बेधड़क ...बेलाग....बेबाक

Fact Finding-वाह ! रे सुशासन वाह! रे शराबबन्दी का ख़ौफ़-आधा दर्ज़न हलाक कई ज़िन्दगियों पर सवाल,हालत बेहद खराब पर मुँह खोलने की मनाही

छपरा में जहरीली शराब पीने से हुई मौत का हर सच और पूरी पहचान जानिए पर सरकारी तंत्र की कोशिश सच न आए बाहर

350

पटना Live डेस्क। सूबे के मुख्यमंत्री के गृह जिले नालंदा में 13 लोगों की जहरीली शराब से मौत का मामला अभी ठंडा भी नहीं पड़ा था कि छपरा में 6 लोगों की संदिग्ध हालात में मौत हो गई है। परिजनों का कहना है कि शराब पीने से मौत हुई है। जबकि, पुलिस-प्रशासन शराब से मौत की बात से इनकार कर रहा है। जबकि जिले के अमनौर व मकेर थाना अंतर्गत विषाक्त शराब से आधा दर्जन लोगों की मौत हुई है वही कई लोग जीवन मौत से जूझ रहे है।

दरअसल,जिले के अमनौर और मकेर थाना क्षेत्रो में आधा दर्जन लोग जहरीली शराब के सेवन से मौत के मुह में फंसे हुए है,जबकि 6 की मौत हो चुकी है।कुछ मृतक के परिजनों ने पुलिस व पुलिस समर्थित जनप्रतिनिधियों के दबाव में आकर बयान बदल दिए।शव को दफना दिया है। जबकि कुछ के परिजनों ने शराब पीने से मौत होने की बात कही है। वही सरकारी अधिकारी ठंड से मौत होने की बात कह रहे है। ग्रामीणों की यह हास्यप्रद लग रही है।

ग्रामीणों ने बताया कि जहरीली शराब के सेवन से सभी लोग मर रहे है,अधिकारी व स्थानीय जन प्रतिनिधियों के दबाव में बयान बदल रहे है। शराब के सेवन से मरने वालों में अमनौर के नरसिंह भान पुर गांव के 1.राम नाथ राय 55 वर्ष,परमानन्द छपरा गांव के 2. कृष्णा महतो उर्फ टूना महतो 45 वर्ष,बसंतपुर बंगला गांव के 3. ईशा मिया 52 वर्ष,वही परमानन्द छपरा गांव के पलटन महतो की आखों की रौशनी गायब है। इनका उपचार मुजफ्फरपुर में कराया जा रहा है।

एक छपरा से पटना रेफर

वही मकेर प्रखण्ड के मृतक नवगाढा गांव निवासी भरत राय 55 वर्ष,नंदन कैतुका, गांव के 55 वर्षीय बृजबिहारी राय, जनता बाजार पर शत्रुध्न महतो के आरा मशीन पर काम करने वाला कारीगर सिवान निवासी अनिल मिस्त्री, शामिल है वही तारा अमनौर के 20 वर्षीय सूरज बैठा अम्बे नरसिंह होम छपरा से पटना रेफर है। जीवन मौत से जूझ रहा है,घर का इकलौता औलाद है।

लेकिन इन सबके बाद भी पुलिसिया भय से सभी अपने जुबान बंद किये हुए है। पुलिस इसे ठंड लगने से मौत की बात कह रही है,आस पास के ग्रामीण व कुछ के परिजन दबे जुबान से जहरीली शराब के सेवन से मौत की बात कह रहे है। प्रभावित इलाके में सरकारी अमला व पुलिस का भारी तामझाम मौजूद है।
छपरा में छह लोगों की संदिग्ध परिस्थितयों में मौत हो गई है। प्रभावित इलाकों में उत्पाद विभाग की टीम पहुंची है। उत्पाद अधीक्षक मामले की जांच कर रहे हैं। मुख्यालय ने जांच रिपोर्ट मांगी है। वहीं, प्रशासन ने जहरीली शराब से इनकार किया है। मगर मृतक रामनाथ राय की पत्नी लालती देवी ने बताया कि काम से लौटने के बाद जनता बाजार में उनके पति रामनाथ ने शराब पी थी। जिसके बाद उनकी तबीयत बिगड़ी और मौत हो गई। सच को शासन छुपाने में सभी भिड़े है। हालात देखकर एक शख्स के वो अल्फ़ाज़ याद आए गए।

ई नयका बिहार है सुशासन बाबु के सरकार है
यहाँ आपकी मौत पर भी सरकार का पहरा है

Comments are closed.