बेधड़क ...बेलाग....बेबाक

BiG News – कलेजे के टुकड़े को 60 दिन बाद देखते ही फफक पड़ी माँ कहा-पुलिस के साहेबलोग हमरा ला भगवान जइसन

पति का इलाज़ कराने आई थी पटना, बेटे को गवाँ बैठी थी लेकिन सिटी एसपी विनय तिवारी के निर्देश पर पीरबहोर थाना पुलिस ने बच्चे को दिल्ली से किया बरामद

1,505

पटना Live डेस्क।बिहार की राजधानी में बच्चा चोरी के एक मामले में पुलिस को बड़ी सफलता मिली है। पटना पुलिस ने दो माह पूर्व पीएमसीएच(PMCH) से चोरी हुआ बच्चा बरामद कर लिया है। पीएमसीएच से चोरी हुआ बच्चा दिल्ली से बरामद किया गया है। इस मामले में महिला बच्चा चोर समेत कई लोग गिरफ्तार किए गए हैं। यही नहीं इस मामले के उद्भेदन के दौरान में पुलिस ने एक बेहद शातिर बच्चा चोर गिरोह का भी पर्दाफाश किया है। पुलिस ने न केवल गिरोह का भंडाफोड़ किया बल्कि इस गैंग को पूरी तरह ध्वस्त करते हुए एक महिला समेत 5 लोगो के इस पूरे गैंग धर दबोचा है। बकौल पुलिस के यह गैंग पहले भी इस तरह के काम करता रहा है।

पति का कराये आई थी इलाज गवा दिया था मासूम बेटा

अपने बच्चे को गोद मे लाड दुलार करती यह माँ दरअसल, 24 अगस्त को अपने पति का पीएमसीएच इलाज कराने आई थी। पति धर्मेंद्र चौपाल और मनीषा मूल रूप से समस्तीपुर के रहने वाले हैं। धर्मेंद्र को हार्ट प्रॉब्लम होने पर परिजन इनके इलाज़ खातिर ही पटना स्थित PMCH आए थे। धर्मेंद्र का इलाज चल रहा था।

घटना वाले दिन मासूम प्रिंस वह अपने पिता धर्मेंद्र चौपाल की नानी के साथ इमरजेंसी के पीछे स्थित मंदिर के चबूतरे पर खेल रहा था। उस वक्त उसकी मां मनीषा वहां पर मौजूद नहीं थी। तभी पुलिस गिरफ़्त में खड़ी इस शातिर महिला ने पीड़ित परिजनों को झांसे में लेकर महिला ने बच्चे को चुरा लिया था।हालांकि, यह पूरी घटना पटना पीएमसीएच के सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गई थी। जिसकी मदद से पुलिस ने बच्चा चोरी मामले का उद्भेदन किया है।

प्रिंस के चोरी होने और बरामदगी का पूरा सच

एक माँ के कलेजे के टुकड़े को 2 महिने के अथक प्रयास के बाद पटना की गलियों से दिल्ली की भूल भुलैया वाले महल्ले से सकुशल बरामद करने वाली पुलिस टीम को एक माँ ने लरज़ते शब्दो मे कुछ यूं दुआओं से नवाज़ते हुए कहा कि – “पुलिस के साहेबलोग हमरा ला भगवान जइसन है।माँ की गोद मे मचलते खिलखिलाते प्रिंस के लापता होने और बरामदगी का पूरा सच बताते हुए पटना सिटी एसपी ईस्ट विनय तिवारी ने पूरी कवायद के बाबत कहा कि यह मामला सामने आने के बाद इलाके में लगे सीसीटीवी फुटेज को खंगाला गया तो एक महिला बच्चा उठाते दिखी। यह पटना के ही गर्दनीबाग की रहने वाली है। इसे परसा बाजार से गिरफ्तार किया गया। महिला से पूछताछ में पता चला कि इस घटना में चार और लोग शामिल हैं।

एक-एक कर उन्हें भी अरेस्ट किया गया। इनसे विस्तृत पूछताछ में बच्चे को दिल्ली में एक लाख रुपये में बेचे जाने की जानकारी मिली। पटना पुलिस ने इसके बाद दिल्ली पुलिस से संपर्क कर विशेष टीम बनायी, जिसने दिल्ली से ही इस बच्चे को बरामद किया।

सिटी एसपी के अनुसार बच्चे को पैसे के लिए बेचा गया था। इसे खरीदने वाले भी आपराधिक प्रकृति के हैं। वे पहले भी जेल जा चुके हैं। वही, जब मानव तस्करी के बाबत पूछा गया तो उन्होंने इसमें ह्यूमन ट्रैफिकिंग का एंगल होने से इन्कार किया।

Comments are closed.