बेधड़क ...बेलाग....बेबाक

BiG News – “ख़ाकीवालो की आशिकी का खौफनाक अंत” 2018 बैच के 2 सब इंस्पेक्टर की प्रेम कहानी का त्रासद द एंड

37

पटना Live डेस्क। दिल्ली विधानसभा चुनाव के मतदान के मुहाने पर खड़ी थी। विधानसभा चुनाव के मद्देनजर सुरक्षा के कड़े इंतजामों के बीच वोटिंग से एक दिन पहले शुक्रवार  की रात दिल्ली पुलिस की ही एक महिला सब-इंस्पेक्टर प्रीति अहलावत की हत्या हो जाती है। रोहिणी पूर्व मेट्रो स्टेशन के पास शुक्रवार रात करीब 9.30 बजे प्रीति अहिलावत के सिर पर गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। इस मामले ने राजधानी की सुरक्षा व्यवस्था पर सवालिया निशान खड़े कर दिए थे। दिल्ली पुलिस को घटनास्थल से तीन खाली कारतूस मिले थे।

दिल्ली पुलिस को इस हत्या के सिलसिले में अपने ही एक अन्य पुरुष सब-इंस्पेक्टर दीपांशु राठी की तलाश होती है क्योंकि मौका-ए-वारदात के पास के सीसीटीवी फुटेज में वह हत्या से ठीक पहले उसके पीछे-पीछे चलता दिखाई दे रहा था।पुलिस ने बताया है कि सीसीटीवी की फुटेज के आधार पर हमलावर की पहचान कर ली गई थी। एसआई दीपांशु राठी को एसआई प्रीति अहलावत के पीछे से निकलते हुए रोहिणी मेट्रो स्टेशन से बाहर आते हुए सीसीटीवी में देखा गया था। उसने बेहद करीब से प्रीति के सिर पर गोली मार दी थी।

इलाके से सीसीटीवी फुटेज के साथ-साथ अहलावत के कॉल रिकॉर्ड्स खंगालने के बाद पुलिस ने भजनपुरा पुलिस स्टेशन में तैनात दीपांशु राठी को संदिग्ध मान रही थी।पुलिस ने उसके कार्यस्थल में संपर्क किया और उसके सेल फोन को ट्रैक किया, अंत में उसे मुरथल राजमार्ग पर ट्रेस किया।दिल्ली पुलिस ने तब सोनीपत में अपने समकक्षों से संपर्क किया, और उसकी तलाश के लिए एक टीम भेजी गई।

शुरुआती जांच में यह बात सामने आई है आरोपी इस महिला पुलिसकर्मी से शादी करना चाहता था। वह उससे प्यार करता था, लेकिन 8 महीने पहले दोनों के बीच दूरियां इस कदर बढ़ने लगी की महिला सब इंस्पेक्टर ने उसका मोबाइल नंबर तक ब्लॉक कर दिया था। मृतक लेडी सब इंस्पेक्टर पटपड़गंंज औद्योगिक थाना क्षेत्र में तैनात थी।

विकिपीडिया के नाम सेव था दीपांशु का नंबर

पुलिस ने सबसे पहले प्रीति के मोबाइल को ही पाने अनुसंधान के तहत खंगला तो विकिपीडिया के नाम से सेव किए गए “दीपांशु राठी के बारे में पता चला। घटनास्थल पर लगे सीसीटीवी कैमरे की फुटेज खंगाली गई तो उंक्त फुटेज में में भी आरोपी की जानकारी मिली। इसके बाद पुलिस ने आरोपी को मोबाइल सर्विलांस पर लियां और पुलिस राठी के नंबर को ट्रैक करती है और उसका लोकेशन हरियाणा में सोनीपत के मुरथल में दिखाई देता है। रात 2 बजे के आसपास राठी की कार मुरथल के पास एक सूनसान जगह पर मिली। कार की हेडलाइट्स और इंजन चालू था और वह ड्राइवर की सीट पर पाया गया था। जब अधिकारी वाहन के पास पहुंचे, तो उन्होंने देखा कि कार अंदर से बंद है। राठी ने खुद को गोली मार ली थी। उनके दाहिने हाथ में एक सर्विस रिवाल्वर मिली। उसे पुलिस तलाश रही थी, इससे पहले उसने खुद को देर रात गोली मारकर जान दे दी।

दीपांशु ने अपनी सर्विस पिस्टल से खुद को गोली मार ली थी। कार के अंदर से पुलिस को कोई सुसाइड नोट तो नहीं मिला, लेकिन प्रीति के मोबाइल पर वाट्सअप पर चैट से जानकारी मिली कि आरोपी प्यार करता था। वह उससे शादी करना चाहता था, लेकिन प्रीति तैयार नहीं थी। दीपांशु भजनपुरा थाने में तैनात था।

पुलिस ने बताया 2018 में प्रीति अहलावत बतौर सब इंस्पेक्टर भर्ती हुई थी। वह मूलरूप से रोहतक की रहने वाली थी। सोनीपत निवासी दीपांशु राठी से प्रीति की जान पहचान ट्रेनिंग के दौरान हुई थी। दोनों एक दूसरे को पंसद करने लगे थे, लेकिन आठ महीने पहले प्रीति ने उससे दूरियां बना लीं। पुलिस से पता लगा है प्रीति के परिजन इस शादी के लिए तैयार नहीं थे, जिस कारण उसने दीपांशु से दूरियां बनाई थीं। बाद में दीपांशु को पता चला प्रीति की दूसरी जगह शादी की बात चल रही है।

दो दिन पहले यूपी गया था दीपांशु

दो दिन पहले दीपांशु पिस्टल लेकर यूपी गया था। वहां से लौटने के बाद उसने पिस्टल जमा नहीं कराई। शुक्रवार रात उसने प्रीति को मिलने के लिए कहा था, जिसके बाद उसने यह वारदात की। पुलिस ने बताया प्रीति की मां टीचर और उसके पिता बीएसएफ से रिटायर हैं। उसका भाई न्यूजीलैंड में कंप्यूटर इंजीनियर है। वहीं दीपांशु के पिता दयानंद राठी हरियाणा पुलिस में सब-इंस्पेक्टर पद से रिटायर हैं और शास्त्री काॅलोनी सोनीपत में रहते हैं।

Comments are closed.