राहुल की कोशिश लायी रंग,दिल्ली बैठक में पहुंचे कई कांग्रेस विधायक,अशोक चौधरी और सदानंद सिंह पर गिर सकती है गाज

57

पटना Live डेस्क. कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और उपाध्यक्ष राहुल गांधी की बिहार प्रदेश कांग्रेस में फूट को रोकने की कोशिश रंग लाती दिख रही है.. राहुल गांधी के बुलावे पर बिहार के 27 कांग्रेस विधायकों में से 21 विधायकों और विधानपार्षदों का दिल्ली पहुंचना इस बात का प्रमाण है…राहुल गांधी ने दिल्ली पहुंचे विधायकों को कांग्रेस की विचारधारा की याद दिलायी और पार्टी के प्रति निष्ठा की नसीहत भी दी…पार्टी विधायकों के साथ लगातार दो दिन तक चली बैठक में पहुंचे विधायकों की संख्या से यह साफ हो गया कि पार्टी तोड़ने वालों के पास वर्तमान समय में अब नंबर नहीं हैं…पार्टी में टूट की कोशिशों के थमने के बाद आलाकमान ने प्रेदश अध्यक्ष अशोक चौधरी और वरिष्ठ नेता सदानंद सिंह को पद से हटाने का ईरादा भी कर लिया है…राहुल गांधी से पार्टी विधायकों की बैठक के बाद मिली जानकारी के मुताबिक यह कहा जा रहा है कि अशोक चौधरी और सदानंद सिंह ही विधायकों को लालू प्रसाद के विरोध के नाम पर तोड़ने की कोशिश में थे…लालू के साथ रहने पर राजनीतिक नुकसान के बहाने अशोक चौधरी ने करीब 13 विधायकों से हस्ताक्षर कराए थे…राहुल गांधी से बुधवार को 11 विधायकों ने मुलाकात की थी..जबकि गुरुवार को 10 विधायक और दो एमएलसी राहुल गांधी से मिले..इस तरह पार्टी के 27 विधायकों में से 21 विधायकों ने कांग्रेस उपाध्यक्ष से सीधी बातचीत की…इस बैठक में सदानंद सिंह भी शामिल हुए जिन्हें राहुल ने समझाने के साथ नसीहत भी दी…

हालांकि प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अशोक चौधरी पत्नी की बीमारी की बात कह दिल्ली नहीं गए और आलाकमान से रुबरु नहीं हुए…जानकारी के मुताबिक हर विधायक से अलग-अलग बातचीत कर उनकी राय पूछी गयी..ऐसे में यह साफ है कि वर्तमान प्रदेश अध्यक्ष अशोक चौधरी और सदानंद सिंह की जल्दी ही छुट्टी हो सकती है..कांग्रेस के केंद्रीय नेतृत्व का मानना है कि चाहे राष्ट्रपति चुनाव हो या फिर नीतीश कुमार के विश्वासमत का विरोध..इन दोनों मौकों पर अशोक चौधरी ने आलाकमान के फैसले का पालन किया..ऐसे में कोई नई परिस्थिति नहीं पैदा हुई थी जिससे कि लालू विरोध की जरुरत हो..ऐसे में यह साफ है कि नीतीश कुमार के इशारे पर ही विधायकों को गोलबंद करने की नाकाम कोशिश की गई…

 

Loading...