बेधड़क ...बेलाग....बेबाक

बड़ी खबर- जदयू और राजद के बीच आलआउट वार- तेजस्वी की तस्वीर फिर आई संजय सिंह के बेटे की तस्वीर औरअब नीतीश कुमार से अर्चना और उपासना पर कर दिए सवाल?

258

पटना Live डेस्क। कल तक महागठबंधन के दौर में  चाचा- भतीजे की जोड़ी सूबे के विकास को गति दे रही थी,अब अलगाव के बाद एक दूसरे की निजी जिंदगी की बखिया उधेड़ने का काम हो रहा है। दोनों सियासी दलों के बीच तल्खी इतनी बढ़ गई है कि दोनों दलों के नेताओं ने सियासी मर्यादा की सीमाओं को लांघना शुरू कर दिया है। पुरानी वायरल फोटो के जरिये कटाक्ष के बाद तेजस्वी ने नीतीश पर हमला करते हुए पूछा है कि आपने रेलवे का नाम अर्चना और उपासना क्यों रखा। जबकि इसके लिए रेलवे की मंजूरी भी नहीं थी। यानी दोनों दलों के नेता अब एकदूसरे पर व्यक्तिगत और निजी मामले भी का भी दोषारोपण कर उसे उजागर कर रहे है।
शुक्रवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस कर तेजस्वी यादव ने जहां नीतीश कुमार को कटघरे में खड़ा किया वहीं,आरजेडी प्रवक्ता शक्ति सिंह ने जेडीयू के वरिष्ठ प्रवक्ता के बेटे की तस्वीर मीडिया में दिखाई। वहीं आरोप-प्रत्यारोप के बाद दोनों पार्टी के नेताओं के बीच तल्खी काफी बढ़ गई है। नीतीश कुमार की शराब माफिया के साथ तस्वीर उजागर होने के बाद से दोनों दलों की ओर से एक दूसरे पर हमले किए जा रहे हैं।


बिहार की सियासत राजद और जदयू के पलटवार से फिर गरमा गयी है।अब आरोप-प्रत्यारोप का दौर अब राजनीतिक नहीं रह कर पर्सनली में पहुंच गया है। शुक्रवार को एक लड़की के साथ तेजस्वी यादव के लिये गये फोटो को मुद्दा बनाते हुए जदयू की ओर से उन पर हमला किया गया था।इसी के जवाब में कुछ ही घंटे के बाद तेजस्वी यादव ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर ताबड़तोड़ हमला किया।

साथ ही तेजस्‍वी यादव यहीं पर नहीं रुके। उन्होंने कहा कि लोग मुझसे पूछते हैं कि मैं दिल्‍ली जाता हूं तो कहां रूकता हूं ? मेरी सात बहनें हैं। छह दिल्‍ली में रहती हैं। मेरा परिवार भी काफी बड़ा है।लेकिन मुख्‍यमंत्री जब दिल्‍ली जाते हैं तो कहां कहां जाते हैं,यह हम भी जानते हैं।उन्होंने कहा कि इस पर हम कुछ कहना नहीं चाहते हैं।


तेजस्वी यादव ने ट्रेनों के नाम उपासना और अर्चना एक्सप्रेस रखने को लेकर भी नीतीश कुमार पर बड़ा और व्यक्तिगत हमला किया। उन्होंने कहा कि वे खुद इस ट्रेन में चढ़ें हैं या नहीं हमें पता नहीं,लेकिन ट्रेनों के नाम के बारे में पूरे देश को पता है।उन्होंने कहा कि हम पूछना चाहते हैं कि जब नीतीश कुमार रेलमंत्री थे, तब अर्चना और उपासना एक्‍सप्रेस नाम से ट्रेन क्‍यों शुरू करवायी थी,जबकि रेल मंत्रालय से इसकी मंजूरी नहीं मिली थी।हम सकारात्‍मक राजनीति करते हैं. जदयू की तरह अपना स्‍तर नहीं गिरायेेंगे।

 

Comments are closed.