BiG News (वीडियो) एक जनप्रतिनिधि के तौर पप्पू यादव की सबसे बड़ी फतह है, देखिए सियासी पतन के चरमकाल मे यह वीडियो …

1102

पटना Live डेस्क। बिहार में लोकतंत्र के महापर्व यानी
लोकसभा चुनाव 2019 (Loksabha Election 2019) की बिसात लगभग सभी दलों ने बिछा दिया है। सभी छोटे बड़े सियासी दल अपनी अपनी गोटी लाल यानी जीत के दावे कर रहे है। लेकिन इसी बीच एक मधेपुरा (Madhepura) के वीडियो ने गज़ब का संदेश दिया है। वायरल वीडियो (viral video) फुट फुट कर रोते हुए कहता है कि “हम अनाथ”हो जाएंगे। महज 36 सेकंड का यह वीडियों मुल्क में सियासी रहनुमाओं और उनकी पतन के आखरी पायदान पर खड़ी सियासत पर एक जोरदार तमाचा है।

दरअसल, वर्त्तमान दौर में देश की रजनीति में बिना सिर पैर के बयानों और हवा हवाई सियसतदानो के “चुनावी साइबेरियन” वाली हरकतों के बीच यह वायरल वीडियों न केवल उम्मीदें जगाता है, बल्कि लोकतंत्र के अब्राहम लिंकन की परिभाषा लोकतंत्र जनता का,जनता के लिए और जनता द्वारा शासन की प्रामाणिकता को अक्षरशः पुनः प्रतिपादित करता है।
लोकतंत्र में जनता ही सत्ताधारी होती है, उसकी अनुमति से शासन होता है, उसकी प्रगति ही शासन का एकमात्र लक्ष्य माना जाता है। जनता ही सर्वोपरि है।

बिहार की सियासत में कभी बाहुबली पप्पू यादव के नाम से विख्यात रहे शख्स का बतौर एक प्रतिनिधि इस कालजयी परिवर्तन होगा किसी ने कल्पना नही की थी। लेकिन वर्त्तमान में मधेपुरा सांसद राजेश रंजन उर्फ पप्पू यादव ने सारे कयासों अनुमानों और अपने आलोचकों को झूठा साबित करते हुए वो मकाम हासिल कर लिया है जो भारत के दक्षिणी राज्यो भले दिखाई देता है पर बिहार के लिए बिल्कुल अचंभा जैसा है।

                    एक जनप्रतिनिधि के तौर सांसद पप्पू यादव की यह सबसे बड़ी फतह के मानिंद है। महज इस बात से की सांसद मधेपुरा छोड़कर पूर्णिया जा रहे है सियासी पतन के चरमकाल मे एक शख्स का फुट फुट कर रोना बहुत बड़ा संदेश दे जाता है। देखिए और सुनिए फुट फुट कर रोते एक शख्स की आसूँ-ओ से लरजते शब्दों का अपने सांसद के प्रति दीवानेपन की चरम अभिव्यक्ति …

Loading...