बेधड़क ...बेलाग....बेबाक

Super Exclusive (वीडियो) देखिए कौन है वो? जिन्होंने पटना पुलिस को किया खुल्ला चैलेंज, दिनदहाडे ताबड़तोड फ़ायरींग कर मचाया कोहराम,छात्रा को मारी गोली

93
  • प्रभारी थानेदार राकेश कुमार लगातार कर रहे छापेमारी कभी भी हो सकती है गिरफ्तारी
  • दोनो अपराधियों की पहचान गोलू उर्फ अक्षय और राहुल के तौर पर हुई है, गोलू पूर्व में भी जेल जा चुका है।
  • सरेआम धाय धाय करने वाले कि पहचान गोलू उर्फ अक्षय के तौर पर हुई है। 
  • गोलू ने की 4 राउंड फ़ायरींग, चौथी गोली छात्रा को जा लगी

पटना Live डेस्क। राजधानी पटना की सुरक्षा के तमाम दावों की धज़्ज़िया उड़ाते हुए अपराधियों ने सरेआम दिनदहाडे छात्र-छात्राओं के हब के तौर पर विख्यात नयाटोला के गोपाल मार्केट के समीप मुख्य सड़क पर गोलीबारी कर कोहराम मचा दिया। बेहद मामूली बात पर हाथ में पिस्टल लेकर गली से निकले अपराधी ने बेख़ौफ़ होकर तड़ातड़ फ़ायरींग कर दी। अचानक हुई ताबड़तोड़ फ़ायरींग से सड़क पर अफ़रातफ़री मच गई और थोड़ी देर ख़ातिर सड़क पर भगदड़ मच गई। लोगबाग जब तक कुछ समझ पाते अपराधी की अंधाधुंध फायरिंग की जद में आकर एक युवती खून से लतपथ होकर सड़क पर गिर पड़ी। मची अफ़रातफ़री का फायदा उठाकर गोलीबारी करने वाले युवक फरार हो गए। वही, दूसरी तरफ स्थानिए लोगो द्वारा घायल छात्रा को PMCH में इलाज के लिए ले जाया गया है। इधर, दिनदहाडे सरेआम गोलीबारी की सूचना मिलते ही डीएसपी टाउन समेत कदमकुआं थाना पुलिस मौके पर पहुची और अनुसन्धान प्रारम्भ करते हुए एक खोखा बरामद किया।

कौन है वो? बन्दूकबाज 

सरेआम दिनदहाडे बेख़ौफ़ अपराधियों की गोलीबारी और एक युवती को गोली लगने की खबर से पूरा महकमा हिल गया। शुरुआती अनुसंधान के बाद कदमकुआं थाना प्रभारी राकेश कुमार ने सबसे पहले अपने नेटवर्क के जरिए सरेआम गोलीबारी करने वालो की पहचान के प्रयास शुरू कर दिए। जिसका फलाफ़ल भी जल्द मिला और गोलीबारी करने वाले कि पहचान गोलू उर्फ अक्षय के तौर पर हुई। गोलू उर्फ अक्षय पहले काजीपुर में ही रहता था लेकिन वर्त्तमान में कुम्हरार में किराए पर रहता है। गोलू ने भले ही कुम्हरार में कमरा ले रखा है पर अमूमन ज्यादातर समय मछुओटोली से लेकर नयाटोला के बीच मौजूद रहता है।

दरअसल, गोलू का आपराधिक इतिहास रहा है। पूर्व में भी जेल यात्रा कर चुका है। लगातार इलाके में सक्रिय रहने वाले गोलू के बाबत स्थानिए लोगो का कहना है कि वह बेहद दबंग और आपराधिक छवि का है। बिलावजह मारपीट, गालीगल्लम और गुण्डई करना इसकी फिदरत में शामिल है। अमूमन ये कई लड़को के साथ चलता है। इसका एक गिरोह भी है जो मारपीट छीन झपट करता रहता है। बकौल चश्मदिदों के गोलू ही पिस्टल लेकर गली से आया और सरेआम अन्धाधुन्ध फ़ायरींग की और फरार हो गया। 

वही, दिनदहाड़े सैकड़ो लोगो की मौजूदगी में सरेआम हुई गोलीबारी की घटना का मुख्य किरदार राहुल कुमार शर्मा मंचूरियन समेत फास्टफूड का ठेलालगाता है। राहुल अपने भाइयों के साथ ठेले पर मंचूरियन बेचने का धंधा करता है। सरेआम गोलीबारी करने वाला गोलू उर्फ अक्षय राहुल का जिगरी यार  है।

राहुल वैसे तो लगाता है मंचूरियन का ठेला हैं लेकिन इसकी भी फिदरत दबंगई और गुण्डई वाली है ऐसा जानकारों का कहना है। इसके मंचूरियन के ठेले के समीप खड़े होकर इसके दोस्त-साथी पढ़ने आ-जा रही या कोचिंग से लौट रही छात्राओं पर न केवल फब्तियाँ कसते है बल्कि प्रतिदिन किसी न किसी लड़की से छेडखानी करते रहते है। राहुल का मंचूरियन ठेला इलाके के लफुओ का अड्डा है।लेकिन गोलू, राहुल और इसके दोस्तों की गुण्डई की वजह से सभी लोग डरे सहमे रहते है।

राजेश गुप्ता की उमेश किराना नामक दुकान के समीप ही राहुल ठेला लगाता है। इस वजह से राहुल और राजेश एक दूसरे से परिचित है। राहुल भी मंचुरियन बनाने वाले सारे सामान लेता तो धीरे धीरे उधार खाता भी शुरू हो गया। साथ ही जब जरूरत पड़ी तो उसने कैश भी लिया।लेकिन पिछले कई अवसरों पर राहुल ने उधार समान लिया पर पैसे का भुगतान नही किया था। आजकल उधार चुकता करने की बात कहकर राहुल ने काफी ज्यादा उधार सामना ले रखा था। उधार के लगभग 25-30 हजार रुपये को लेकर कई दिनों से किराना दुकानदार राजेश लागातार मंचूरियन ठेलेवाले से अपने पैसे ख़ातिर तगादा कर रहा था। इसको लेकर दोनो के बीच कई बार बाताबाती व कहासुनी भी हुई थी।

जब राजेश ने अपने पैसे खातिर दबाव बढ़ाया तो राहुल ने कई बार उसे धमकाते हुए पैसे देने से साफ साफ 7के7इनकार कर दिया। हद तो तब हो गई जब राहुल ने राजेश गुप्ता को बकायदा फ़ोन कर गोली मार देने की धमकियां दे डाली। इसी विवाद ने मंगलवार को खुरेजी की शक्ल अख़्तियार कर लिया।

क्या है विवाद की वजह

मामले की जानकारी देते हुए पुलिस ने भी बताया कि मंगलवार को दो से ढाई बजे के बीच नयाटोला में किरान दुकानदार राजेश गुुुप्ता और मंचूरियन ठेला लगाने वाले काजीपुर निवासी राहुल के बीच बकाया पैसा को लेकर विवाद शुरु हो गया। मंचूरिया बनाकर बेचने वाले राहुल ने राजेश के किराना स्टोर से काफी पैसे का उधार खाद्य सामग्री लिया था।

                       इस बीच किराना दुकानदार राजेश के पिता गुप्ता जी का भी निधन हो गया था। उस दौरान में भी जब किराना दुकानदार राजेश ने राहुल से पैसे ख़ातिर तगादा किया तब भी आजकल देने की बात कहता रहा पर पैसा उसने नहीं दिया था। मंगलवार को किराना दुकानदार अपने कुछ साथियों के साथ लेकर उसके पास पैसा लेने गया था। उसकी ओर से पैसा नहीं देने पर किराना दुकानदार ने उसकी दुकान खोलने नहीं दे रहा था। पैसा को लेकर दोनों के बीच कहा सुनी शुरू हुई और फिर देखते देखते मामला हाथापाई तक पहुच गया। दोनो के बीच अभी धक्कामुक्की हो ही रही थी कि इसकी जानकारी गोलू को हुई।

जानकारी मिलते ही गोलू पिस्टल लेकर गली से निकला और किराना दुकानदार को मारने की नियत से ताबड़तोड फ़ायरींग कर दिया। संयोगवश वह गोली उसे नहीं लगी और गोली छात्रा को लग गई। जिससे वहां पर अफरातफरी की स्थिति उत्पन्न हो गई। लोगबाग इधर उधर भागने लगे।

जख्मी छात्रा की हुई पहचान

सरेआम दिनदहाडे हुई ताबड़तोड फ़ायरींग में घायल लड़की को इलाज के लिए PMCH में भर्ती कराया गया है। घायल लड़की का नाम तराना खातून है। सना मूल रूप से झारखंड के गोड्डा जिले की रहने वाली है। वह घटनास्थल स्थल के समीप ही स्थित मॉडर्न गर्ल्स हॉस्टल में रहकर पढ़ाई करती है। घटना के वक्त सड़क से गुजर रही थी तब उसे गोली लगी है। सना को पांव में घुटने के समीप गोली लगी है।फिलहाल वो हालत खतरे से बाहर बताई जा रही है।

दोनो लगातार बदल रहे है ठिकाने

सरेआम हुई इस गोलीबारी और छात्रा के घायल होने की वारदात के बाद से कदमकुआं थाना प्रभारी राकेश कुमार ने मामले की गम्भीरता को देखते हुए सर्वप्रथम तो घायल छात्रा से मुलाकात की बल्कि पूछताछ कर हक़ीक़त जानी। मामला स्पष्ट हो चुका है कि घायल छात्रा का इस खरेजी से कुछ लेनादेना नही है। यह महज संयोग रहा कि वो घटना के वक्त सड़क से गुजर रही थी और उसे गोली लग गई।वही, वारदात को अंजाम देकर शूटर फरार हो चुका था आसपास के लोग बयान देने से कतरा रहे थे। लेकिन पुलिस ने वारदात के महज घंटभर में ही अपने नेटवर्क से न केवल शूटर की पहचान कर ली बल्कि लगातार उसके हाईड आउट के ठिकानों पर छापेमारी शुरू कर दी है। गोलीबारी कर फरार हुए गोलू और राहुल लगातार अपने ठिकाने बदल रहे है। साथ ही अपना मोबाइल उसी वक्त ऑन कर रहे है जब उन्हें किसी से बात करनी होती है फिर तुरंत ही ऑफ कर देते है। खबर लिखे जाने तक पुलिस टीम लगातार उनके पीछे है। कभी भी दोनो की गिरफ्तारी हों सकती है।

Comments are closed.