया पर डीआईजी के नाम का प्रयोग कर लोगों को प्रभावित करने और ठगी की कोशिश में मन्नू कुमार को गिरफ्तार किया है।

पैसे की डिमांड पर लड़कियों को हुआ शक

पुलिस के मुताबिक, मन्नू कुमार ने फेसबुक पर डीआईजी मनु महाराज के नाम से फर्जी प्रोफाइल बनाया और खुद को मनु महाराज बताकर कई लड़कियों से दोस्ती कर ली। फिर अश्लील मैसेज भेजने लगा। मनु महाराज का प्रोफाइल देख काफी तेजी से उसके फॉलोअर बढ़ने लगे। जिसका फायदा उठाते हुए मन्नू कुमार ने कई लड़कियों से नौकरी दिलाने का वादा कर दिया। कई जगहों पर आरोपी मन्नू ने पैसे की डिमांड भी की। पैसे की डिमांड पर कुछ लड़कियों को शक हुआ तो खबर असली मनु महाराज को दी।जिसके बाद डीआईजी के आदेश पर आईटी सेल ने इसका पता लगाया और गरखा से आरोपी युवक को गिरफ्तार कर लिया। युवक ने अपना गुनाह स्वीकार कर लिया।

DIG बन लड़कियों से अश्लील चैटिंग 

सारण रेंज के डीआईजी मनु महाराज ने बताया कि पिछले जनवरी माह से ही आरोपी इस तरह की हरकत कर रहा था। उसने पूछताछ में बताया कि वह गूगल अकाउंट व ट्रूकॉलर पर भी मनु महाराज सर का नाम लिखकर अपना मोबाइल नंबर डाल रखा था। लड़की जब भी कॉल करती थी तो ट्रू कॉलर पर भी मनु महाराज का नाम आता था। बीच में उसने अपना मोबाइल बंद कर दिया था। लड़की किसी तरह सरकारी नंबर पता कर नंबर पर मैसेज करने लगी तो उन्होंने तत्काल उस नंबर पर तहकीकात की और पूछताछ की तो यह पता चला कि इस नाम व अन्य नंबर से दूसरा मैसेज करता है। फिर डीआईजी ने अपने से इस नंबर को खंगाला और नकली मन्नू के पास पुलिस टीम पहुंच गई। मंगलवार को डीआईजी ने करीब एक घंटे तक उसे गहराई से पूछताछ की तो उसने सारी बात उगल दी।

डीआईजी मनु महाराज ने बताया कि लड़कियों ने खुद ही उनसे संपर्क किया और बताया कि उनके नाम से किसी दूसरे नंबर से अश्लील चैटिंग की जाती है, इस बात पर डीआईजी को आश्चर्य हुआ और लड़कियों की ओर से उपलब्ध कराए गए नंबर की जांच कराई गई तो पता चला कि ट्रूकॉलर पर भी युवक ने मनु महाराज नाम से प्रोफाइल बनाया था।

लड़कियों से अश्लील चैटिंग के लिए बना था मनु महाराज और जब भेद खुला तो गया जेल।

यह हकीकत है फर्जी तरीके से गूगल पर नंबर और मनु महाराज जैसी मूंछ वाली तस्वीर डाल कर लड़कियों से अश्लील चैटिंग व नौकरी दिलाने का झांसा देकर ठगी का प्रयास करने वाले गड़खा पहाड़पुर के रहने वाला मनु कुमार यादव की । फर्जी मनु को भी नहीं पता था कि अपने ही बुने जाल में वह असली मनु महाराज के हत्थे चढ़ जायेगा।

उन्होंने कहा कि इसके अलावा आरोपी ने फेसबुक पर और अन्य सोशल साइट पर उनका नाम इस्तेमाल कर ठगी का धंधा शुरू कर दिया था। मालूम हो कि 20 मई को उसके खिलाफ टाउन थाने में एफआई आर दर्ज की गई है। टाउन थाना पुलिस उसे गिरफ्तार कर जेल भेज रही है।साथ ही डीआईजी ने लोगों से अपील की है कि उनके नाम से किसी भी तरह की फर्जी प्रोफाइल का रिपोर्ट उनको जरूर करें।

Comments are closed.